विज्ञापन

पांचों ज्ञानेन्द्रियों से हम जो कुछ समझते हैं, उसे ज्ञान कहते हैं

प्रस्तुति- साधु निसर्ग दत्त Updated Sat, 09 Jun 2018 10:19 AM IST
knowledge obtained with the help of indriyas is called gyan
ख़बर सुनें
विज्ञान एक ऐसा तरीका या विधि है, जिस पर भरोसा किया जा सकता है। तर्क और तथ्य पर जो तरीका आधार बना, वह परंपराओं की प्रतिक्रिया के रूप में आया, लेकिन ऐसा था नहीं। लोग इस नतीजे पर पहुंचे कि ऐसी किसी भी चीज का अस्तित्व नहीं हो सकता, जो तार्किक तौर पर सही नहीं हो। तर्क के प्रति इस समर्पण के चक्कर में हमने जिंदगी के आनंद को खो दिया। इससे एक ऐसा समाज विकसित हुआ, जो अधीनस्थ को मानता है और उपहार की अपेक्षा करता है।
विज्ञापन
विज्ञापन
पूर्वी देशों में भी ऐसी ही सोच रही है, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि हमारा आधार वैज्ञानिक नहीं है। बहुत कुछ इस बात पर निर्भर है कि हम बुद्धि चाहते हैं-तेज या मंद? जाहिर है, तेज ही चाहेंगे। बुद्धि के जरिए चीजों और प्रवृत्तियों को अच्छी तरह समझा जा सकता है। योग विज्ञान में इंसान की प्रज्ञा के चमत्कारों को अच्छी तरह समझाया गया है।

अगर प्रज्ञा या मेधा पर भरोसा नहीं करेंगे, तो सब ऐसे ही चलता रहेगा। इंसान की प्रज्ञा के और भी कई पहलू हैं। अलग-अलग खंडों में विभाजित है। अगर दूसरे पहलुओं पर भी ध्यान दिया जाए, तो वैज्ञानिक कहीं ज्यादा उपयुक्त चीजें बना पाएंगे। यह समझना होगा कि वास्तव में देखना किसे कहते हैं? अभी हम या कोई भी व्यक्ति ऐसी स्थिति में नहीं है कि सही में अपने आपको देख सके। अपने आसपास तो देख सकते हैं, लेकिन अपनी आखों की पुतली को अंदर की तरफ घुमाकर अपने भीतर की छानबीन नहीं कर सकते।

हाथ पर कोई चींटी भी चले तो आपको उसका अहसास हो जाता है, लेकिन शरीर के भीतर जो खून दौड़ रहा है, उसे महसूस नहीं कर सकते, क्योंकि आपकी ज्ञानेन्द्रियों का रुख बाहर की ओर है। जीवन गुजारने की क्षमता कुदरती रूप से आती है, लेकिन कुछ जानना चाहें तो उसके लिए कोशिश करनी ही होगी। इसे बताने का एक तरीका है, जिसे बोलचाल की भाषा में विज्ञान कहते हैं। विज्ञान का अर्थ है विशेष ज्ञान। पांचों ज्ञानेन्द्रियों से हम जो कुछ समझते हैं, उसे ज्ञान कहते हैं। जो समझ नहीं पाते, फिर भी उसका बोध किया जा सकता है, उसे विज्ञान कहते हैं।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Festivals

Shani Pradosh Vrat 2019 : शनि प्रदोष व्रत आज, इस पूजा से प्रसन्न होंगे महादेव

Shani Pradosh Vrat 2019 : भगवान शिव को प्रसन्न करने वाले सभी व्रतों में प्रदोष व्रत बहुत जल्दी ही उनकी कृपा और शुभ फल दिलाता है। पढ़े व्रत की विधि एवं महात्म्य —

18 जनवरी 2019

विज्ञापन

कुंभ: नहाने के बाद खाने की भी सुविधा

देवनगरी प्रयागराज की त्रिवेणी संगम नगरी में चल रहे अर्धकुंभ के अवसर पर सभी लोग गंगा में शाही स्नान कर रहे हैं। बता दें कि 'भईया जी का दाल भात' नाम की संस्था ने लोगों को निशुल्क राजमा चावल का भोजन कराया।

17 जनवरी 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree