मेजबान महाराष्ट्र ने 228 पदक के साथ खेलो इंडिया ट्रॉफी जीती

स्पोर्ट्स डेस्क, अमर उजाला Published by: Mukesh Jha Updated Sun, 20 Jan 2019 08:05 PM IST
खेलो इंडिया
खेलो इंडिया
विज्ञापन
ख़बर सुनें
मेजबान महाराष्ट्र 85 स्वर्ण, 62 रजत और 81 कांस्य सहित कुल 228 पदक जीतकर खेलो इंडिया यूथ गेम्स (केआईवाईजी)-2019 में रविवार को ओवरऑल ट्रॉफी हासिल की। 
विज्ञापन


केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जावडे़कर और महाराष्ट्र के खेल मंत्री विनोद तावड़े ने शिव छत्रपति स्पोटर्स कॉम्पलेक्स के बैडमिंटन हॉल में आयोजित समापन समारोह में महाराष्ट्र के खिलाड़ियों और अधिकारियों को ट्रॉफी प्रदान की। 


जावडे़कर ने इस मौके पर कहा कि खिलाड़ियों के इस प्रदर्शन ने प्रधानमंत्री के 'पांच मिनट और' के संदेश को सार्थक किया है। साथ ही कहा कि सरकार हर स्कूल में एक घंटे के खेल पीरियड को लाने को लेकर प्रतिबद्ध है। 

तावड़े ने कहा कि वह 'सिर्फ पांच मिनट' नहीं चाहते बल्कि 50 मिनट चाहते हैं। उन्होंने खिलाड़ियों की हौसलाअफजाई भी की। महाराष्ट्र खेलो इंडिया स्कूल गेम्स 2018 के विजेता हरियाणा से आगे रहा। हरियाणा ने 62 स्वर्ण, 56 रजत और 60 कांस्य पदक सहित 178 पदक जीतकर दूसरा स्थान हासिल किया। 

दिल्ली 48 स्वर्ण, 37 रजत और 51 कांस्य पदक सहित 136 पदक जीतकर तीसरे स्थान पर रहा। खेलों के आखिरी दिन 15 स्वर्ण पदक दांव पर थे। इनमें से आठ पदक तीरंदाजी में थे, जहां मेजबान महाराष्ट्र, झारखंड और हरियाणा ने दो-दो पदक जीते। दिल्ली और पंजाब ने एक-एक पदक हासिल किया। 

हरियाणा ने हॉकी में महिलाओं के अंडर-21 वर्ग के फाइनल में स्वर्ण पदक जीता। यह हरियाणा का हाकी में तीसरा स्वर्ण है। उत्तर प्रदेश, बंगाल, तमिलनाडु और केरल ने वॉलीबाल में स्वर्ण पदक जीते। टेबल टेनिस में गुजरात के मानुश शाह ने अंडर-21 वर्ग में स्वर्ण अपने नाम किया जबकि पश्चिम बंगाल की सुरभि पटवारी ने महिलाओं के अंडर-21 वर्ग में सोने का तमगा हासिल किया।

वॉलीबाल में तमिलनाडु और केरल को स्वर्ण

तमिलनाडु और केरल ने खेलो इंडिया यूथ गेम्स में वॉलीबाल प्रतियोगिता के अंडर-21 में क्रमश: लड़कियों और लड़कों के वर्ग में स्वर्ण पदक जीते।

लड़कियों के फाइनल में तमिलनाडु ने केरल को 23-25, 11-25, 25-23, 25-18, 15-9 से हराया। पश्चिम बंगाल ने महाराष्ट्र को हराकर कांस्य पदक जीता। लड़कों के अंडर-21 के फाइनल में केरल ने तमिलनाडु को 21-25, 25-15, 25-23, 25-20 से पराजित किया जबकि उत्तर प्रदेश ने पंजाब को हराकर तीसरा स्थान हासिल किया। 

लड़कियों के अंडर-17 का स्वर्ण पश्चिम बंगाल ने महाराष्ट्र को 25-15, 25-13, 25-14 से हराकर जीता। इस वर्ग में केरल ने कांस्य पदक हासिल किया। उसने तीसरे स्थान के प्लेआफ में तमिलनाडु को हराया। 

उत्तर प्रदेश ने लड़कों के अंडर-17 में सोने का तमगा जीता। उसने फाइनल में गुजरात को 25-17, 25-20, 25-23 से हराया। इस वर्ग के तीसरे स्थान के मैच में तमिलनाडु ने केरल को पराजित किया। 

पारस-सचिन के स्वर्ण से तीरंदाजी में शीर्ष पर हरियाणा

सचिन गुप्ता और पारस हुड्डा ने लड़कों के क्रमश: अंडर-21 और अंडर-17 रिकर्व वर्ग में स्वर्ण पदक जीते जिससे हरियाणा खेलो इंडिया यूथ गेम्स की तीरंदाजी प्रतियोगिता में पदक तालिका में शीर्ष पर रहा। हरियाणा ने तीरंदाजी में दो स्वर्ण, दो रजत और तीन कांस्य पदक सहित कुल सात पदक जीते।

गुप्ता ने अंडर-21 वर्ग में आंध्र प्रदेश के बी धीरज को 2-1 से हराया। तेरह वर्षीय हुड्डा ने अंडर-17 वर्ग में अच्छी वापसी की। वह अपने साथी राहुल से एक समय पीछे चल रहे थे लेकिन उन्होंने वापसी करके आखिरी दो सेट जीते।  इस बीच महाराष्ट्र की साक्षी शितोल और इशा केतन पवार ने क्रमश: लड़कियों का अंडर-21 रिकर्व और अंडर-17 कंपाउंड वर्ग का स्वर्ण पदक जीता।

नए सितारों की चमक

मानवादित्य पिता के नक्शे कदम पर
2004 एथेंस ओलंपिक के डबल ट्रैप रजत विजेता और केंद्रीय खेल मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ के बेटे मानवादित्य ने राजस्थान की ओर से खेलते हुए अंडर-21 ट्रैप निशानेबाजी में 39 अंकों के साथ स्वर्ण पदक जीता।

मछुआरे की बेटी : मनीषा कीर
मध्यप्रदेश की मछुआरे की बेटी मनीषा कीर ने महिलाओं की अंडर-21 ट्रैप स्पर्धा में स्वर्ण पदक हासिल किया। विश्व जूनियर चैंपियनशिप में रजत पदक जीतने वाली मनीषा ओलंपियन मनशेर सिंह से प्रशिक्षण लेती हैं।

दस साल का चैंपियन : अभिनव 
10 साल के निशानेबाज अभिनव शॉ सबसे कम उम्र के चैंपियन बन गए। उन्होंने 10 मीटर एयर राइफल मिश्रित युगल में मेहुली घोष के साथ गोल्ड पदक जीता।  उनका नाम उनके माता-पिता ने ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतने वाले भारतीय शूटर अभिनव बिंद्रा के नाम पर रखा था। अब वे उसी राह पर चल निकले हैं। 

चौकीदार की बेटी बनीं मुक्केबाजी की चैंपियन
हिमाचल के किन्नौर जिले की विनाक्षी ने खेलो इंडिया यूथ गेम्स में 57 भारवर्ग में स्वर्ण पदक जीता। विनाक्षी के पिता जगन्नाथ सांगला फॉरेस्ट रेस्टहाउस में चौकीदार हैं। बेटी की उपलब्धि से माता-पिता बेहद खुश हैं।

उनके कोच ओपिंद्र नेगी ने बताया कि पहली बार पाइका खेलों में 2016 में रजत पदक जीता। 2018 में यूथ नेशनल में भी रजत पदक प्राप्त किया। 2018 में महाराष्ट्र में अंडर-19 स्कूल नेशनल में गोल्ड मेडल जीता। इसके बाद यूथ एशियन चैंपियनशिप इंडिया कैंप में 4 महीने तक प्रशिक्षण लिया।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Sports news in Hindi related to live update of Sports News, live scores and more cricket news etc. Stay updated with us for all breaking news from Sports and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00