विज्ञापन
Hindi News ›   Technology ›   Tech Diary ›   you have to hide your secrets to Robots

रोबोट्स से भी छिपा कर रखने पड़ेंगे सिक्रेट्स

Updated Sun, 07 Feb 2016 07:21 PM IST
you have to hide your secrets to Robots
ख़बर सुनें

पिछले साल फरवरी में एक दक्षिण कोरियाई महिला अपने घर के फर्श पर सो रही थी जब रोबोट वैक्यूम क्लीनर ने उसके बाल निगल लिए। उसे इस हालत में तत्काल मदद के लिए फोन करना पड़ा। ये उस डरावने भविष्य की तरह लगता है जिसके बारे में प्रोफेसर स्टीफन हॉकिन्स ने हमें चेतावनी दी थी। उन्होंने चेताया था कि हम ऐसे भविष्य की ओर बढ़ रहे हैं जहां 'इंटेलीजेंट मशीनें मानव सभ्यता के अंत की इबारत लिखेंगी।' लेकिन ये घटना कम से कम रोबोट को अपने घर में रखने के अनपेक्षित खतरों के बारे में तो जरूर बताती है।



ये पूरी तरह से संभव है कि हम सबसे छिपा कर रखे गए अपने सिक्रेट्स को रोबोट के सामने खोल दें क्योंकि इनके 'क्यूट चेहरे' और 24 घंटे इर्द-गिर्द रहने से हम इन्हें परिवार के सदस्य जैसा मानने लगेंगे। ऐसे बहुत से उदाहरण हैं जब इंटेलीजेंट मशीनों ने गड़बड़ की है। लेकिन अक्सर ये शारीरिक खतरा बनने के बजाय धोखाधड़ी के मामले रहे हैं। अपराधियों के बनाए या इस्तेमाल किए जाने वाले मेलेवलेन्ट बॉट्स (दुष्ट रोबोट) अब सोशल मीडिया और अन्य जगहों पर बड़ी संख्या में पाए जाते हैं।


उदाहरण के लिए डेटिंड वेबसाइट टिंडर में रोबोट्स बार-बार घुस जाते हैं और खुद को इंसान बताकर यूजर्स को अपने वेबकैम इस्तेमाल करने या अपने क्रेडिट कार्ड की जानकारी बताने के लिए फुसलाते हैं। इसलिए यह ध्यान में रखना पड़ेगा कि विश्वास न करने योग्य रोबोट जल्द ही असली दुनिया का हिस्सा बन सकते हैं। ऐसे उदाहरण बढ़ते जा रहे हैं कि इंसान अपने सबसे बड़े रहस्य इंसानी शक्ल वाले रोबोट्स को बताने में नरम पड़ जाते हैं - खासकर बच्चे। ऐसे रोबोट्स की शक्ल कितनी ही प्यारी हो, उनके पीछे शोषण करने वाला कोड हो सकता है।

सामाजिक प्राणी बनने में लगेगा वक्त

robot technology2
एक बार आप किसी रोबोट को अपने घर ले आए तो आपको अपनी उम्मीदों को नियंत्रण में रखना होगा। फिल्मों में और मार्केटिंग के जरिए भले ही हमें ये बताया गया हो कि अपने रोबोटिक साथी के साथ आप दोस्त की तरह बर्ताव कर सकते हैं लेकिन जिस तरह की तस्वीर बनाई गई है वैसा 'सामाजिक प्राणी' बनने में रोबोट को वक़्त लगेगा। उम्मीदों और वास्तविकता के बीच खाई को देखते हुए 'जादूगर जैसे' फर्जी दावों से बचने की जरूरत है।

ऐसे मामलों में यूजर समझता है कि रोबोट खुद सभी हरकतें कर रहा है जबकि वास्तव में इसके कई कामों को कोई इंसान रिमोट के जरिए ऑपरेट कर रहा होता है। इसके व्यवहार का सही अनुमान न लगा पाने की स्थिति में तब गंभीर समस्या पैदा हो जाती है जब उपभोक्ता एक निर्जीव मशीन के साथ सहज महसूस करते हैं। वो इतना सहज महसूस करते हैं कि उसके सामने अपनी गुप्त सूचना का इस्तेमाल करने लगते हैं। ऐसा वो शायद कभी न करते यदि उन्हें पता होता कि कोई इंसान भी इससे जुड़ा हुआ है।

उदाहरण के लिए 'अदृश्य बॉयफ्रेंड' नाम की सेवा को लें। एक मासिक शुल्क देकर एक नकली प्रेमी रोमांटिक टेक्स्ट और वॉयस मेल संदेश आपके फोन पर भेजता है। हालांकि शुरुआत में कंपनी की कोशिश थी कि वह नकली प्रेमी को पूरी तरह स्वचालित (मशीनी) बनाए लेकिन तकनीक इतनी परिष्कृत नहीं थी, इसलिए मनुष्य ही कामुक संदेशों का आदान-प्रदान करते हैं। लेकिन सभी ग्राहकों को समझ नहीं आता कि यह सिस्टम काम कैसे करता है।

तकनीक का होगा दुरुपयोग

robot technology3
कृत्रिम बुद्धिमत्ता को लेकर जो 'हाइप' बना है, और जिस तरह से स्वचालित रोबोट ने अनेक बार सफलतापूर्वक लोगों को यकीन दिलाया है कि वह इंसान है, इससे लोग धोखा का जाते हैं। कुछ लोग गलती से यह मान लेते हैं कि उन्हें कम्प्यूटर के लिखे संदेश मिल रहे हैं। इसका मतलब साफ है- जैसे-जैसे रोबोट इंटरनेट से ज्यादा जुड़ते जाएंगे और स्वाभाविक भाषा का जवाब देने में सक्षम होते जाएंगे, आपको यह पहचानने में विशेष रूप से सावधानी बरतनी पड़ेगी कि आप किससे बात कर रहे हैं।

हमें इस पर भी भरपूर और ठीक से सोचने की जरूरत है कि सूचनाएं कैसे जमा और साझा की जा रही हैं, क्योंकि जब रोबोट की बात होती है तो वह आपकी हर हरकत को रिकॉर्ड कर सकते है। कुछ रिकॉर्डिंग उपकरणों को भले ही मनोरंजन के लिए बनाया गया हो लेकिन उन्हें आसानी से बुरे काम या नुकसान पहुँचाने में भी लगाया जा सकता है। उदाहरण के लिए निक्सी को लें। पहनने वाला यह कैमरा एक पल में आपकी कलाई से उड़ सकता है और ऊंचाई से आपके आसपास की तस्वीरें लेने लगता है।

यह समझने के लिए बहुत दिमाग लगाने की जरूरत नहीं है कि इस तकनीक का खासा दुरुपयोग हो सकता है। ज्यादातर लोग किसी रिकॉर्डिंग उपकरण की मौजूदगी में अपने रहस्यों को बचाकर रखते हैं और सावधानी बरतते हैं। लेकिन तब क्या होगा जब हम अपने घर में रोबोट की मौजूदगी के आदी हो जाएंगे।

रोबोट पर भी होगी कानूनी कार्रवाई?

robot technology4
अगर हमारे चारों ओर मौजूद तकनीक बातों, तस्वीरों और हरकतों को रिकॉर्ड और प्रोसेस करने लग जाए- आपके रहस्यों को छुप कर सुनने की बात तो रहने ही दीजिए- उस सूचना का क्या होगा? इसे स्टोर कहां किया जाएगा, इस तक पहुंच किसकी होगी? अगर इंटरनेट के इतिहास को देखें तो ये ब्यौरे विज्ञापन कंपनियों के लिए तो खरा सोना हैं।

अगर हम अपने जीवन में रोबोट्स को ज्यादा शामिल करते हैं तो हमारे काम और बातें आसानी से आम हो सकती हैं। तो रोबोट्स को अपने घरों, सार्वजनिक स्थानों और सामाजिक जीवन में लाने का सबसे सुरक्षित तरीका क्या है? हमें सावधानी के साथ सकारात्मक नजरिया रखना चाहिए। ये बहुत अच्छे साथी बन सकते हैं।

इसके साथ ही यह भी ध्यान रखना होगा कि ऐसे रोबोट्स के लिए कड़ी सीमा रेखा तय की जाए। हम लोग ग्राहक सुरक्षा संस्थाओं की पहुंच बढ़ाने या नई रोबोट-केंद्रित नीतियां बनाने पर विचार कर सकते हैं। जैसे रेडियो में प्रगति होने के बाद अमेरिका में फेडरल रेडियो कमीशन बना उसी तरह रोबोटिक्स में प्रगति के बाद एक ऐसी संस्था बनाई जानी चाहिए जो इसे समाज में शामिल किए जाने के मामले को देखे। एक ऐसी संस्था जिसके पास आप तब जा सकें जब रोबोट कोई अपराध करे, आपका क्रेडिट कार्ड चुरा ले या आपके बाल खा जाए।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all Tech News in Hindi related to live news update of latest mobile reviews apps, tablets etc. Stay updated with us for all breaking news from Tech and more Hindi News.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00