विज्ञापन

गणेश चतुर्थी 2018: जब भोजन प्रेमी गणपति ने तोड़ा कुबेर का घमंड

सद्गुरु, ईशा फाउंडेशन Updated Mon, 10 Sep 2018 05:49 PM IST
sadguru
sadguru
विज्ञापन
ख़बर सुनें
गणेश चतुर्थी के दिन मनाया जाने वाला गणपति का महापर्व हजारों-हजार वर्षों से चला आ रहा है। गणपति भारत के सबसे लोकप्रिय देवता बन गए हैं। उन्हें परम विद्वान और बुद्धिशाली माना जाता है। जब आप किसी बच्चे की शिक्षा की शुरुआत करते हैं, तो आप गणपति की पूजा करते हैं। मान्यता है कि उन्हें भोजन अतिप्रिय है। आमतौर पर विद्वान लोग पतले-दुबले होते हैं, लेकिन ये अच्छे-खासे खाते-पीते विद्वान हैं।
विज्ञापन
शिव ने सुझाया गणपति का नाम
गणपति के बारे में कई कथाएं प्रचलित हैं। इनमें से एक कथा है, जिसमें वह कुबेर के यहां भोजन पर गए। कुबेर धन के स्वामी हैं। वे हर वक्त तमाम हीरे-जवाहरात से लदे रहते थे। कुबेर को अपनी धन दौलत का बड़ा घमंड था। उन्होंने अपने इष्टदेव शिव को पहनने के लिए आभूषण भेंट किए। शिव ने कहा, ‘मैं तो बस भस्म लगाता हूं। मुझे किसी आभूषण की जरूरत नहीं है। अगर तुम वास्तव में मेरे लिए कुछ करना चाहते हो, तो मेरे बेटे के लिए करो।’ शिव ने गणपति की ओर इशारा किया और कहा, ‘यह मेरा बेटा है। इसे भोजन पसंद है। इसे घर ले जाओ और भरपेट खाना खिलाओ, जिससे उसकी संतुष्टि हो जाए।’

फिर भी न भरा गणपति का पेट
गणपति महल के अंदर आए और आसन जमा लिया। उन्हें भोजन परोसा गया। गणपति ने भोजन करना शुरू कर दिया। खाना बार-बार बनाया जाता और गणपति उसे खत्म कर जाते। इस पर कुबेर ने कहा, ‘तुम छोटे बच्चे हो। उस हिसाब से तुमने बहुत ज्यादा खा लिया है।’ गणपति बोले, ‘मेरी चिंता मत कीजिए। मुझे अभी भी तेज भूख लगी है। आप खाना मंगवाइए।’ खाना खत्म हो चुका था इसलिए कुबेर ने अपने नौकरों को बाजार से और राशन खरीदने के लिए भेजा। धीरे धीरे कुबेर का पूरा खजाना खाली हो गया, सब कुछ बेचकर भोजन की व्यवस्था की गई, फिर भी गणपति का पेट न भरा।

कुबेर ने मांगी माफी
गणपति की थाली खाली थी, लेकिन अभी भी वह मिठाइयों का इंतजार कर रहे थे। उन्होंने कहा, ‘खीर कहां है, लड्डू कहां हैं?’ कुबेर बोले, ‘मुझसे गलती हो गई। मुझे अपनी संपत्ति का घमंड हो गया था। मैं यह जानता हूं कि मेरे पास जो भी है, वह सब शिव का ही दिया हुआ है, फिर भी एक मूर्ख की भांति मैं उन्हें वे तुच्छ आभूषण भेंट कर रहा था।’ कुबेर गणपति के पैरों में गिर गए और क्षमा याचना करने लगे। इसके बाद गणपति बिना मिठाई खाए ही वहां से चल दिए।

- एक योगी, दिव्यदर्शी, सद्गुरु, एक आधुनिक गुरु हैं। विश्व शांति और खुशहाली की दिशा में निरंतर काम कर रहे सद्गुरु के रूपांतरणकारी कार्यक्रमों से दुनिया के करोड़ों लोगों को एक नई दिशा मिली है। 2017 में भारत सरकार ने सद्गुरु को पद्मविभूषण पुरस्कार से सम्मानित किया है।




 

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all spirituality news in Hindi related to religion, festivals, yoga, wellness etc. Stay updated with us for all breaking news from fashion and more Hindi News.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Festivals

पितृपक्ष 2018 : श्राद्ध में कुश और तुलसी से होगा पितरों का कल्याण

पितृपक्ष में किए जाने वाले श्राद्ध में तिल और कुश का बहुत ज्यादा महत्व होता है। मान्यता है कि तिल भगवान विष्णु के पसीने से और कुश उनके रोम से उत्पन्न हुए हैं।

21 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

FB LIVE : एशिया कप में भारत-बांग्लादेश के बीच महाटक्कर, कौन किस पर भारी?

टीम इंडिया शुक्रवार को सुपर चार के अपने पहले मुकाबले में उलटफेर में माहिर बांग्लादेश के खिलाफ उतरेगी। देखिए इसी पर अमर उजाला डॉट कॉम पर FB LIVE

21 सितंबर 2018

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree