मजदूरी करने को मजबूर एशियाड की सिल्वर मेडलिस्ट

Vikrant Chaturvedi Updated Tue, 14 Aug 2012 01:18 PM IST
asiad silver medallist santhi soundarajan labours at brick kiln
ख़बर सुनें
इसे देश का दुर्भाग्य ही कहेंगे कि जिस एथलीट ने दोहा एशियाई खेलों में भारत का परचम लहराया, वही खिलाड़ी आज ईंट के भट्टे पर 200 रुपए प्रतिदिन की मजदूरी करने को मजबूर है।
2006 में आयोजित दोहा एशियाड में भारतीय एथलीट शांति सुंदराजन ने 800 मीटर की दौड़ में देश को रजत पदक दिलाया था, लेकिन इसके बाद जेंडर टेस्ट में वे फेल हो गईं। जेंडर टेस्ट में फेल होते ही ऐथलेटिक्स फेडरेशन ऑफ इंडिया ने शांति पर प्रतिबंध लगा दिया। अब शांति अपनी आजीविका के लिए मजदूरी करने को विवश है।

शांति पिछले तीन माह से भट्टे पर काम कर रही हैं। उनके जिन हाथों ने कभी रजत पदक संभाला था, आज वही हाथ ईंट के भट्टे की गर्म राख से अक्सर जल जाते हैं। कभी-कभी तो उनके हाथ इस हद तक जल जाते हैं कि वे खाना खाने में भी असमर्थ हो जाती हैं।

शांति वर्ष 2010 से बेरोजगारी के चंगुल में फंसी हैं। शांति के साथ ही उनके माता-पिता भी भट्टे पर मजदूरी करते हैं। इससे पहले वे बच्चों को ऐथलेटिक्स की कोचिंग देती थीं, जिसके लिए उन्हें 5 हजार रुपए महीने की तनख्वाह मिलती थी। उन्होंने अपने जिले के डीएम से चपरासी की नौकरी देने की भी मांग की, लेकिन उन्हें नौकरी नहीं मिली।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Sports news in Hindi related to live update of Sports News, live scores and more cricket news etc. Stay updated with us for all breaking news from Sports and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Sports

जॉन सीना ने की शाहरुख की तारीफ, 'किंग खान' ने दिया ऐसा गजब जवाब

जॉन सीना पिछली बार WWE के सर्वाइवर सीरीज में स्मैकडाउन टीम की ओर से फाइट करते हुए नजर आए थे। इस फाइट में उन्हें कर्ट एंगल ने एलिमिनेट किया था।

24 दिसंबर 2017

Related Videos

तो क्या एम एस धोनी लेने जा रहे संन्यास!

इंग्लैंड से वनडे सीरीज में हारने के साथ ही सोशल मीडिया पर धोनी की रिटायरमेंट के कयास भी लगाए जाने लगे हैं। इंग्लैंड के हाथों 8 विकेट से हारने के बाद धोनी ने कुछ ऐसा किया, जिससे उनके चाहनेवाले ऐसा सोचने पर मजबूर हो गए।

18 जुलाई 2018

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen