विज्ञापन
विज्ञापन

इन पांच योद्धाओं ने रामायण और महाभारत दोनों में निभाई भूमिका

धर्म डेस्क, अमर उजाला Updated Wed, 20 Nov 2019 08:53 AM IST
mahabharat
mahabharat
ख़बर सुनें
रामायण और महाभारत काल में एक से बढ़कर एक योद्धा और शूरवीर हुए। रामायण में जहां भगवान राम और रावण के बीच युद्ध हुआ था, वहीं महाभारत काल में पांडवों और कौरवों की बीच कुरुक्षेत्र के मैदान में 18 दिनों तक भंयकर युद्ध लड़ा गया। रामायण और महाभारत में कुछ ऐसे योद्धा थे जिसमें दोनों नें अपनी भूमिका निभाई। आइए जानते हैं ऐसे ही पांच पौराणिक पात्रों के बारे में....
विज्ञापन
परशुराम
परशुराम भगवान शिव के अवतार थे। परशुराम का जन्म ब्राह्राण कुल में हुआ था। ब्राह्राण कुल में पैदा होने के बाद भी उनके अंदर क्षत्रियों जैसा गुण था। भगवान परशुराम रामायण और महाभारत काल दोनों में उपस्थित थे। परशुराम ने रामायण काल में सीता स्वयंवर में धनुष टूटने के बाद भगवान राम को चुनौती दी थी। वहीं महाभारत काल में परशुराम जी ने कर्ण और पितामह भीष्म को अस्त्र-शस्त्र की शिक्षा भी दी थी।

भगवान हनुमान
हनुमानजी को कलयुग में जीवित देवता माना जाता है और ऐसा कहा जाता है कि वह आज भी इस धरती पर विचरण करते हैं। हनुमानजी रामायण में प्रभु राम की वानर सेना का नेतृत्व किया था। महाभारत काल में भीम को हनुमान जी ऐसे समय में मिले जब महाभारत युद्ध की संभावना बनने लगी थी। उस समय हनुमान जी ने भीम को वचन दिया था कि युद्ध के समय वह अर्जुन की रथ पर रहेंगे और पाण्डवों को विजयी बनाने में सहयोग करेंगे।

मयासुर
रावण का ससुर और मंदोदरी का पिता राक्षस मयासुर था। वह रामायण और महाभारत के समय दोनों समय मौजूद था। महाभारत काल में भगवान श्री कृष्ण ने जब इसके प्राण लेने चाहे तब अर्जुन ने मायासुर को जीवनदान दिलाया था। इससे प्रसन्न होकर मायासुर ने खंडवप्रस्थ को इंद्रप्रस्थ बनाने में सहयोग किया और माया भवन बनाया। इसी भवन में दुर्योधन मायाजाल में उलझकर पानी में गिर पड़ा था और द्रौपदी ने दुर्योधन का उपहास किया था।

जामवंत
जामवंत की इच्छा थी भगवान राम से मल्लयुद्ध करें। राम जी ने इन्हें वचन दिया कि अगले अवतार में वह इस इच्छा को पूर्ण करेंगे। एक बार श्री कृष्ण एक गुफा में गए। इस गुफा में जामवंत रहता था। जामवंत के साथ 8 दिनों तक श्री कृष्ण युद्ध करते रहे। इसके बाद जामवंत को एहसास हुआ कि श्रीकृष्ण वास्तव में उनके प्रभु राम हैं। इसके बाद जामवंत ने अपनी पुत्री जामवंती का विवाह श्रीकृष्ण से कर दिया।

महर्षि दुर्वासा
महर्षि दुर्वासा भी एक ऐसे महापुरुष हैं जिन्होंने रामायण भी देखा और महाभारत भी। एक कथा के अनुसार दुर्वासा के शाप के कारण लक्ष्मण जी को राम जी को दिया वचन भंग करना पड़ा था। महाभारत काल में इन्होंने कुंती को संतान प्राप्ति का मंत्र दिया था। इन्होंने दुर्योधन का आतिथ्य स्वीकार किया था।
विज्ञापन

Recommended

प्रथम श्रेणी के दुग्ध उत्पादों के लिए प्रतिबद्ध है धौलपुर फ्रेश
Dholpur Fresh

प्रथम श्रेणी के दुग्ध उत्पादों के लिए प्रतिबद्ध है धौलपुर फ्रेश

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक : 14-दिसंबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Wellness

जानें दिसंबर में जन्मे लोगों का कैसा होता है स्वभाव, क्या हैं इनके अच्छे और बुरे गुण

आज हम जानेंगे कि दिसंबर माह में पैदा हुए लोगों का स्वभाव कैसा होता है। वे समाज में अपने आपको किस रूप में स्थापित करते हैं। दूसरों के लिए उनका व्यवहार कैसा होता है।

13 दिसंबर 2019

विज्ञापन

राष्ट्रपति की मंजूरी के साथ ही नागरिकता संशोधन बिल बना कानून, अब देश में होंगे ये अहम बदलाव

पाकिस्तान-बांग्लादेश-अफगानिस्तान से आए हुए हिंदू-जैन-बौद्ध-सिख-ईसाई-पारसी शरणार्थी आसानी से भारत की नागरिकता हासिल कर पाएंगे. गुरुवार देर रात राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने लोकसभा-राज्यसभा से पास हुए नागरिकता संशोधन विधेयक को मंजूरी दे दी।

13 दिसंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls
Safalta

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election