विज्ञापन
विज्ञापन

शिमला के दयानंद स्कूल की अर्पिता भी बनीं ऐतिहासिक क्षण की गवाह

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, शिमला Updated Sat, 07 Sep 2019 07:11 PM IST
Arpita of Dayanand School in Shimla also witness historical moment of Chandrayaan2 landing
- फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
राजधानी शिमला के दयानंद पब्लिक स्कूल की आठवीं की छात्रा अर्पिता भी चंद्रयान-दो की लैंडिंग के ऐतिहासिक क्षणों की गवाह बनीं। अंतिम क्षणों में संपर्क टूट जाने पर वह मायूस जरूर हुईं, मगर इसरो में देश के नामी वैज्ञानिकों और प्रधानमंत्री के बीच खुद को पाकर फूले नहीं समाई। 
विज्ञापन
अर्पिता माता मंजू सूद के साथ इसरो मुख्यालय गई थी। अर्पिता ने बताया कि वहां प्रधानमंत्री और इसरो के चेयरमैन के सिवन ने जैसे ही उसके साथ हाथ मिलाया तो वह खुद को सौभाग्यशाली मान रही थी।

अर्पिता ने 15 अगस्त को आनलाइन टेस्ट पास किया और 26 को उसे इसरो आने का न्योता मिला था, तब से उसे इस क्षण का बेसब्री से इंतजार था। अर्पिता और उनकी माता ने अनुभवों को साझा करते कहा कि उन्हें यह सुनहरा मौका मिला।

हमारे वैज्ञानिकों ने जिस तरह से इस चंद्रयान की सफल लैंडिंग करवाने को दिन रात मेहनत की थी, उससे उन्हें 95 फीसदी तक सफलता मिली है। अर्पिता ने कहा कि उसकी एस्ट्रोनॉट बनने की इच्छा इसरो जाकर और प्रबल हुई है। 

दयानंद स्कूल की प्रिंसिपल अनुपम ने अपने स्कूल की छात्रा के इसरो में इस ऐतिहासिक क्षण की गवाह बनने का मौका मिलने को स्कूल ही नहीं, पूरे हिमाचल के लिए बड़ी उपलब्धि बताया। अर्पिता को जीवन में लक्ष्य प्राप्त करने के लिए शुभकामनाएं दीं। 
विज्ञापन

Recommended

प्रथम श्रेणी के दुग्ध उत्पादों के लिए प्रतिबद्ध है धौलपुर फ्रेश
Dholpur fresh

प्रथम श्रेणी के दुग्ध उत्पादों के लिए प्रतिबद्ध है धौलपुर फ्रेश

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019
Astrology Services

महालक्ष्मी मंदिर, मुंबई में कराएं दिवाली लक्ष्मी पूजा : 27-अक्टूबर-2019

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Dehradun

उत्तराखंड: शैलेश मटियानी पुरस्कार से नवाजे जाएंगे उत्तराखंड के 24 शिक्षक

शैलेश मटियानी राज्य शिक्षक पुरस्कार 2016-17 के लिए प्रदेश से 24 शिक्षकों को चयनित किया गया है।

16 अक्टूबर 2019

विज्ञापन

कांग्रेस अपने परिवार में भारत रत्न समेटना चाहती है: रविशंकर प्रसाद

केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा की वीर सावरकर को भारत रत्न मिलना चाहिए। कांग्रेस सिर्फ अपने परिवार में भारत रत्न समेंटना चाहती है।

16 अक्टूबर 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree