विज्ञापन

दिसंबर महीने के दूसरे हफ्ते के प्रमुख व्रत और त्योहार

धर्म डेस्क, अमर उजाला Updated Mon, 09 Dec 2019 08:39 AM IST
वर्तमान सप्ताह का शुभारंभ मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि के साथ हो रहा है
वर्तमान सप्ताह का शुभारंभ मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि के साथ हो रहा है
ख़बर सुनें
वर्तमान सप्ताह का शुभारंभ मार्गशीर्ष शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि के साथ हो रहा है। दिसंबर महीने का यह सप्ताह व्रत एवं त्योहारों के लिए खास है। सप्ताह की शुरुआत जहां प्रदोष व्रत से हो रही है तो वहीं इसका अंत चतुर्थी व्रत से होगा। आइए इस सप्ताह के व्रत एवं त्योहारों पर डालते हैं एक नजर....
  • 9 दिसंबर 2019, सोमवार
    विज्ञापन
    प्रदोष व्रत, अखंडा द्वादशी                                                                                                                                                        प्रदोष व्रत                                                                                                                                                                              हिंदू धर्म में प्रदोष व्रत का बहुत महत्व होता है। इस दिन भगवान शिव की उपासना की जाती है। यह व्रत हिंदू चंद्रमास के 13वें दिन आता है। कहते है इस दिन व्रत करने वाले लोगों को दो गायों का दान करने के बराबर फल मिलता है। प्रदोष में व्रत और पूजा-पाठ करने से इंसानों को पापों से मुक्ति मिलती है। इस दिन शंकर भगवान के साथ माता पार्वती की भी पूजा की जाती है।                                                                                                                                                               
  • 11 दिसंबर 2019, बुधवार
    रोहिणी व्रत                                                                                                                                                                              जैन समुदाय के लिए रोहिणी व्रत का विशेष महत्व होता है। ह व्रत महिलाओं द्वारा अपने पति की लम्बी उम्र के लिए किया जाता है। यह व्रत रखने से मां रोहिणी जातक के घर से कंगाली को दूर भगाकर सुख एवं समृद्धि की वर्षा करती हैं।                                                                                                                                                                                                   
  • 12 दिसंबर 2019, गुरुवार 
    पूर्णिमा व्रत                                                                                                                                                                              सनातन धर्म और ज्योतिष शास्त्र में तिथियों का विशेष महत्व होता है। हिंदू पंचांग के अनुसार पूर्णिमा और अमावस्या की तिथि मनुष्यों पर विशेष प्रभाव डालती है। हिन्दू पंचांग के मुताबिक साल में 12 पूर्णिमा और 12 अमावस्या आती हैं। प्रत्येक महीने के 30 दिन को चन्द्र काल के अनुसार 15-15 दिन के दो पक्षों में विभाजित किया गया है। एक पक्ष को शुक्ल पक्ष तो दूसरे पक्ष को कृष्ण पक्ष में बांटा गया है। जब शुक्ल पक्ष चल रहा होता है उसके अन्तिम दिन यानी 15वें दिन को पूर्णिमा कहते हैं वहीं जब कृष्ण पक्ष का अंतिम दिन होता है तो वह अमावस्या होती है।                                                                                                                                                                                                                                                                पूर्णिमा वाले दिन चांद अपने पूरे आकार में होता है। यानी जिस दिन आकाश में चंद्रमा अपने पूरे आकार में दिखाई देता हो उस दिन पूर्णिमा होती है। पूर्णिमा प्रत्येक महीने में एक बार जरूर आती है। धर्म ग्रंथों में  पूर्णिमा को विशेष लाभकारी और पुण्यदायी होती है। हिन्दू धर्म में पूर्णिमा के दिन दान, स्नान और व्रत रखने की परंपरा होती है।                                                                                                                                                                             
  • 15 दिसंबर 2019, रविवार 
    चतुर्थी व्रत                                                                                                                                                                         संकष्टी चतुर्थी की पावन तिथि पर देवता भगवान श्री गणेश जी की पूजा की जाती हैं। इस दिन बुद्धि, समृद्धि, सौभाग्य का आशीर्वाद प्रदान करने वाले गणपति की पूजा का अत्यधिक महत्व है। भगवान श्री गणेश की पूजा करने से सभी संकटों से मुक्ति मिलती है। संकष्टी चतुर्थी के दिन गणपति की साधना-उपासना और व्रत करने पर साधक की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और उसे शुभ फल प्राप्त होते हैं। 
विज्ञापन

Recommended

आईआईटी से कम नहीं एलपीयू, जानिए कैसे
LPU

आईआईटी से कम नहीं एलपीयू, जानिए कैसे

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक

विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Festivals

अंगारकी चतुर्थी: इस मंत्र के जप से भगवान गणेश को करें प्रसन्न, कटेंगे संकट

28 जनवरी 2020 ,मंगलवार को अंगारकी चतुर्थी है।

26 जनवरी 2020

विज्ञापन

गणतंत्र दिवस 2020 : परेड में पराक्रमी महिलाओं की टुकड़ियों ने दिखाया अपना दम

देश 71वें गणतंत्र दिवस का जश्न मना रहा है। वहीं गणतंत्र दिवस की परेड में हर बार की तरह इस बार भी पराक्रमी महिलाओं की टुकड़ियों ने अपना साहस दिखाया।

26 जनवरी 2020

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us