आज के छात्र नेता कल बनेंगे अफसर

Shimla Updated Sat, 25 Aug 2012 12:00 PM IST
शिमला। राजधानी के कालेजों में छात्र संघ चुनाव में जीत कर आए अध्यक्षों में कोई प्रशासनिक अधिकारी बनने का सपना संजोए है तो कोई राजनीति के माध्यम से जीवन भर समाज सेवा की अलख जगाने और लोगों की समस्याओं को हल कर उनकी राह आसान करने के लिए प्रयासरत रहने वाला है। यही नहीं, इन जीते प्रत्याशियों में ऐसे भी है, जो पढ़ाई को जारी रखते हुए इसे पूरा कर अच्छा रोजगार करने का कार्य करने का मन बनाए हुए हैं। जीते इन उम्मीदवारों में सिर्फ एक छात्रा ने ही राजनीति में अपनी सक्रियता को बनाए रखते हुए अपने संगठन के माध्यम से समाज कल्याण और हित के लिए लगातार प्रयासरत रहने की बात कही। आरकेएमवी कालेज में अध्यक्ष पद पर विजयी रही अपेक्षा ने कहा कि एसएफआई के लिए वे कार्य करती रहेंगी। इसके माध्यम से वह छात्र समुदाय और बाद में सामाजिक सुधार के कार्यों को करेंगी। उधर कोटशेरा कालेज में एसएफआई के अध्यक्ष पद पर विजयी रहे पवन चंदेल प्रशासनिक अधिकारी बनना चाहते हैं, वहीं इवनिंग कालेज के एससीए के अध्यक्ष चुने गए सुरेंद्र कुमार भी पढ़ाई पूरी कर प्रशासनिक अधिकारी बन कर अच्छा और कुशल प्रशासन देने के साथ ही वहां से समाज और आम गरीब आदमी के कल्याण का कार्य करने की इच्छा रखते हैं। संस्कृत कालेज फागली में अध्यक्ष चुनी गई सरिता पढ़ाई पूरी कर संस्कृत भाषा के प्रचार प्रसार और इसे आम आदमी के प्रयोग में लाने के लिए कार्य करने के साथ ही सामाजिक कार्य करना चाहती हैं। संजौली कालेज में अध्यक्ष चुने गए इशित भैक कालेज की पढ़ाई पूरी कर आगे भी इसे जारी रखते हुए निजी क्षेत्र में अच्छा और समान योग्य पद पाना चाहते हैं। वहीं वह राजनीति से भी जुड़े रहकर छात्र, समाज हित के लिए लगातार प्रयासरत रहने की बात करते हैं।
-----------------------------------

आरकेएमवी अध्यक्ष-अपेक्षा
क्या बनना चाहते हैं : राजनीति में सक्रिय रहकर सामाजिक कार्यकर्ता
तीन प्राथमिकताएं : आरकेएमवी में अलग छात्रावास निर्माण, बसों की सुविधा, अतिरिक्त क्लास रूम बनवाना
क्या है जीत का आधार : एसएफआई की की छात्र हितेशी विचारधारा
क्यों मिला इतना समर्थन : वर्ष भर परिसर में छात्र हित में किए कार्य और सक्रियता
----------------------
संजौली अध्यक्ष : इशित भैक
क्या बनना चाहते हैं : पढ़ाई को पूरी करने के बाद निजी सेक्टर में अच्छा रोजगार पाना
तीन प्राथमिकताएं : कालेज कन्या छात्रावास निर्माण, आर्ट्स ब्लाक मरम्मत, मूलभूत सुविधाएं दिलवाना, मार्कशीट में एक्सीलेंस कालेज प्रिंट करवाना
क्या है जीत का आधार : एसएफआई की विचारधारा
क्यों मिला इतना समर्थन : पिछली एससीए में चुनकर गए एसएफआई कार्यकर्ताओं ने और उन्होंने स्वयं कालेज में छात्र हित के मुद्दों को उठाया
----------
कोटशेरा कालेज एससीए अध्यक्ष : पवन चंदेल
क्या बनना चाहते हैं : प्रशासनिक अधिकारी
तीन प्राथमिकताएं : कालेज में छात्रावास निर्माण, चल रहे निर्माण कार्य पूरे करवाना, मूलभूत सुविधाएं दिलवाना
क्या है जीत का आधार: एसएफआई की छात्र हितैषी विचारधारा
क्यों मिला समर्थन : उनकी परिसर में सक्रियता, लगातार छात्र हितों को लेकर किए गए संघर्ष

इवनिंग कालेज एससीए अध्यक्ष : सुरेंद्र कुमार
क्या बनना चाहते हैं: प्रशासनिक अधिकारी बनकर समाज और जन कल्याण के कार्य करना
तीन प्राथमिकताएं : कालेज में कक्षाओं को कमरे दिलवाना, कैंटीन बनवाना, परिसर में शैक्षणिक, खेल और सांस्कृतिक गतिविधियों को प्रोत्साहित करना
क्या है जीत का आधार: संगठन की छात्र हितैषी सोच, जिसे छात्रों से सराहा है।
क्यों मिला समर्थन : लगातार परिसर में उनकी और संगठन की सक्रियता और छात्र मांगों को लेकर किए संघर्ष
-----------
संस्कृत कालेज फागली अध्यक्ष : सरिता
क्या बनना चाहते हैं : संस्कृत भाषा में आगे की पढ़ाई पूरी कर शिक्षिका बनना चाहती हैं।
तीन प्राथमिकताएं: कालेज का अपना भवन निर्माण करवाना, शिक्षकों के रिक्त पदों को भरना, परिसर में छात्रों को मूल सुविधाएं जुटाना
क्या है जीत का आधार : एबीवीपी की संस्कृत भाषा और छात्र हितैषी विचारधारा
क्यों मिला समर्थन: एबीवीपी ने लगातार बीते सत्र में परिसर में छात्र मांगों को लेकर संघर्ष किए है।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Lucknow

श्रीदेवी के जाने के साथ ही अधूरी रह गई लखनऊ की हसरत

2013 में लखनऊ के सहारा शहर में आयोजित दुर्गा पूजा अन्य सालों की अपेक्षा कुछ अलग थी, और इस अलग बनाया था बॉलीवुड की पहली सुपरस्टार श्रीदेवी की उपस्थिति ने।

25 फरवरी 2018

Related Videos

'सदमा' देकर मौन हुई बॉलीवुड की 'चांदनी', इन हस्तियों ने जताया दुख

बॉलीवुड की 'चांदनी' यानी श्रीदेवी हमेशा के लिए गुम हुई तो हर तरफ शोक की लहर दौड़ उठी। बॉलीवुड इंडस्ट्री से लेकर खेल जगत के दिग्गजों ने भी दुख जताया है। सभी अचानक हुई श्रीदेवी की मौत की खबर सुनकर स्तब्ध हैं।

25 फरवरी 2018

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen