लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Rajasthan ›   CBI raids Agrasen Gehlots house Ashok Gehlot targets Modi government

Rajasthan: सीएम के भाई अग्रसेन के घर सीबीआई का छापा, गहलोत बोले- दिल्ली में मेरे विरोध का बदला ले रहे  

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जयपुर Published by: उदित दीक्षित Updated Fri, 17 Jun 2022 05:38 PM IST
सार

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई को भी कोई नहीं जानता। उसी प्रकार मेरे भाई को कोई नहीं जानता था, पर सीबीआई का छापा पड़ा तो अब पता चल रहा है। अगर कोई राजनीति में है तो उसके परिवार से बदला लेना सही नहीं है।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत।
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत। - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के भाई अग्रसेन गहलोत के घर शुक्रवार को सीबीआई का छापा पड़ा। इसके बाद से प्रदेश की सियासत में सरगर्मी बढ़ गई है। छापे को लेकर सीएम अशोक गहलोत ने केंद्रीय एजेंसियों सहित पीएम नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा है। उन्होंने कहा- मैंने तो सीबीबाई, ईडी और इनकम टैक्स के प्रमुख अधिकारियों से 13 जून को मिलने का समय मांगा था। 15 जून को अग्रसेन के खिलाफ केस दर्ज हो गया और 17 जून को छापा भी पड़ गया। क्या अप्रोच है? यह मेरी समझ से परे है।


जयपुर एयरपोर्ट पर गहलोत ने मीडिया से बात करते हुए कहा, सरकार पर आए सियासी संकट के समय भी मेरे भाई पर जोधपुर में ईडी ने छापा मारा था। 40-45 साल से मेरे भाई अपना काम करते हैं और मैं अपना काम करता हूं। हमारे परिवार में बस इतना ही इंवोल्वमेंट है कि जब कोई शादी-विवाह होता है तब भी मैं सिर्फ एक वर्कर की तरह जाता हूं।  


सीएम गहलोत ने कहा, राहुल गांधी से ईडी की पूछताछ का मैं दिल्ली में विरोध करता हूं तो उसका बदला मेरे भाई से क्यों लिया जा रहा है? उनके परिवार का कोई सदस्य राजनीति में नहीं है, उनका भी राजनीति से कोई संबंध नहीं है। आम जनता को भी यह सब पसंद नहीं है। जितना ज्यादा लोगों को परेशान किया जाएगा उतना ही इनको नुकसान होगा। 

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाई को भी कोई नहीं जानता। उसी प्रकार मेरे भाई को कोई नहीं जानता था, पर सीबीआई का छापा पड़ा तो अब पता चल रहा है। अगर कोई राजनीति में है तो उसके परिवार से बदला लेना सही नहीं है। इससे कोई घबराने वाला भी नहीं है। उन्होंने कहा, रविवार को मैं फिर दिल्ली जाऊंगा और सोमवार को विरोध प्रदर्शन में शामिल होऊंगा।

सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर अन्याय हो रहा है। नेशनल हेराल्ड अखबार 1937 में निकला था। आज तक कांग्रेस इसे फाइनेंस करती आई है। यह नॉन-प्रॉफिटेबल संगठन हैं। एक रुपया भी सोनिया गांधी या राहुल गांधी चाहें तो भी घर में नहीं ले जा सकते, क्योंकि इसमें कानून कहता है कि ये नॉन-प्रॉफिटेबल संगठन हैं और उसमें कोई भी डायरेक्टर लाभांश नहीं ले सकता है। तो मनी लॉन्ड्रिग कैसे हो गई? 2015 में ईडी के जो जॉइंट डायरेक्टर थे या जो आईओ थे उन्होंने तमाम आर्ग्यूमेंट्स देकर केस क्लोज कर दिया था। 

यह भी पढें...

Rajasthan: मुख्यमंत्री गहलोत के भाई के घर पड़ा सीबीआई का छापा, पोटाश घोटाले को लेकर कार्रवाई

Rajasthan: जानिए क्या है पोटाश घोटाला, जिसमें सीएम गहलोत के भाई फंसे, 13 साल पुराने केस में अब सीबीआई का छापा



 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00