विज्ञापन
विज्ञापन

क्यों मनाई जाती है हरियाली तीज, क्या है इसका महत्व और पूजा विधि

अनीता जैन ,वास्तुविद Updated Sat, 03 Aug 2019 08:25 AM IST
हरतालिका तीज
हरतालिका तीज
ख़बर सुनें
सावन का महीना मस्ती, प्रेम और उत्साह का महीना माना जाता है। यह त्यौहार उत्तर भारत के अनेक प्रांतों में बहुत जोश और उमंग के साथ मनाया जाता है। हरियाली तीज मुख्यतः स्त्रियों का त्यौहार है जो श्रावण मास की शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाया जाता है। सावन का महीना आते ही आसमान काले मेघों से आच्छादित हो जाता है और वर्षा की फुहारें पड़ते ही हर वस्तु नवरूप को प्राप्त करती है,इस समय पृथ्वी चारों तरफ हरियाली की चादर ओढ़ लेती है। तीज का सम्पूर्ण रंग प्रकृति के रंग में मिलकर अपनी अनुपम छठा बिखेरता है प्रकृति भी अपने सौंदर्य में लिपटी मानो इसी समय का इंतज़ार कर रही होती है। 
विज्ञापन
कैसे प्राप्त होगा शुभ फल इस हरियाली तीज पर, जानिये प्रसिद्द ज्योतिषाचार्यों से केवल 99 रुपये में। (विज्ञापन)

हरियाली तीज की पौराणिक मान्यताएं
पौराणिक कथाओं के अनुसार माता पार्वती ने भगवान शिव को पति रूप में पाने के लिए कठोर तपस्या की थी, इससे प्रसन्न होकर शिव ने हरियाली तीज के दिन ही माँ पार्वती को पत्नी रूप में स्वीकार किया था। अखंड सौभाग्य का प्रतीक यह त्यौहार भारतीय परंपरा में पति-पत्नी के प्रेम को और प्रगाढ़ बनाने तथा आपस में श्रद्धा और विश्वास कायम रखने का त्यौहार है इसके आलावा यह पर्व पति-पत्नी को एक दूसरे के लिए त्याग करने का संदेश भी देता है। इस दिन कुंवारी कन्याएं व्रत रखकर अपने लिए शिव जैसे वर की कामना करती हैं वहीं विवाहित महिलाएं अपने सुहाग को भगवान शिव तथा पार्वती से अक्षुण बनाये रखने की कामना करती हैं। 

हरियाली तीज पूजा विधि
हरियाली तीज में हरी चूड़ियाँ, हरे वस्त्र पहनने,सोलह शृंगार करने और मेहंदी रचाने का विशेष महत्व है। इस त्यौहार पर विवाह के पश्चात पहला सावन आने पर नवविवाहित लड़कियों को ससुराल से पीहर बुला लिया जाता है। लोकमान्य परंपरा के अनुसार नव विवाहिता लड़की के ससुराल से इस त्यौहार पर सिंजारा भेजा जाता है जिसमें वस्त्र,आभूषण, श्रृंगार का सामान, मेहंदी, घेवर-फैनी और मिठाई इत्यादि सामान भेजा जाता है। इस दिन महिलाएं मिट्टी या बालू से मां पार्वती और शिवलिंग बनाकर उनकी पूजा करती हैं। पूजन में सुहाग की सभी सामिग्री को एकत्रित कर थाली में सजाकर माता पार्वती को चढ़ाना चाहिए।

नैवेध में भगवान को खीर पूरी या हलुआ और मालपुए से भोग लगाकर प्रसन्न करें। तत्पश्चात भगवान शिव को वस्त्र चढ़ाकर तीज माता की कथा सुननी या पढ़नी चाहिए। पूजा के बाद इन मूर्तियों को नदी या किसी पवित्र जलाशय में प्रवाहित कर दिया जाता है।शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव और देवी पार्वती ने इस तिथि को सुहागन स्त्रियों के लिए सौभाग्य का दिन होने का वरदान दिया है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन जो सुहागन स्त्रियां सोलह श्रृंगार करके भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा करती हैं,उनको सुख-सौभाग्य की प्राप्ति होती है। 

जयपुर में निकलती है तीज की सवारी
राजस्थान के लोगों के लिए यह त्यौहार जीवन का सार है। खासकर राजधानी जयपुर में इसकी अलग ही छठा देखने को मिलती है। तीज के अवसर पर जयपुर में लगने वाला यह मेला पूरी दुनिया में अपना एक विशिष्ठ स्थान रखता है। इस दिन तीज माता की पूजा-अर्चना के बाद  तीज माता की सवारी निकाली जाती है।पार्वती जी की प्रतिमा जिसे तीज माता कहते हैं,को जुलूस उत्सव में ले जाया जाता है।उत्सव से पहले प्रतिमा का पुनः रंग-रोगन किया जाता है और नए परिधान तथा आभूषण पहनाए जाते हैं शुभ मुहूर्त में जुलूस निकाला जाता है।

लाखों लोग इस दौरान माता के दर्शनों के लिए उमड़ पड़ते हैं। सुसज्जित हाथी और घोड़े इस जुलूस की शोभा को बढ़ा देते हैं यह सवारी त्रिपोलिया बाज़ार,छोटी चौपड, गणगौरी बाज़ार और चौगान होते हुए पालिका बाग़ पहुंचकर विसर्जित होती है। सवारी को देखने के लिये रंग बिरंगी पोशाकों से सजे ग्रामीणों के साथ ही भारी संख्या में विदेशी पर्यटक भी आते हैं। चारों तरफ रंग-बिरंगे परिधानों में सजे लोग,घेवर-फीणी की महक,प्रकृति का सौंदर्य इस त्यौहार को और भी अनूठा बना देते हैं।

खुले स्थान पर बड़े-बड़े वृक्षों की शाखाओं पर बंधे हुए झूले,स्त्रियों व बच्चों के लिए बहुत ही मनभावन होते हैं। मल्हार गाते हुए मेहंदी रचे हुए हाथों से रस्सी पकडे झूलना एक अनूठा अनुभव ही तो है। नारियां,सखी-सहेलियों के संग सज-संवर कर लोकगीत,कजरी आदि गाते हुए झूला झूलती हैं। पूरा वातावरण ही गीतों के मधुर स्वरों से संगीतमय,गीतमय,रसमय हो उठता है। 

कैसे प्राप्त होगा शुभ फल इस हरियाली तीज पर, जानिये प्रसिद्द ज्योतिषाचार्यों से केवल 99 रुपये में। (विज्ञापन)
विज्ञापन

Recommended

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय
Invertis university

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार ही है कॉमकॉन 2019 की चर्चा का प्रमुख विषय

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर
Astrology Services

सर्वपितृ अमावस्या को गया में अर्पित करें अपने समस्त पितरों को तर्पण, होंगे सभी पूर्वज प्रसन्न, 28 सितम्बर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वशनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स, परामनोविज्ञान समाचार, स्वस्थ्य संबंधी योग समाचार, सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Religion

Navratri 2019: क्यों इतना अधिक महत्व है शक्तिपीठों का ?

पवित्र शक्तिपीठ धाम विभिन्न-विभिन्न स्थानों पर स्थापित हैं। देवी पुराण के अनुसार 51 शक्तिपीठ  है जिनमें भारत में 42, पाकिस्तान में 1, बांग्लादेश में 4, श्रीलंका में 1, तिब्बत में 1 तथा नेपाल में 2 शक्तिपीठ स्थापित हैं।

19 सितंबर 2019

विज्ञापन

जादवपुर विश्वविद्यालय में बाबुल सुप्रियो का घेराव, राज्यपाल धनखड़ ने बताया गंभीर मामला

जादवपुर विश्वविद्यालय में छात्रों के एक समूह ने केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो का घेराव किया था और उन्हें काले झंडे दिखाए थे। पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने इसे गंभीर मुद्दा बताया है।

19 सितंबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree