विज्ञापन

भगवान भाव के भूखे हैं, इसलिए मानस पूजा का विशेष महत्व है

इंद्रदेव वाचस्पति Updated Fri, 13 Jul 2018 03:52 PM IST
manas puja
manas puja
ख़बर सुनें
संत-महात्माओं का कथन है कि भगवान भाव के भूखे हैं, इसलिए मानस पूजा का विशेष महत्व है। इस पूजा को करते हुए साधक अपने आराध्य को मुक्ता-मणियों से जड़े सिंहासन पर विराजने का अनुरोध करता है, गंगाजल से स्नान कराता है, कामधेनु के दूध से पंचामृत तैयार करता है। 
विज्ञापन
विज्ञापन
पृथ्वी रूपी गंध, कुबेर की पुष्प वाटिका से कमल पुष्पों का चयन, भावना से धूप, दीपक तथा अमृत रूपी नैवेद्य अर्पित करता है। मानस पूजा का यह स्वरूप तीनों लोकों की सभी वस्तुएं परमात्मा के चरणों में भावना से अर्पण करता है। इसमें जितना भी समय लगता है, साधक सारा समय भगवान के संपर्क में बिताता है। वह अपने आराध्य के लिए पूजा के साधनों की कल्पना करता हुआ मन को यहां-वहां दौड़ाकर उन्हें मन ही मन 
में जुटाता है। 

मन को दौड़ाने की इस पद्धति में साधक को पूरी छूट मिल जाती है, जैसे- अपने आराध्य को आसन देना है, वस्त्र और आभूषण पहनाना है, चंदन लगाना है, मालाएं पहनानी हैं, धूप-दीप दिखलाना है और नैवेद्य निवेदित करना है।

Recommended

सवाल करियर का हो या फिर हो नौकरी से जुड़ा, पाएं पूरा समाधान जाने-माने ज्योतिषी से
ज्योतिष समाधान

सवाल करियर का हो या फिर हो नौकरी से जुड़ा, पाएं पूरा समाधान जाने-माने ज्योतिषी से

आप भी बन सकते हैं हिस्सा साहित्य के सबसे बड़े उत्सव "जश्न-ए-अदब" का-  यहाँ register करें-
Register Now

आप भी बन सकते हैं हिस्सा साहित्य के सबसे बड़े उत्सव "जश्न-ए-अदब" का- यहाँ register करें-

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Festivals

Mahashivratri 2019 : सिद्धि के लिए इस रात्रि करें साधना, महादेव देंगे मनचाहा वरदान

हर महीने की कृष्णपक्ष की चतुर्दशी को शिवरात्रि होती है, लेकिन फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष को पड़ने वाली शिवरात्रि को महाशिवरात्रि कहते हैं। भगवान शिव की साधना से जुड़े इस महापर्व पौराणिक महत्व के बारे में जानने के लिए पढ़ें ये लेख —

21 फरवरी 2019

विज्ञापन

इस मंदिर में भगवान शिव को चढ़ाए जाते हैं केकड़ें, ये है वजह

लोग भगवान को खुश करने के लिए और अपनी मनोकामनाएं पूरी करने के लिए ना जाने क्या-क्या करते हैं। गुजरात में भगवान शिव का एक ऐसा मंदिर भी है जहां भगवान को खुश करने के लिए केंकड़ों का चढ़ावा चढ़ाया जाता है। ऐसा क्यों है देखिए इस रिपोर्ट में।

1 फरवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree