दर्पण में भगवान की झांकी

आचार्य श्रीराम शर्मा Updated Sat, 30 Jun 2018 01:08 PM IST
Know about the various aspects of meditation
ख़बर सुनें
पंचतत्व से बने शरीर में दिव्य, देव सत्ता विद्यमान है। उसकी सामर्थ्य में कोई कमी नहीं। उसके ऊपर छाए कुसंस्कारों को हटाना और स्वच्छता अभियान हाथ में लेना है। उपासना के लिहाज से ईश्वर दर्शन का सर्वोत्तम रूप यह है कि भीतर बैठे परमात्मा की झांकी को झांका जाए। उपाय में एक दर्पण सामने रखना जरूरी है। उसमें अपनी जो छवि दिखे, उसे दिव्य देवालय मानें और भावना के आधार पर भीतर निराकार की स्थापना करें। दर्पण में खुद को देखते हुए समझें कि यह ईंट-चूने से बनी इमारत है। देवता इसके भीतर बैठा है।
निराकार है तो भी विश्व में, काया में सर्वत्र समाया हुआ है। काया में आत्मा की उपस्थिति का विश्वास दर्पण देखने की क्रिया का प्रथम चरण है। दूसरे चरण में उसे सर्व समर्थ और पवित्र होने की भावना का विकास करें। पूजा वेदी के पास जाते ही सबसे पहले स्वच्छता का काम करना है। पुजारी मंदिर में जाने से पहले स्नान करता और धुले कपड़े पहनता है। फिर देवालय के सभी उपकरणों की सफाई, प्रतिमा के आवरण आभूषणों को सुव्यवस्थित करता है, देवालय में बुहारी लगाता है और पूजा पात्रों को मांजता-धोता है। फिर पूजा शुरु करता है।

दर्पण में अपनी आकृति देख लेना भर पर्याप्त नहीं है। उसमें प्राण-प्रतिष्ठा जैसी भावना का समावेश करना चाहिए।पूजा का तीसरा चरण प्रतिमा की सजावट है। उसे भगवान का प्रतिनिधि मानकर पूजा उपचार की सामग्री अर्पित करना जरूरी है। सद्गुण ही आत्मदेव की सर्वोत्तम शोभा सज्जा है। बाहरी प्रकाश बाहरी क्षेत्र को प्रकाशित करता है, और आंतरिक प्रकाश अन्तःक्षेत्र को।

आत्म-ज्योति का दर्शन भाव नेत्रों से हृदय स्थान में करना चाहिए। उसका प्रकाश अंतराल की सभी दिव्य विभूतियों, सूक्ष्म शक्तियों को जागृत और आलोकित करती है। इतनी सी साधना दस मिनट में की जा सकती है। उसे आधे घंटे तक बढ़ाया भी जा सकता है। यह दर्पण हर काम में न लाया जाए। मात्र पूजा के लिए ही प्रयुक्त किया जाए। प्रातःकाल का समय सर्वोत्तम है। 

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all spirituality news in Hindi related to religion, festivals, yoga, wellness etc. Stay updated with us for all breaking news from fashion and more Hindi News.

Spotlight

Most Read

Wellness

सीख: अपनों के साथ किए गए श्रम का फल जैसा भी हो, वह अधिक संतोषजनक होता है

छोटे से गांव के एक आदमी की कहानी, जिसने रामचंद्र जी को मेहनत और परिवार का महत्व समझाया।

17 जुलाई 2018

Related Videos

स्तनपान है मां और बच्चे दोनों के लिए वरदान

मां का दूध बच्चे के लिए वरदान होता है। हालिया रिपोर्ट भी इसी ओर संकेत करते हैं। यूनीसेफ की एक रिपोर्ट के अनुसार स्तनपान से हर साल 8,20,000 बच्चों की जान बचाई जा सकती है।

12 मई 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen