दृढ़ संकल्प और मजबूत इरादे से सफलता मिलनी तय है

ज्योत्सना Updated Fri, 06 Jul 2018 11:29 AM IST
success
success
विज्ञापन
ख़बर सुनें
डर क्या है? यह एक क्षण मात्र है। अगर व्यर्थ की बातों से डरते रहे, तो सफल कैसे होंगे? केवल वर्तमान क्षण का ध्यान रखें, तो व्यर्थ की कल्पनाएं और भ्रम क्यों सताएंगे? प्राचीन समय में जब कोई असुर तपस्या करता था, तो देवता उसका तप भंग करने का प्रयास करते थे। हर तरह से उसे परेशान किया जाता, लेकिन असुर फिर भी तपस्या में दृढ़ रहता, तो प्रकृति स्वयं उसके लिए दुर्ग बनकर खड़ी रहती। आखिर वह वांछित वरदान पाकर ही लौटते था।
विज्ञापन


जो संकल्प में दृढ़ रहे, उन्हें कुछ भी पाने से ईश्वर भी नहीं रोक सकता। महात्मा गांधी बहुत ही सीधे सरल व्यक्ति थे। लेकिन जिस ब्रिटिश साम्राज्य को कोई नहीं हिला सकता था, गांधी जी ने उसके पांव तले की जमीन हिला दी। यह उनके दृढ़ संकल्प का ही फल था। संकल्प को पूरा करने के लिए वे दृढ़ता से कार्यरत हो गए थे। बेवजह का भय होना सहज या प्राकृतिक नहीं है। उसे रूप देने वाले आप ही हैं। डर के बिना जीना सीख लें, तो आप पाएंगे कि जिंदगी में अवसर ही अवसर हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स, परामनोविज्ञान समाचार, स्वास्थ्य संबंधी योग समाचार, सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00