पाकिस्तानी ने उड़ाई साक्षी की जीत पर खिल्ली, बिग बी ने दिया करारा जवाब

टीम डिजिटल / अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Tue, 23 Aug 2016 10:25 PM IST
साक्षी मलिक
साक्षी मलिक - फोटो : PTI
ख़बर सुनें
साक्षी मलिक ने जब कुश्ती में भारत के लिए रियो ओलंपिक में पहला पदक जीता तो पूरा भारत जश्न के रंग में रंग गया, यह भारत के लिए गर्व का पल था, लेकिन यह बात एक सरहद पार बैठे पाकिस्तानी पत्रकार उमर कुरैशी को हजम नहीं हुई। कुरैशी ने साक्षी की जीत पर व्यंग्य करते हुए ट्वीट किया, अंततः 119 खिलाड़ियों के दल ने एक पदक जीता वह भी कांस्य, लेकिन भारत के लोग ऐसे जश्न मना रहे हैं जैसे उन्होंने 20 स्वर्ण पदक जीत लिए हों।
फिर क्या था भारतीयों को उमर कुरैशी का टोंट कसना हजम नहीं हुआ और लोग उमर कुरैशी पर टूट पड़े। इन लोगों में बॉलीवुड के एंग्री यंग मैन और सुपर स्टार अमिताभ बच्चन भी शामिल थे। 

बिग बी ने कुरैशी को जवाब देते हुए ट्वीट किया और कहा मेरे लिए इस कांस्य पदक का मोल सौ स्वर्ण पदकों से ज्यादा है, लेकिन यह भी काफी नहीं है। मुझे गर्व है कि साक्षी एक भारतीय है और महिला भी। 

इसके बाद कुरैशी की ऐसी खिंचाई हुई जिसका उनके पास कोई जवाब नहीं था। लोगों ने कहा कि पाकिस्तान का एक भी एथलीट ओलंपिक के लिए क्वालीफाई नहीं कर सका। 
जाने माने पत्रकार शेखर गुप्ता ने कहा कि हमारे खिलाड़ी सरकारी नीतियों की वजह ले पदक नहीं जीत पा रहे हैं। लेकिन हम उनके प्रयासो को कमतर नहीं आंकते। 

मनीष सिंह नाम के एक युवक ने कुरैशी से पूछा,20 करोड़ जनसंख्या वाले देश का एक भी ओलंपिक के लिए क्वालीफाई नहीं कर सका इसके बारे में आप क्या कहेंगे। 
वहीं कांग्रेस नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा कि यदि बम बनाना, दूसरे पर उंगली उठाना, लड़ाई करना और आतंकवाद यदि पाकिस्तान के लिए खेल हैं तो निश्चित तैर पर वह तरक्की करेगा। 

RELATED

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Sports news in Hindi related to live update of Sports News, live scores and more cricket news etc. Stay updated with us for all breaking news from Sports and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Other Sports

अनुशासनहीनता के चलते फोगाट बहनों पर गिरी गाज, एशियन कैंप से बाहर

भारतीय कुश्ती संघ (डब्ल्यूएफआई) ने गुरुवार को कहा कि गंभीर अनुशासनहीनता के चलते राष्ट्रीय शिविर से बाहर की गईं फोगाट बहनों को वापसी के लिए अपनी गैरमौजूदगी का कारण स्पष्ट करना होगा।

18 मई 2018

Related Videos

आप सोच भी नहीं सकते कितने पुराने हैं ये खेल

आप जिन खेलो को बचपने से खेलते या देखते चले आ रहे हैं क्या आपको पता है कि वो कितने पुराने हैें। आइए आपको बताते हैं कि कितनी है इन खेलों की उम्र...

15 मार्च 2018

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen