लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Spirituality ›   Religion ›   Panchak November 2022 Kab Hai Date Time Know Do’s And Don'ts During Agni Panchak In Hindi

Panchak November 2022: शुरू हो चुका है पंचक, इस दौरान न करें ये काम, वरना हो सकता है नुकसान

धर्म डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: आशिकी पटेल Updated Wed, 30 Nov 2022 02:53 PM IST
सार

Panchak November 2022: हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह में पांच दिन ऐसे आते हैं, जिनका विशेष महत्व होता है। ये पांच दिन पंचक के नाम से जाने जाते हैं। 

Panchak March 2022:
Panchak March 2022: - फोटो : amar ujala
विज्ञापन

विस्तार

Panchak November 2022: हिंदू पंचांग के अनुसार प्रत्येक माह में पांच दिन ऐसे आते हैं, जिनका विशेष महत्व होता है। ये पांच दिन पंचक के नाम से जाने जाते हैं। शास्त्रों के अनुसार, जब चंद्रमा का गोचर घनिष्ठा, शतभिषा, पूर्वा भाद्रपद, उत्तरा भाद्रपद और रेवती नक्षत्र में होता है तो पंचक लगता है। वहीं जब चंद्रमा का गोचर कुंभ और मीन राशि में होता है, तो भी 'पंचक' की स्थिति बनती है। कई जगहों पर पंचक को 'भदवा' के नाम से भी जाना जाता है। मार्गशीर्ष माह में पड़ने वाला पंचंक 29 नवंबर 2022 दिन मंगलवार को शाम 7 बजकर 51 मिनट से शुरू हो चुका है। ये 4 दिसंबर 2022 दिन रविवार को प्रातः काल 6 बजकर 16 मिनट पर खत्म होगा। पंचक के दौरान कुछ कार्यों को करने की मनाही होती है। आइए जानते हैं उन कार्यों के बारे में...  



Kharmas 2022: इस साल कब से लग रहा है खरमास? जानें इस दौरान क्या करें और किन कार्यों को करने से बचें


ज्योतिष के अनुसार, जब पंचक मंगलवार के दिन शुरू होता है तो इसे अग्नि पंचक कहते हैं। मान्यता है कि इस दौरान आग लगने या फैलने का खतरा अधिक बढ़ जाता है। 

अग्नि पंचक में क्या न करें?

  • ज्योतिष मान्यताओं के अनुसार, अग्नि पंचक के दौरान आग से संबंधित नए कार्य नहीं करने चाहिए। 
  • जब से पंचक प्रारंभ हो रहा है, तब से नए चूल्हे को नहीं जलाना चाहिए। उसका उपयोग नहीं करना चाहिए। 
  • शास्त्रों के अनुसार, अग्नि पंचक के दौरान यज्ञ या हवन के लिए अग्नि नहीं जलानी चाहिए। इसमें हवन, यज्ञ आदि वर्जित माने गए हैं। 


ये कार्य भी नहीं करने चाहिए 

  • ज्योतिष मान्यताओं के अनुसार, पंचक के दौरान चारपाई नहीं बनवानी चाहिए, ऐसा करने से व्यक्ति के ऊपर संकट आने की संभावना बनी रहती है।
  • पंचक के दौरान घास, लकड़ी, आदि जलने वाली वस्तुएं एकत्र नहीं करनी चाहिए।
  • पंचक के दौरान दक्षिण दिशा में यात्रा करना शुभ नहीं माना जाता है। दरअसल यह दिशा यम और पितरों की मानी गई है।
  • पंचक के दौरान घर की छत नहीं बनवानी चाहिए। ऐसा करने से घर में क्लेश और धन की हानि हो सकती है।
Makar Sankranti 2023: 14 या 15 जनवरी, नए साल में कब मनाई जाएगी मकर संक्रांति? जानें सही तारीख और मुहूर्त 
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00