वर्क टू रूल से शहर के 82 रूट प्रभावित

Shimla Updated Sat, 24 Nov 2012 12:00 PM IST
शिमला। परिवहन निगम कर्मचारियों की अपनी मांगो को लेकर शुरू किए गए वर्क टू रूल ने शुक्रवार को शहर की जनता को पूरा दिन परेशान किया। आठ घंटे की एचआरटीसी कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति के फैसले के मुताबिक कर्मचारी आठ घ्ंाटे की डयूटी देने पर बराबर डटे रहे। सुबह से शाम तक शहर की सड़कों पर निगम की बसें कम नजर आई तो उधर शादियों के सीजन के चलते निजी बसों का भी सड़कों पर अभाव रहा। जिससे मुसाफिरों और आम लोगों की दिक्कतें दोगुनी हो गई। शहर में 82 से अधिक परिवहन निगम के 82 के करीब रूट प्रभावित हुए। इनमें मुख्य बस अड्डे में 35 बसों के शहरी और आस पास के ग्रामीण रूटों पर बसों की आवाजाही बाधित हुई, लंबे रूट की सेवाएं जारी रही। इन पर बसें बराबर भेजी गई। वहीं संजौली में 29 और न्यू शिमला में 18 रूट इस वर्क टू रूल के कारण प्रभावित हुए। पूरा दिन शहर में चलने वाली बसों में लोगों की भीड़ रही। आम लोगों को बसों के लिए खासा इंतजार करना पड़ा। एचआरटीसी कर्मचारी संयुक्त समन्वय समिति के प्रवक्ता खेमेन्द्र गुप्ता ने बताया कि जिले के अन्य डिपुओं में रामपुर में करीब 45,रोहड़ू में 32, तीन नंबर डिपो में में 35 तारादेवी में 18 जबकि चौपाल में एक दर्जन से अधिक रूटों पर बसों की आवाजाही प्रभावित हुई है। पूरे प्रदेश भर में शुक्रवार को चार सौ से अधिक रूट प्रभावित हुए है।
------------------------------
ओल्ड बस स्टैंड, ढली तारादेवी में की गेट मिटिंग
परिवन कर्मियों की वर्क टू रूल आंदोलन के तहत परिवहन कर्मियों ने शुक्रवार को भी ओल्ड बस स्टेंड, तारादेवी और ढली में कार्यालय के बाहर गेट मीटिंग की और अपनी मांगों के समर्थन में जमकर नारेबाजी की और आम सभा की। ओल्ड बस स्टेंड के बाहर हुई गेट मीटिंग में देस राज ठाकुर, विद्या सागर, और केशव शर्मा व खेमेंन्द्र गुप्ता ने अपने संबोधन में कहा कि जब तक निगम प्रबंधन और सरकार उनकी मांगों को मान नहीं जाती तब तक आंदोलन बराबर जारी रहेगा। जरू रत पड़ी तो समिति अपने इस अंादोलन को और उग्र बनाने के लिए रणनीति में बदलाव भी कर सकती है।
-------------------------
ग्रामीण रूटों पर निजी बसों को दिए अस्थाई परमिट- आरटीओ
परिवहन निगम कर्मचारियों की वर्क टू रूल से निपटने और आम जनता को पेश आ रही परेशानी को देखते हुए आरटीओ शिमला ने निजी बसों को अस्थाई तौर पर रूट परमिट जारी कर दिए है। इस संदर्भ में आरटीओ ने परिवहन निगम के अधिकारियों और निजी बस आपरेटर यूनियन के पदाधिकारियों की बैठक बुलाई। इसमें आरटीओ ने निजी बस आपरेटरों से कहा कि वे निगम कर्मियों के आंदोलन के जारी रहने तक लोकल सहित शिमला ग्रामीण क्षेत्र में भी बस सेवाएं दें। इस मामले पर उन्होंने निजी आपरेटरों की राय मांगी। इसके साथ ही उन्होंने जहां निगम की बसें अपने रूटों पर नहीं जा पा रही है, वहां पर निजी बसों को अस्थाई तौर पर रूट परमिट देने का निर्णय दिया। आरटीओ शिमला अरूण भारद्वाज ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि यह फैसला जनता को वर्क टू रूल से पेश आ रही समस्या को दूर करने के उदेश्य से लिया गया है। यह व्यवस्था अस्थाई तौर पर की जाएगी। निजी बस आपरेटरों के साथ काफी देर तक लोगों की परेशानी को दूर करने पर मंथन किया गया। इस दौरान निजी आपरेटरों ने ग्रामीण रूटों पर सेवाएं देने में पेश आने वाली अपनी समस्याओं को भी आरटीओ के समक्ष रखा। इसमें आपरेटरों ने कहा कि ग्रामीण रूटों पर चालक परिचालकों को रात को सोने की समस्या पेश आएगी। इन सभी मसलों पर विस्तार से चरचा बैठक में की गई। उधर हिमाचलयन निजी बस आपरेटर यूनियन के अध्यक्ष पूर्ण काल्टा ने बताया कि निजी बसें अपने स्थाई रूटों पर ही चलेंगी, यदि दिन के समय कोई बस फ्री होती है, या एक रूट पर दो से अधिक बसें चल रही है, तो एचआरटीसी के आग्रह पर जो संभव होगा बसें चलाई जाएंगी। उनका कहना है कि वे सहयोग के लिए तैयार है।

Spotlight

Most Read

Budaun

संरक्षित स्मारक रोजा को मजहबी रंग देने की कोशिश

संरक्षित स्मारक रोजा को मजहबी रंग देने की कोशिश

21 जनवरी 2018

Related Videos

मरने के बाद भी जिंदा रहेंगे ये बॉलीवुड कलाकार, आप भी देखें, कैसे...

बॉलीवुड कलाकारों को हम सिर्फ मनोरंजन की नजर से देखते हैं। लेकिन कुछ कलाकारों के नेक कामों को जानकार आप उनकी इज्जत पहले से ज्यादा करने लगेंगे...आइए देखते हैं कैसे...

21 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper