पांच दिन में लाइसेंस न बनाया तो जुर्माना

Shimla Updated Tue, 11 Dec 2012 05:30 AM IST
शिमला। 15 दिसंबर तक जिन कारोबारियों ने नॉन पीएफए लाइसेंस नहीं बनाए, उन्हें 150 फीसदी तक जुर्माना भुगतना होगा। म्युनिसिपल कारपोरेशन (एमसी) दो सप्ताह से लाइसेंस बनवाने की अपील कर रहा है।
2006 से नगर निगम ने दुकान के साइज के मुताबिक नॉन पीएफए लाइसेंस बनाने का काम शुरू किया है। 125 वर्ग फुट वाली दुकान के मालिक को सालाना 200 रुपये इस लाइसेंस को बनाने के लिए चुकाने होंगे। इस साइज से अधिक वाली दुकानाें को 300 रुपये और बड़ी दुकानों के मालिकों को 500 रुपये देने होंगे। बीते दिनों निरीक्षण में खुलासा हुआ कि ज्यादातर कारोबारियों ने लाइसेंस बनवाए ही नहीं हैं। एमसी ने कारोबारियों को एक सप्ताह के भीतर लाइसेंस बनवाने तथा पुरानों को रिन्यू करने का समय दिया। स्टाफ की कमी के चलते नगर निगम शहर की सभी दुकानों के लाइसेंस नहीं जांच सका। ऐसे में अब 15 दिसंबर के बाद कारोबारियों पर शिकंजा कसने की तैयारी है। नगर निगम के सहायक आयुक्त आशीष कोहली का कहना है कि लाइसेंस नहीं बनवाने वाले दुकानदारों के खिलाफ कार्रवाई करने की तैयारी शुरू कर दी गई है। इसके तहत 150 फीसदी तक जुर्माना करने का प्रावधान है।
---------
500 की फीस का जुर्माना 3700
किसी कारोबारी ने अगर पांच साल तक लाइसेंस नहीं बनाया और उसकी लाइसेंस फीस 500 रुपये है तो फीस के तौर पर 2500 रुपये चुकाने पड़ेंगे। साथ ही चालान कटने पर 150 फीसदी जुर्माना यानी करीब 3700 रुपये अतिरिक्त चुकाने पड़ेेंगे।

Spotlight

Most Read

Jharkhand

चारा घोटाला: चाईबासा कोषागार मामले में कोर्ट ने सुनाया फैसला, तीसरे केस में लालू दोषी करार

रांची स्थित विशेष सीबीआई अदालत ने चारा घोटाले के तीसरे मामले में बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और आरजेडी के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव को दोषी करार दिया है। साथ ही पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा को भी दोषी ठहराया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: आपने आज तक नहीं देखा होगा ऐसा डांस! चौंक जाएंगे देखकर

सोशल मीडिया पर अक्सर आपको कई चीजें वायरल होते हुए मिल जाती हैं लेकिन फिर भी कई चीजें ऐसी होती हैं जो वायरल तो हो रही हैं लेकिन आप तक नहीं पहुंच पातीं।

24 जनवरी 2018