विज्ञापन

वीरभद्रासन 1: योद्धाओं का आसन

रजवी एच मेहता Updated Mon, 18 Jun 2018 11:30 AM IST
Virabhadrasana
Virabhadrasana
विज्ञापन
ख़बर सुनें
अंग्रेजी के मशहूर लेखक विलियम शेक्सपीयर ने कहा था कि एक गुलाब एक गुलाब होता है अगर गुलाब को  कोई दूसरा नाम भी दे दिया जाता तो भी वह ऐसे ही महकता। सिद्धांतों के मुताबिक विलियम शेक्सपीयर का कहना बिल्कुल सही है लेकिन किसी के नाम को इतना तुच्छ भी नहीं समझना चाहिए। उदाहरण के तौर पर जब एक बच्चे का नामकरण किया जाता है तो अभिभावक उससे पहले कितना कुछ सोचते हैं। माता-पिता जैसे-तैसे अपने बच्चे का नाम नहीं रखते। नाम रखने से पहले कई सोच विचार किए जाते हैं। हमारी संस्कृति के अनुसार नाम रखना बहुत जरूरी होता है। बच्चे का नाम रखने के पीछे कई तरह की रस्में होती हैं। कई लोग तो इसमें राशि का भी इस्तेमाल करते हैं। माता पिता अपने बच्चे का नाम कई बार ऐसा रखते हैं जो वह भविष्य में अपने बच्चे को बनाना चाहते हैं। आपने कभी ऐसे माता-पिता नहीं देखे होंगे जिन्होंने अपने बच्चे का नाम रावण या दुर्योधन रखा हो लेकिन 100 से ज्यादा बच्चों के नाम राम रखे गए हैं। यही कारण है कि बच्चों का नामकरण करना काफी सोच विचार करने वाली पद्धति है। सिर्फ बच्चों का नाम रखना ही नहीं बल्कि अपने घरों का नाम रखना या ऑफिसों का नाम रखना भी काफी मुश्किल काम होता है। 
विज्ञापन
कभी कभी जब हम विदेश जाते हैं खासकर वेस्टर्न देशों में तो वहां के लोग भारतीय नामों का उच्चारण बहुत ही कठिनाई के साथ करते हैं। कई लोग तो नाम ही बदल देते हैं तो कई नाम को छोटा कर देते हैं। कुछ ऐसा ही योगासनों के नाम के साथ भी होता है। योगासनों का नाम साधुओं के दिखने या उनके अभ्यास करने के तरीकों से रखे गए हैं। 

जिस तरह से उच्चारण में सरलता लाने के लिए मनुष्यों के नाम को ट्रांसलेट कर दिया जाता है या बदल दिया जाता है ठीक उसी प्रकार योगासनों के नाम के साथ भी कुछ ऐसा ही होता है। योगासनों का बाहरी रूप देखते हुए कई आसनों को ट्रांसलेट कर दिया गया है या फिर नया नाम रख दिया गया है। जैसी की शेक्सपीयर ने कहा है गुलाब तो गुलाब है...योगासन का कुछ भी नाम हो कम से कम लोग योग का अभ्यास तो करते हैं लेकिन अगर हम आसनों को उनके सही नामों से पुकारेंगे तो हम बाहरी दिखावट को छोड़ गहराई से उसे जान सकेंगे। 

एक प्रकार के आसन का नाम अधो मुखा वृक्षासन हैं जिसे ट्रांसलेट कर फुल आर्म बैलेंस (पूर्ण हाथ संतुलन) कहा जाता है। इस आसन में हम अपने हाथों पर खड़े होते हैं और पूरा शरीर उल्टा हो जाता है। जब हम इसे फुल आर्म बैलेंस (पूर्ण हाथ संतुलन) कहते हैं तो हमारा ध्यान संतुलन पर जाता है और हाथों का इस्तेमाल इसे प्राप्त करने के लिए मजबूत शारीरिक प्रयास के तौर पर जाना जाता है। लेकिन अगर हम इसे अधो मुखा वृक्षासन कह कर पुकारते हैं तो यह हाथों और संतुलन से कहीं आगे दिखाई देता है। तब इसमें एक मजबूत वृक्ष की तस्वीर दिखाई देती है जो कि सीधे खड़ा होता है और आपको अपनी तरफ बुला रही होती है। जब यह फुल आर्म बैलेंस (पूर्ण हाथ संतुलन) हो जाता है तो इसका लक्ष्यार्थ पूरी तरह से शारीरिक नहीं रह जाता। 

हमारे बहुत से आसनों का नाम साधुओं और योद्धाओं पर रखा गया है ताकि हम उन जैसे बन सकें। सबसे ज्यादा धार्मिक और तात्विक लेख, भगवत गीता के बारे में युद्ध के मैदान में अर्जुन को बताया गया था।  आज हम जिस आसन के बारे में जानेंगे वह है वीरभद्रासन। योद्धा वीरभद्र पर तीन आसनों के नाम रखें गए हैं। वीर का मतलब योद्धा अथवा हीरो होता है और वीरभद्र को भगवान शिव का अवतार माना जाता है। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Religion

वो मुसलमान जिसने दिल्ली में गाय की क़ुर्बानी बंद करवाई

आख़िरी मुग़ल बादशाह बहादुरशाह ज़फ़र के शासन के अंतिम सालों में उन्होंने अपने पूर्वज अकबर की ही तरह गाय की क़ुर्बानी पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया था

22 अगस्त 2018

विज्ञापन

Related Videos

शादी के 6 महीने बाद नेहा धूपिया बनीं मां, बेटी को दिया जन्म

नेहा धूपिया और अंगद बेदी के घर बड़ी खुशी आई है। नेहा धूपिया और अंगद बेदी अब माता पिता बन चुके हैं उनके घर एक नन्ही परी ने जन्म लिया है। बता दें कि 6 महीने पहले ही  अंगद बेदी और प्रेग्नेंट नेहा धूपिया गुपचुप तरीके से शादी की थी।

18 नवंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree