विज्ञापन

अयंगर योगः खड़े होकर आसन करने का महत्व- त्रिकोणासन

रजवी एच मेहता Updated Mon, 18 Jun 2018 11:56 AM IST
त्रिकोणासन
त्रिकोणासन
विज्ञापन
ख़बर सुनें
आसन का मतलब एक मुद्रा होता है, इसके अलावा इसका एक और मतलब भी निकलता है और वो है 'सीट' । यही कारण है जो लोग संस्कृत या अपनी मूल भाषाओं में पारंगत हैं वह खुद को केवल आसन से जोड़ कर देखते हैं, जहां पर कोई व्यक्ति एक योगिक आसन के रूप में बैठा हुआ हो। बता दें, जब यह लोग किसी व्यक्ति को खड़े या फिर ऊपर से नीचे की ओर आसन करते हुए देखते हैं तो वह इस बात पर भ्रमित हो जाते हैं कि क्या यह वास्तव में कोई योगी आसन हैं या फिर कोई कलाकार यह आसन कर रहा है। कुछ लोगों को विश्वास हो गया है कि यह व्यायाम हैं न कि कोई आसन। खैर, हम यह बहस विद्वानों के लिए छोड़ सकते हैं। लेकिन जब बात हम जैसे आम लोगों की होती है तो हमें तब तक इन आसनों को करने में खुशी होती है जब तक यह हमें स्वस्थ और खुश रखने में हमारी मदद करते हैं या फिर कई विकारों को ठीक करने में हमारी मदद करते रहते हैं। इतना ही नहीं हमें तब तक इन आसनों को करने में खुशी होती है जब तक यह हमें जीवन से जुड़े कई उतार-चढ़ाव का सामना करने में हमारी मदद करते रहते हैं। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि उन्हें किस प्रकार वर्गीकृत किया गया है। आखिरकार, योग में सबसे प्रसिद्ध नाम लिए जाने वाले पतंजलि ने भी अपने किसी पाठ में कहीं यह नहीं कहा है कि आसन केवल बैठ कर एक स्थान पर किया जाता है। वह केवल इतना कहता है कि आसन की विशेषता उसकी स्थिरता है। आसन में सिर्फ शरीर शामिल नहीं होता बल्कि मानव अवतार के साथ उसका मन, बुद्धि और चेतना भी इसमें शामिल होते हैं। तो 'बैठने' और 'स्थिर' होने के लिए किस चीज की जरूरत होती हैं...तो इसका जवाब है सिर्फ मन, बुद्धि और चेतना। इन सब को  पूरी तरह से शरीर के भीतर होना चाहिए। इस प्रकार, सिर्फ बैठी हुई अवस्था में ही नहीं बल्कि कोई भी स्थिति आसन हो सकती है अगर मन पूरी तरह से शरीर के भीतर होता है। 
विज्ञापन
फर्श या किसी कुर्सी पर अपने पैरों को क्रॉस करके बैठने का प्रयास करते हुए विचारहीन होने का प्रयास करें। आप पाएंगे कि चंद मिनटों में ही आपका मन इधर-उधर भटकना शुरू कर देगा। अपने दिमाग को स्थिर रखना बहुत मुश्किल काम है। असल में, आप अपने दिमाग को जितना स्थिर रहने के लिए कहेंगे, उतना ही वह अधिक घूमता है। ऐसे में व्यक्ति को अपने दिमाग को प्रशिक्षण देना शुरू कर देना चाहिए। दिमाग को व्यस्थ रखने की जरूरत है ताकि वह इधर-उधर न घूम सके। बैठे रहने से ज्यादा जब हम खड़े होते हैं तो हम अधिक सतर्क बने रहते हैं। इसलिए मन को शरीर के भीतर रहकर योग करने के लिए प्रशिक्षित करने के लिए अयंगर परंपरा में खड़े होकर आसन करने की शुरुआत होती है। 

शरीर को किसी संरचना या भवन की तरह माना जा सकता है। आपके हाथ और पैर किसी खंभे और बीम की तरह हैं जो उस संरचना पर खड़े हैं। लेकिन अगर ये कमजोर होते हैं तो इससे पूरी संरचना प्रभावित होगी। अगर पैर कमजोर हैं तो समस्या सिर्फ पैरों तक नहीं रहती वह
पैरों के साथ हमारे शरीर के बाकी सिस्टम को भी प्रभावित करती है। उदाहरण के लिए, यदि हमारे घुटने खराब हैं, तो कुछ समय के लिए हमें दर्द सिर्फ घुटनों में महसूस होगा लेकिन थोड़े समय बाद यही दर्द आपकी कमर के निचले हिस्से को भी प्रभावित करना शुरू कर देगा। आपके घुटने आपके शरीर का भार नहीं ले सकेंगे जिसकी वजह से सारा भार पीठ पर चला जाएगा। जिसकी वजह से घुटनों के प्रभावित होने की वजह से हमारी गतिविधियां भी प्रभावित होनी शुरू हो जाती हैं, और जैसे ही हम चलना बंद करते हैं हमारे पाचन तंत्र के साथ हमारा उत्सर्जक और कार्डियक सिस्टम भी प्रभावित होना शुरू हो जाता है। इसलिए जब कभी शरीर का कोई हिस्सा बीमार होता है तो आपकी अस्वास्थ्यता धीरे-धीरे शरीर के बाकी हिस्सों में भी फैल जाती है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Religion

वो मुसलमान जिसने दिल्ली में गाय की क़ुर्बानी बंद करवाई

आख़िरी मुग़ल बादशाह बहादुरशाह ज़फ़र के शासन के अंतिम सालों में उन्होंने अपने पूर्वज अकबर की ही तरह गाय की क़ुर्बानी पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया था

22 अगस्त 2018

विज्ञापन

Related Videos

चेहरे पर मां सी दमक और बातों में पिता सा कॉन्फीडेंस, सारा ने ऐसे किया पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस का सामना

सैफ अली खान और अमृता सिंह की बेटी सारा अली खान अपनी डेब्यू फिल्म को लेकर दर्शकों के सामने आने के लिए तैयार हैं। सारा ने अपनी पहली ही प्रेस कॉन्फ्रेंस में जिस तरह खुलकर सवालों के जवाब दिए, उससे फिल्म इंडस्ट्री काफी प्रभावित हुई है।

14 नवंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls
Niine

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree