बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW
विज्ञापन
विज्ञापन
मदर्स डे पर अपनी माता की लम्बी आयु के लिए कराएं सामूहिक महामृत्युंजय मंत्रों का पाठ
Myjyotish

मदर्स डे पर अपनी माता की लम्बी आयु के लिए कराएं सामूहिक महामृत्युंजय मंत्रों का पाठ

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

ओमएमजी बुक ऑफ रिकॉर्ड में दर्ज हुआ रीटा का नाम

ठियोग की गायिका और एंकर रीटा ने विभिन्न क्षेत्रों की जानी मानी हस्तियों के 330 ऑनलाइन लाइव इंटरव्यू कर रिकॉर्ड स्थापित किया है।

6 मई 2021

विज्ञापन
Digital Edition

#LadengeCoronaSe: छह माह तक बच्चों से अलग रहकर डाक्टर मां ने जारी रखी मरीजों की सेवा

डॉ. प्रतिभा गुप्ता कर्तव्य परायणता की ऐसी मिसाल हैं जिन्होंने कोरोना काल में भी परिवार से बढ़कर अपने कर्तव्य को तरजीह दी। आज भी वह मरीजों को अपनी सेवाएं देने में मैदान में पूरी संजीदगी के साथ डटीं हैं। हिमाचल प्रदेश के मेडिकल कालेज नाहन में तैनात स्त्री रोग विशेषज्ञ डा. प्रतिभा ने बीते साल कोरोना महामारी की दस्तक के दौरान ही खुद को आइसोलेट कर लिया था। दिनभर अस्पताल और आपरेशन थियेटर में सेवाएं देने के बाद घर पर वह बच्चों से अलग रहीं। तकरीबन मार्च से अगस्त माह तक उन्होंने 15 साल के बेटे व 11 वर्षीय बेटी से दूर रहकर मरीजों की सेवा जारी रखी। घर पर उन्होंने स्वयं को आइसोलेट कर लिया था। कई बार स्थिति ऐसी भी पैदा हुई जब वह रात के समय घर पहुंचती को ब्रेड आदि खाकर ही भूख शांत करनी पड़ी।

बच्चों को अपने से दूर रखने के लिए घर का एंट्री प्वाइंट भी अलग रखा। अब तक तीन चार बार डा. प्रतिभा में कोरोना जैसे लक्षण की स्थिति बनी। लेकिन, कोरोना पाजिटिव नहीं आईं। घर पर खाना बनाने के लिए ससुराल पक्ष से मदद की गई। बता दें कि डा. प्रतिभा के पति डा. विनय गुप्ता भी पेशे से चिकित्सक हैं। मौजूदा समय में वह ददाहू में बाल रोग विशेषज्ञ के पद पर सेवाएं दे रहे हैं और सिविल अस्पताल के प्रभारी भी हैं। डा. प्रतिभा पिछले साल अप्रैल माह से अब तक 2302 साधारण डिलिवरी करा चुकी हैं। जबकि, 1296 सिजेरियन किए। इनमें कई मरीज कोरोना पाजिटिव भी मिले। बावजूद इसके उन्होंने अपने कर्तव्य को बेहद ईमानदारी के साथ निभाया। इस समय भी वह मरीजों को बेहतरीन सेवाएं देने में जुटी हैं। उनके बच्चे भी अपनी मां पर गर्व महसूस करते हैं।
... और पढ़ें
डॉ. प्रतिभा गुप्ता डॉ. प्रतिभा गुप्ता

Mother's Day: बेटे की किडनी खराब, पति को शुगर फिर भी तीन माह से कोविड वार्ड में डटीं कृष्णा

कोरोना को हराने के लिए चिकित्सक और स्वास्थ्य कर्मी परिवार को छोड़कर मैदान में डटे हुए हैं। हिमाचल प्रदेश के कुल्लू अस्पताल में तैनात वार्ड सिस्टर कृष्णा नेगी (50) पिछले तीन महीनों से कोविड वार्ड में ड्यूटी दे रही हैं। तीन महीनों से कोरोना मरीजों के बीच कृष्णा नेगी न केवल उन्हें इंजेक्शन व दवाइयां आदि दे रही हैं। उन्हें कोरोना से जीतने का हौसला भी दे रही हैं। कोरोना वार्ड में इतने लंबे समय तक ड्यूटी देने वाली कृष्णा नेगी एकमात्र वार्ड नर्स हैं। 

गौर रहे कि कृष्णा नेगी ड्यूटी करने के बाद कृष्णा नेगी जब अपने घर में जाती हैं तो परिवार के साथ एक साथ नहीं बैठती हैं। कोरोना के चलते कृष्णा अलग कमरे में रुकती हैं। कृष्णा के पति को डायबिटिज की समस्या है, जबकि माता बुजुर्ग हैं। 24 साल के बेटे को किडनी की परेशानी है। ऐसे में वह घर जाने के बावजूद अलग कमरे में रह रही हैं, जिससे परिवार के अन्य लोग संक्रमण की चपेट में न आएं। उधर, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. सुशील चंद्र शर्मा ने कहा कि कोरोना के बीच इस तरह की सेवाएं देना दूसरी महिलाओं के लिए सम्मान है। ऐसी माताएं अपने कर्तव्य को बड़ा मानती हैं। कोरोना को हराने में हम सभी को ऐसी ही भावना से अपने कर्तव्यों का निर्वहन करना होगा। 
... और पढ़ें

सप्ताह में चार दिन पढ़ाई, पांचवें दिन शंकाएं करेंगे दूर, छठे-सातवें दिन होंगे क्विज

सरकारी स्कूलों की ऑनलाइन पढ़ाई में जून से बदलाव होने जा रहा है। हर घर पाठशाला कार्यक्रम का पार्ट टू शुरू करने की शिक्षा विभाग की तैयारी पूरी कर ली है। इसके तहत एक सप्ताह के दौरान चार दिन अब नए शैक्षणिक सत्र की पढ़ाई करवाई जाएगी। पांचवें दिन डाउट दूर किए जाएंगे। छठे और सातवें दिन में बीते चार दिनों के दौरान करवाई गई पढ़ाई के आधार पर व्हाट्सअप क्विज होंगे। 

इसके अलावा सरकारी स्कूलों के हर विद्यार्थी के घर तक अब दो सप्ताह का शिक्षा से जुड़ा प्रिंट मैटीरियल भी पहुंचाया जाएगा। 17 मर्ह को इसको लेकर बैठक होने की संभावना है। सरकार से मंजूरी मिलते ही इस नई योजना को जून से प्रदेश में शुरू कर दिया जाएगा।  वर्ष 2020 में कोरोना संकट के दौरान प्रदेश के सरकारी स्कूलों में पहली बार शुरू हुई ऑनलाइन पढ़ाई में शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने कई कमियां पाई हैं।

पहली से आठवीं कक्षा के बीते दिनों जारी हुए परिणाम में भी देखने को मिला कि विद्यार्थियों के ज्ञान में कमी हुई है। इसके चलते ही अभी प्रदेश में नया शैक्षणिक सत्र शुरू नहीं किया गया है। इस माह सभी स्कूलों में पुरानी कक्षा के सिलेबस का रिवीजन ही जारी है। 19 अप्रैल को बेस लाइन टेस्ट भी लिया गया था। अब 27 से 30 मई के बीच एंड लाइन सर्वे भी होना है। विभागीय अधिकारियों ने कमियों को दूर करने के लिए नया प्रस्ताव तैयार कर लिया है। हर घर पाठशाला कार्यक्रम का अब पार्ट टू शुरू करने की योजना है। 

इसमें सप्ताह के पहले चार दिनों में पढ़ाई करवाई जाएगी। पांचवां दिन शंकाओं को दूर करने के लिए रखा जाएगा।  शंकाओं को भी विषय वार दूर करने के लिए समय तय किया जाएगा। सप्ताह के छठे और सातवें दिन व्हाट्सअप से क्विज होगा। इसके अलावा अब सभी विद्यार्थियों को घरों में वर्कशीट पहुंचाई जाएगी।

इस सामग्री को स्कूलों से अभिभावक एकत्र कर सकेंगे। हर घर पाठशाला कार्यक्रम पार्ट टू को मुख्यमंत्री या शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर से लांच करवाने की योजना है। अधिकारियों ने लाइव कक्षाओं को लेकर भी प्रस्ताव बनाना शुरू किया है लेकिन विद्यार्थियों के स्तर पर पर्याप्त सुविधाएं नहीं होने के चलते यह प्रयास अभी सिरे चढ़ता नहीं दिख रहा है। इस व्यवस्था को भी शुरू करने के लिए शिक्षा विभाग के अधिकारी लगातार प्रयासरत हैं।
... और पढ़ें

हिमाचल में कोरोना कर्फ्यू : 10 मई से नए प्रतिबंध, नहीं चलेंगी बसें, जरूरी वस्तुओं की दुकानें तीन घंटे ही खुलेंगी

हिमाचल प्रदेश में 10 मई सोमवार सुबह छह बजे से कोरोना कर्फ्यू की बंदिशें और सख्त हो जाएंगी। ये बंदिशें 17 मई सुबह छह बजे तक लागू रहेंगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कोविड के हालात को लेकर फोन पर हुई चर्चा के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्रदेश में लागू कोरोना कर्फ्यू में प्रतिबंधों को अगले आदेश तक और सख्त करने का फैसला लिया है।

वार्ता के बाद उच्चाधिकारियों के साथ हुई बैठक में चर्चा के बाद तय हुआ है कि अब 10 मई सोमवार की सुबह छह बजे से प्रदेश में दैनिक जरूरतों और आवश्यक वस्तुओं की दुकानों के अलावा अन्य कोई दुकान नहीं खुलेंगी। दैनिक जरूरतों और आवश्यक वस्तुओं की दुकानें भी दिन में तीन घंटे ही खुलेंगी और इसका समय संबंधित उपायुक्त  निर्धारित करेंगे। 

बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि निजी और सरकारी बसों के अलावा निजी वाहनों के संचालन पर अगले आदेश तक रोक रहेगी। निजी वाहनों को सिर्फ आपात स्थिति में ही आवाजाही की स्वीकृति होगी। सरकार के इस सख्त रुख के पीछे प्रदेश में कोविड-19 के लगातार बढ़ते मामले और मौतों में वृद्धि वजह बनी है।





मुख्यमंत्री ने राज्य के लोगों से कोरोना महामारी को फैलने से रोकने के लिए कोरोना कर्फ्यू के प्रभावी कार्यान्वयन में अपना सहयोग देने का आग्रह किया है। उन्होंने लोगों से घर में ही रहने और अति आवश्यक होने पर ही घर से बाहर निकलने का आग्रह किया है।

इस बैठक में हिमाचल प्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष विपिन परमार, शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज, सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ. राम लाल मारकंडा, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. राजीव सैजल, एसीएस जेसी शर्मा, पुलिस महानिदेशक संजय कुंडू आदि मुख्यमंत्री के साथ उपस्थित रहे, जबकि मुख्य सचिव अनिल खाची, जिला कांगड़ा, मंडी और सोलन के उपायुक्तों ने वर्चुअल माध्यम से बैठक में भाग लिया।

इससे पहले प्रधानमंत्री से बात करने के बाद सीएम ने बताया कि सीमावर्ती जिलों कांगड़ा, ऊना, सिरमौर, सोलन आदि में संक्रमण ज्यादा फैल रहा है, इसलिए आने वाले दिनों में यहां आवाजाही पर बंदिशें और बढ़ सकती हैं, ताकि संक्रमण को रोका जा सके, लेकिन अब पूरे प्रदेश में नई बंदिशें लगा दी गई हैं।


ये दुकानें तीन घंटों के लिए खुलेंगी
10 मई से सभी दुकानें खुली रहेंगी। लेकिन सार्वजनिक राशन, दैनिक जरूरतों और आवश्यक वस्तुओं  जैसे अनाज, किराना, फल, सब्जियों, डेयरी उत्पाद, मांस-मछली, पशु चारा, चारा, बीज, उर्वरक और कीटनाशकों से से संबंधित दुकानें तीन घंटे तक खुल सकेंगी। हालांकि, यह समय सीमा फार्मेसी और चिकित्सा, दवाओं की दुकानों पर लागू नहीं होगी। डीसी अपने संबंधित जिलों के लिए समय निर्धारित करेंगे।  अन्य सभी छूट और प्रतिबंध पांच मई को जारी दिशानिर्देशों के अनुसार लागू रहेंगे। उधर, निर्माण सामग्री से संबंधित दुकानें
 कोरोना कर्फ्यू में अब बंद रहेगी।

निजी वाहनों की आवाजाही भी बंद
निजी वाहनों की आवाजाही नहीं होगी। निजी वाहनों को उपयोग केवल मेडिकल और अन्य आपातकालीन जैसे कोविड-19 के लिए टीकाकरण, परीक्षण और उपचार के उद्देश्य लिए कर सकेंगे। आवश्यक, चिकित्सा और सार्वजनिक सेवाओं के वितरण के लिए उपयोग भी निजी वाहनों को अनुमति मिलेगी। 
... और पढ़ें

हिमाचल में 37 कोरोना संक्रमितों की मौत, 4248 नए पॉजिटिव, जानें सक्रिय केस

सीएम जयराम ने कोरोना को लेकर उच्च स्तरीय बैठक की अध्यक्षता की।
हिमाचल प्रदेश में शनिवार को 37 और कोरोना पॉजिटिव मरीजों की मौत हो गई है। कांगड़ा जिले में 14, शिमला छह, मंडी पांच, हमीरपुर चार,  सोलन तीन, ऊना और चंबा में दो-दो, बिलासपुर में एक संक्रमित ने दम तोड़ा। उधर, प्रदेश में 4248 लोगों के कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इनमें से कांगड़ा जिले में 1261, मंडी 686, सोलन 403, हमीरपुर 351, शिमला 331, बिलासपुर 302, चंबा 248, ऊना 160, सिरमौर 352, कुल्लू 117, किन्नौर 22 और लाहौल-स्पीति में 15 नए मामले आए हैं। आरटीओ हमीरपुर दूसरी बार कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

आरटीओ इससे पूर्व अक्तूबर 2020 में भी कोरोना संक्रमित पाए गए थे। पिछले वर्ष अक्तूबर माह में पूरा परिवार कोरोना संक्रमित हुआ था। इस दौरान वे कोरोना की जंग जीत कर दोबारा ड्यूटी पर लौट आए थे। शनिवार को आई आरटी-पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट में वह फिर से संक्रमित निकले हैं। इसके अलावा एचआरटीसी हमीरपुर के क्षेत्रीय कार्यालय के अधीक्षक समेत आठ कर्मचारी पॉजिटिव, वन्य जीव संरक्षण विभाग के तीन कर्मचारी भी पॉजिटिव और हमीरपुर व्यापार मंडल के प्रधान भी कोरोना संक्रमित निकले हैं। सीएमओ हमीरपुर डॉ. आरके अग्निहोत्री ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग ने पांच मई को यह सैंपल लिए थे, जिनकी रिपोर्ट शनिवार को आई है।

कहां कितने सक्रिय केस
इसके साथ ही प्रदेश में कुल कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 128330 पहुंच गया है। इनमें से अब तक 94586 संक्रमित ठीक हो चुके हैं। सक्रिय कोरोना मामले अब 31893 हो गए हैं और 1817 संक्रमितों की मौत हुई है। बिलासपुर में कोरोना के सक्रिय केसों की संख्या 2342, चंबा 1530, हमीरपुर 2350, कांगड़ा 8780, किन्नौर 349, कुल्लू 788, लाहौल-स्पीति 311, मंडी 3627, शिमला 2983, सिरमौर 2978, सोलन 4128 और ऊना जिले में 1727 पहुंच गई है। बीते 24 घंटों में 3007 संक्रमित ठीक हुए हैं। इस दौरान कोरोना की जांच के लिए 18725 लोगों के सैंपल लिए गए।


भोरंज में 44 मकानों को बनाया मिनी कंटेनमेंट जोन
 उपमंडल भोरंज के अंतर्गत कोरोना संक्रमण के मामले सामने आने के बाद भोरंज उपमंडल की विभिन्न ग्राम पंचायतों में 15 नए कोरोना संक्रमित आने पर कुल 44 मकानों को मिनी कंटेनमेंट जोन बनाया गया है। एसडीएम राकेश कुमार ने इस संबंध में आदेश जारी किए हैं। मिनी कंटेनमेंट जोन घोषित किए गए मकानों में अमन वार्ड नंबर पांच से एक, धनवान वार्ड नंबर एक से एक, डवरेड़ा वार्ड नंबर एक से एक, बधानी वार्ड नंबर सात से तीन, मुंडखर वार्ड नंबर चार से एक मकान, अमरोह वार्ड नंबर पांच-एक से दो, गरसाहड़ वार्ड नंबर एक से एक, हनोह वार्ड नंबर चार से एक, खरवाड़ वार्ड नंबर पांच से एक, धमरोल वार्ड नंबर नौ से एक मकान, लझयानी वार्ड नंबर तीन से एक, भोरंज वार्ड नंबर तीन-दो से तीन, जाहू वार्ड नंबर आठ, तीन से तीन, बडैहर वार्ड नंबर तीन-छह-सात से छह, बाह्नवी वार्ड नंबर एक से एक मकान, भोरंज वार्ड नंबर दो से एक मकान, टिक्करी मिन्हासा वार्ड नंबर दो से एक मकान, भुक्कड़ वार्ड नंबर एक से एक मकान, भौंखर वार्ड नंबर तीन-छह से दो मकान, पलपल वार्ड नंबर पांच से एक मकान, महल वार्ड नंबर एक-चार से दो मकान, धमरोल वार्ड नंबर तीन से एक मकान, दिम्मी वार्ड नंबर एक से एक मकान, बधानी वार्ड नंबर छह से दो मकान, अमन वार्ड नंबर दो से दो मकान, कैहरवीं वार्ड नंबर एक से एक मकान में मिनी कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं।

सैंपल देने के बाद घर पर दी धाम, अगले दिन निकला कोरोना पॉजिटिव
उपमंडल नादौन की एक पंचायत में नए घर के गृह प्रवेश के उपलक्ष्य पर आयोजित धाम में एक बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां एक व्यक्ति ने कोरोना की जांच के लिए दिए सैंपल के अगले ही दिन घर में एक आयोजन किया। आयोजन के बाद सैंपल देने वाले व्यक्ति की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है। आयोजन के लिए प्रशासन से कोई स्वीकृति नहीं ली गई थी। आयोजन के दौरान कोविड-नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए कई लोगों को भोजन भी करवा डाला। एसडीएम नादौन विजय धीमान ने मामले की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि आयोजक, आयोजन में भाग लेने वाले तथा पंचायत प्रतिनिधियों के विरुद्ध आपदा अधिनियम के तहत कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
 
... और पढ़ें

कुल्लू: वृद्धाश्रम क्लाथ में संक्रमित बुजुर्गों का स्वास्थ्य कर्मी नाचकर कर रहे मनोरंजन

मोदी से कोरोना पर मंत्रणा के बाद हिमाचल के सीमावर्ती जिलों में ज्यादा सख्ती की तैयारी में सीएम जयराम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कोरोना महामारी पर मंत्रणा के बाद मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर सीमावर्ती जिलों में और सख्ती की तैयारी में है। सीमावर्ती जिलों कांगड़ा, ऊना, सिरमौर, सोलन आदि में संक्रमण ज्यादा फैल रहा है। आने वाले दिनों में यहां आवाजाही पर बंदिशें और बढ़ सकती हैं, ताकि संक्रमण को रोका जा सके। मुख्यमंत्री ने शनिवार को इस संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भी चर्चा की है। सीएम बोले-प्रधानमंत्री ने छोटे और गरीब लोगों की आजीविका को भी ध्यान में रखने को कहा है। पीएम ने कहा है कि थोड़े समय के लिए बंदिशें सही हैं, मगर लंबे वक्त तक इसे भी मद्देनजर रखना है।

सीएम ने शनिवार को मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें फोन कर हिमाचल प्रदेश में कोरोना महामारी के बारे में जाना। पीएम ने उनसे प्रदेश के सभी जिले में कोरोना की जानकारी ली। पीएम को बताया गया कि सीमावर्ती जिलों में संक्रमण ज्यादा फैल रहा है। लोगों की बड़ी संख्या में मौत हो रही है। पीक की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं, कहा नहीं जा सकता कि पीक यह है या इसका आना बाकी है। सीएम बोले कि प्रदेश में कई युवाओं की भी मौत हो रही है। इसकी वजह यह है कि लोग देरी से अस्पताल पहुंच रहे हैं। प्रदेश में रेमडेसिविर के बारे में उन्हें कहा गया है कि यह दवा सभी मरीजों के लिए जरूरी है। ऐसा डॉक्टर भी कह चुके हैं। जयराम ने कहा कि पिछले दिन 60 लोगों की मौत हुई है। यह दुखद है।

सरकार के खिलाफ बोलने वाले वकील का इतिहास जानता हूं : जयराम
सीएम जयराम ठाकुर ने कहा कि बहुत से बुद्धिजीवी ऐसे हैं जो सरकार को गाली दिए बगैर रह ही नहीं सकते। एक वकील सरकार के खिलाफ खूब बोल रहे हैं। पहले वह कहां होते थे, कहां पहुंच गए हैं, यह सब वह जानते हैं। वह उनका इतिहास जानते हैं। यह संकट का समय है। इस वक्त सबको सहयोग करना चाहिए।
... और पढ़ें

शिमला में कोरोना मरीजों की मृत्यु दर हिमाचल में सबसे ज्यादा

हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में कोविड से मरने वालों की मृत्यु दर सबसे ज्यादा है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़ों से यह बात सामने आई है। आंकड़ों के अनुसार शिमला में कोविड मृत्यु दर 2.25 प्रतिशत है, जबकि प्रदेश में मृत्यु दर 1.45 प्रतिशत है। चंबा में मृत्यु दर 1.21, कांगड़ा 1.99 प्रतिशत, कुल्लू 1.18, मंडी 1.19, सोलन 0.91 और ऊना में 1.61 प्रतिशत है। कोविड से रिकवर होने के मामले में सबसे खराब हालात कांगड़ा जिले के हैं। यहां रिकवरी दर 66.6 प्रतिशत है। शिमला में 82, मंडी 81.1, ऊना 79, कुल्लू 82.9 और चंबा में रिकवरी दर 75 प्रतिशत है। प्रदेश में रिकवरी दर 81.9 प्रतिशत है। ऐसे में विभाग का पूरा जोर इस प्रतिशत को बढ़ाने और मृत्यु दर को कम करने के लिए अलग अलग रणनीति के तहत काम करने पर है। 

यूएसए से हिमाचल को मिले 80 हजार एन-95 मास्क
 हिमाचल प्रदेश सरकार को विदेशों से मिलने वाली स्वास्थ्य उत्पादों की मदद जारी है। संयुक्त राज्य अमेरिका से हिमाचल प्रदेश को भारत सरकार के माध्यम से 80 हजार एन 95 मास्क मिल गए हैं। स्वास्थ्य विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि इसके अलावा इंग्लैंड से 36 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर, ताईवान से 185 सिलिंडर और कुवैत से 188 मेडिकल ऑक्सीजन सिलिंडर व 107 लाइव वेट एल्युमिनियम ऑक्सीजन सिलिंडर पहुंचे हैं। प्रवक्ता ने बताया कि स्वास्थ्य केंद्रों में जरूरत के अनुसार इनका उपयोग किया जाएगा। 
... और पढ़ें

#LadengeCoronaSe: बिन बराती खुद ही कार चलाकर अकेले दुल्हन ले आए निर्मल

कोरोना काल में सरकार की ओर से 20 लोगों की शर्त के बावजूद कई जगह इस शर्त के उल्लंघन के मामले सामने आ रहे हैं, लेकिन हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर का युवक बिन बराती खुद कार चलाकर दुल्हन के घर पहुंच गया। कोविड महामारी के चलते सारे रीति-रिवाजों को दरकिनार कर दूल्हे ने समाज में एक मिसाल पेश की है। सभी लोग युवक की जमकर प्रशंसा कर रहे हैं।  जिला हमीरपुर के भोरंज उपमंडल के धमरोल गांव निवासी निर्मल शर्मा ने बरातियों और अपने घर के किसी भी व्यक्ति के बिना इस तरह की शादी कर कइयों को संदेश दिया है। निर्मल दूल्हा बनकर स्वयं 15 किलोमीटर कार चलाकर दुल्हन के घर पपलोह पहुंचे और दुल्हन को लेकर वापस घर आ गए।

बड़ी बात यह रही कि पूरी शादी में दुल्हन के माता-पिता के अलावा केवल फेरे करवाने वाला पंडित ही रहा।  अनोखी शादी के वीडियो और फोटो सोशल मीडिया में खूब वायरल हो रहे हैं। दूल्हे निर्मल के घर पर कोविड प्रोटोकाल के अनुसार केवल शादी की तमाम रस्में अदा की गईं, लेकिन बरात में बीस लोगों की इजाजत के बावजूद भी निर्मल ने सरकार के नियमों को कायम करते हुए अकेले ही शादी में जाने का फैसला लिया। दूल्हे निर्मल शर्मा पुत्र तिलक राज शर्मा ने बताया कि कोविड-19 के चलते सरकार की गाइडलाइन का पालन करना चाहिए। उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि जिस तरह उन्होंने शादी में नियमों का पालन किया, वैसे ही लोग भी नियमों का पालन करें। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X