बदलते खानपान से बढ़ा गठिया का खतरा

Shimla Updated Sun, 19 Aug 2012 12:00 PM IST
शिमला। जीवन शैली और खानपान में आए बदलाव के चलते हर आयु वर्ग के लोग आज गठिया रोग की चपेट में आ रहे हैं। शनिवार को मोहाली फोर्टिज के आर्थोपेडिक्स विभागाध्यक्ष व नी रिप्लेसमेंट विशेषज्ञ चिकित्सक मनुज वधवा ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा है कि 2013 अंत तक पूरे विश्व में गठिया रोग से ग्रस्त लोगों की संख्या करोड़ों में होगी। उन्होंने कहा कि आज घुटनों के दर्द और गठिया रोग की शिकायत हर वर्ग के लोगों में है। उन्होंने कहा कि देश में गठिया रोगियों की बढ़ती तादाद चिंता का विषय है। इस रोग से पीड़ित व्यक्ति के अंगाें के जोड़ खराब होेने के कारण काम करना बंद कर देते हैं। मरीज को चलने फिरने तक की मुश्किल हो जाती है। घुटनों के दर्द व गठिया रोग से निजात दिलवाने को फोर्थ जेनरेशन नी इंप्लांट दुनिया में सबसे एडवांस डिजाइन व तकनीक है। इससे 150 डिग्री तक घुटने की मूवमेंट संभव हो जाती है। यह कृत्रिम घुटना लंबे समय तक क्रियाशील रहता है।
डा. वधवा ने कहा कि फोर्टिज अस्पताल में उत्तर भारत का ऐसा पहला अस्पताल है, जिसमें फोर्थ जेनरेशन नी इंप्लांट को लोगों के लिए कं प्यूटर नेवीगेटेड रिप्लेसमेंट सर्जरी विधि अपनाई जाती है जिससे मरीज को नाममात्र दर्द होता है। उन्होंने कहा कि हिमाचल में रोगियों की बढ़ती तादाद को देखते हुए शिमला में भी अस्पताल की एक शाखा खोलने का प्रयास किया जाएगा। डा. मनुज वधवा ने डाक्टरों को भी नी रिप्लेसमेंट की आधुनिक तकनीक की जानकारी दी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

भारतीय डाक में निकलीं 2,411 नौकरियां, ऐसे करें अप्लाई

करियर प्लस के इस बुलेटिन में हम आपको देंगे जानकारी लेटेस्ट सरकारी नौकरियों की, करेंट अफेयर्स के बारे में जिनके बारे में आपसे सरकारी नौकरियों की परीक्षाओं या इंटरव्यू में सवाल पूछे जा सकते हैं और साथ ही आपको जानकारी देंगे एक खास शख्सियत के बारे में।

24 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls