विज्ञापन

अयंगर योगः तनाव को दूर करता है शवासन

रजवी एच मेहता Updated Sun, 15 Jul 2018 08:03 AM IST
 Iyengar Yoga: Savasana
विज्ञापन
ख़बर सुनें
अक्सर आपने देखा होगा कि किसी कंपनी या संगठनों में काम करने वाले लोग अपने सहयोगियों को उनकी कार्यक्षमता बढ़ाने व उनमें उत्साह पैदा करने के लिए साहस भरी बातें बताते हैं। जैसे कि 'आप ये कर सकते हो। आप जो चाहते हो उसे हासिल कर सकते हो। आपको अपने जीवन के लक्ष्यों के लिए योजना बनानी चाहिए।' यह बातें किसी को भी अच्छी लगेगी लेकिन इसके बावजूद कई बार आपको जीवन में वो हासिल नहीं हो पाता जिसकी इच्छा आपको रहती है। 
विज्ञापन
दरअसल, जीवन भी कुछ इसी प्रकार है। जो योजनाएं हम अपने जिंदगी संवारने के लिए तैयार करते हैं कई बार वहीं हमारे लिए विपरीत साबित हो जाती हैं। फिर हम ये कहने लगते हैं कि शायद यही हमारे भाग्य को मंजूर होगा। यही वजह कि जितना हम अपने बच्चों के जीवन को व्यवस्थित करने के लिए उन्हें सिखाते हैं, वैसे ही हमें खुद भी सीखने की जरूरत होती है।

ऐसे में हमे सीखने की जरूरत होती है कि जीवन में सभी चीजें प्लानिंग के मुताबिक ही नहीं चलती। कभी-कभी परिस्थिति उससे अलग भी होती है। दरअसल, हम पहले पहलू पर ही सबसे ज्यादा जोर डालते हैं जबकि दूसरा पहलू तो हमसे छूट ही जाता है। शायद यही वजह है कि जब इंसान पदोन्नती के लिए कड़ी मेहनत और प्लानिंग करता है इसके बावजूद भी अगर उसे निराशा हाथ लगती है तो संभवत: वह हताश और निराश हो जाता है। धीरे-धीरे हमारी असफलता दुख में तब्दील होने लगती है और फिर यह कारण बनती है ईर्ष्या और क्रोध का।

ऐसे में हमारा मन सोचने लगता है कि जिस व्यक्ति को मेरी जगह पदोन्नती मिली है वह मुझ जितना काबिल तो नहीं है। न ही उसने कभी मेरे जितनी मेहनत की है। फिर भी आज कामयाबी उसके कदम चूम रही है। ये सवाल हम खुद से पूछने लगते हैं लेकिन इनका उत्तर हमें कभी मिल ही नहीं पाता। 

यही स्थिति हमारे दिमाग पर एक उदासी का पर्दा डाल दाती है जिसे हटा पाना खुद के लिए काफी मुश्किल हो जाता है। कुछ समय बीतने के बाद फिर हम खुद को उसी स्थिति में पाते हैं। हम उसी उम्मीद की रथ पर सवार होते हैं जिस पर कि पहले थे, जिनमें से कुछ उम्मीदें पूरी हो पाती हैं तो कुछ बाकी रह जाती हैं। लेकिन उम्मीद के रथ का पहियां यूं ही चलती रहती है।   
विज्ञापन
आगे पढ़ें

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Religion

वो मुसलमान जिसने दिल्ली में गाय की क़ुर्बानी बंद करवाई

आख़िरी मुग़ल बादशाह बहादुरशाह ज़फ़र के शासन के अंतिम सालों में उन्होंने अपने पूर्वज अकबर की ही तरह गाय की क़ुर्बानी पर पूरी तरह प्रतिबंध लगा दिया था

22 अगस्त 2018

विज्ञापन

Related Videos

बुढ़ापे में दो बेटियों की जिद के आगे इस तरह मजबूर हो गए महेश भट्ट

मशहूर फिल्ममेकर महेश भट्ट अपनी ही फिल्म सड़क की सीक्वेल से 20 साल बाद डायरेक्टर तो बनने जा रहे हैं लेकिन जितना स्ट्रगल उन्हें अब करना पड़ रहा है इतना तो महेश भट्ट को करियर की शुरूआत में भी नहीं करना पड़ा था।

20 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree