बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

वीआईपी वार्ड में चकाचौंध, बाकी अंधेरे में

शिमला/ब्यूरो Updated Mon, 15 Oct 2012 01:06 PM IST
विज्ञापन
only vip ward gets electricity

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
राजधानी में एक हजार से अधिक स्ट्रीट लाइट्स खराब हैं। वीआईपी वार्ड बैनमोर, शहर के बीचोंबीच बसे वार्ड राम बाजार, लोअर बाजार को छोड़कर आधे से ज्यादा शहर में लोग खराब स्ट्रीट लाइट्स की दिक्कत से जूझ रहे हैं। बैनमोर वार्ड में अधिकांश मंत्रियों की कोठियों से लेकर आला अफसरों के आवास हैं। यही नहीं, माल रोड से लेकर मुख्यमंत्री आवास और डीसी ऑफिस से चौड़ा मैदान तक स्ट्रीट लाइट्स की कोई दिक्कत नहीं। इसके अलावा शायद ही ऐसा कोई वार्ड है, जहां स्ट्रीट लाइट खराब न हो।
विज्ञापन


नगर निगम द्वारा स्ट्रीट लाइट्स की स्थिति जांचने के लिए किए गए सर्वे में एक हजार से अधिक प्वाइंट खराब बताए गए हैं। भराड़ी, रुल्दूभट्टा, कैथू, समरहिल, टुटू, बालूगंज, टुटीकंडी, फागली, कृष्णानगर, जाखू, ढली, कनलोग, चम्याणा, मल्याणा, कसुम्पटी, संजौली, छोटा शिमला पटयोग और खलीनी वार्ड के लोग खराब स्ट्रीट लाइट्स की वजह से ज्यादा दिक्कत झेल रहे हैं।


रखरखाव का जिम्मा बिजली बोर्ड के पास
स्ट्रीट लाइट्स की देखरेख का जिम्मा बिजली बोर्ड के पास है। लाइट्स की मरम्मत और रखरखाव पर प्रति माह बिजली बोर्ड को नगर निगम करीब तीन लाख की राशि देता है। बिजली की मासिक खपत का खर्च करीब 12 लाख है।

महानगरों का पैट्रन हवा-हवाई
स्ट्रीट लाइट्स के रखरखाव की जिम्मेदारी निजी हाथों में सौंपने की कवायद में जनवरी माह में नगर निगम प्रशासन जुटा था। स्ट्रीट लाइट्स की व्यवस्थाएं सुचारु रखने के लिए निगम ने योजना बनाई। योजना का प्रारूप तैयार करने के लिए महानगरों के पैट्रन को स्टडी करने की बात कही गई। इसके लिए पुख्ता बंदोबस्त किए गए। लेकिन जब लागू करने की बात आई तो योजना फाइलों में दम तोड़ गई।

सूचना मिलते ही दुरुस्त कर रहे समस्या : मेयर
मेयर संजय चौहान का कहना है कि व्यवस्था को पटरी पर लाने का बंदोबस्त जारी है। स्ट्रीट लाइट्स खराब होने की सूचना मिलते ही मौके पर विभागीय कर्मी को भेजकर समस्या को दूर किया जा रहा है। स्ट्रीट लाइट्स के नए फिक्चर भी लगाए गए हैं।

शोपीस बन गई स्ट्रीट लाइट्स : सुरेंद्र
छोटा शिमला वार्ड से कांग्रेस पार्षद सुरेंद्र चौहान का कहना कि चार माह में शहर के उपनगरों में लगी स्ट्रीट लाइट्स उचित रखरखाव के अभाव में खराब हो गई हैं। रात के समय इक्का दुक्का स्ट्रीट लाइट्स ही जलती हैं। अधिकांश लाइट्स शोपीस बनकर रह गई हैं।

मेयर गंभीरता से निभाएं जिम्मेदारी : संजय
भाजपा के मनोनीत पार्षद संजय सूद का कहना है कि एमसी में मर्ज क्षेत्रों में स्ट्रीट लाइट्स खराब रहने से अधिक समस्याएं हैं। शहर के कुछ क्षेत्रों में भी स्ट्रीट लाइट्स खराब हैं, जिन्हें दुरुस्त करवाने की जिम्मेदारी मेयर की है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X