गैंगरेप पीड़िता ने जहर पीकर जान दी

Patiala Updated Fri, 28 Dec 2012 05:30 AM IST
ख़बर सुनें
पटियाला/समाना। पातड़ां के थाना घग्गा के अधीन पड़ते गांव में गैंगरेप की शिकार एक लड़की ने पुलिस की ओर से आरोपियों की गिरफ्तारी न होने से हताश होकर बुधवार रात जहर पीकर आत्महत्या कर ली। मामला उछलने के बाद वीरवार को पुलिस ने एक महिला समेत तीन आरोपियों को काबू कर लिया है, जबकि एक की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।
वहीं मामले में पुलिस की लापरवाही सामने आने के बाद डिप्टी सीएम सुखबीर सिंह बादल के आदेशों पर डीएसपी पातड़ां हरप्रीत सिंह भुल्लर को निलंबित कर दिया गया वहीं थाना घग्गा के एसएचओ गुरचरन सिंह को सस्पेंड कर दिया गया है और चौकी बादशाहपुर के इंचार्ज नसीब सिंह को बर्खास्त कर दिया गया है। मामले की जांच के लिए एसपी (डी) की अगुवाई में कमेटी बैठा दी गई है। वीरवार देर शाम डिप्टी सीएम ने डीजीपी सुमेध सिंह सैनी को आदेश जारी किए कि मामले की जांच रिपोर्ट एक हफ्ते में दी जाए और जांच में जो भी दोषी पाए जाएं, उन पर कार्रवाई की जाए।
दिवाली वाले दिन पातड़ां के गांव में 18 साल की एक लड़की को उसके परिवार के जान-पहचान की महिला आरोपी शिंदरपाल कौर की मदद से गांव के ही रहने वाले नौजवान आरोपी बलविंदर सिंह, गुरप्रीत सिंह और संदीप सिंह उठा ले गए थे और बाद में उसके साथ सामूहिक दुराचार किया था। वारदात के बाद कई दिनों तक पीड़ित लड़की व उसके परिवार वाले बादशाहपुर पुलिस चौकी समेत थाना घग्गा के इंचार्ज के पास अपनी फरियाद लेकर जाते रहे, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। 27 नवंबर को पुलिस ने आरोपी महिला शिंदरपाल कौर समेत बाकी तीनों आरोपियों के खिलाफ विभिन्न धाराओं में केस तो दर्ज किया, लेकिन किसी आरोपी की गिरफ्तारी नहीं की। यहां तक कि इस एफआईआर को रोजाना आने वाली क्राइम रिपोर्ट में भी पुलिस ने नहीं दिया।
आरोपियों की गिरफ्तारी न होने से हताश होकर गैंगरेप की शिकार लड़की ने बुधवार रात कोई जहर पी लिया। गंभीर हालत में उसे पीजीआई चंडीगढ़ ले जाते समय रास्ते में उसकी मौत हो गई। उसके शव को समाना अस्पताल ले जाया गया। मरने से पहले लड़की सुसाइड नोट छोड़कर गई है, जिसमें उसने अपनी मौत के लिए आरोपी बलविंदर सिंह, गुरप्रीत सिंह और शिंदरपाल कौर को दोषी ठहराया। इस मामले में भी पुलिस ने अलग से आत्महत्या के लिए उकसाने का केस दर्ज कर लिया है। मामले के उछलने के बाद पुलिस ने तीन आरोपियों को वीरवार को गिरफ्तार कर लिया, जबकि एक आरोपी संदीप सिंह की गिरफ्तारी नहीं हो सकी थी।
मृतक लड़की के परिजनों का आरोप है कि वह लोग इंसाफ पाने के लिए लगातार पुलिस चौकी के चक्कर लगा रहे थे, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। जब 27 नवंबर को केस दर्ज हुआ, तो उन पर पुलिस की ओर से आरोपियों के साथ समझौता करने के लिए दबाव बनाया जाने लगा। रोजाना पुलिस कर्मचारी वर्दी में उनके घर आरोपियों को समझौता करने के लिए ला रहे थे। अकसर उन्हें थाने में बुलाकर बेइज्जत किया जाता था।
घग्गा थाना के इंचार्ज गुरचरण सिंह ने बताया कि लड़की के साथ 13 नवंबर को दुराचार किया गया था लेकिन पीड़ित की तरफ से उनके पास 27 नवंबर को शिकायत दर्ज कराई गई। जिसके बाद उन्होंने कथित आरोपियों की तलाश शुरू कर दी।
आईजी पटियाला जोन ने मानी पुलिस की लापरवाही
आईजी पटियाला जोन परमजीत सिंह गिल, एसएसपी गुरप्रीत सिंह, एसपी (डी) प्रितपाल सिंह ने मामले के सामने आने के बाद बाद दोपहर पुलिस लाइन में एक पत्रकार वार्ता बुलाई, जिसमें आईजी पटियाला जोन ने इस मामले में पुलिस की लापरवाही को माना। उन्होंने कहा कि गैंगरेप के कई दिनों तक केस दर्ज नहीं हुआ, जब हुआ, तो आरोपियों को पकड़ा नहीं गया। मामले को दबाने की कोशिश की गई। उन्होंने कहा कि उन्हें व एसएसपी पटियाला को भी इस मामले की जानकारी दोपहर में मिली है। थाना घग्गा के एसएचओ सब इंस्पेक्टर गुरचरण सिंह को सस्पेंड कर दिया गया है वहीं चौकी बादशाहपुर के इंचार्ज नसीब सिंह को लाइन हाजिर कर दिया गया है। साथ ही मामले की जांच को एसपी (डी) प्रितपाल सिंह थिंद की अगुवाई में जांच कमेटी बिठा दी गई है, जो एक सप्ताह में अपनी रिपोर्ट देगी और इसमें जो भी दोषी पाया गया, चाहे वह कोई पुलिस अफसर हो या कर्मचारी, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

Most Read

Chandigarh

फैसले से पहले आसाराम केस के अहम गवाह महेंद्र ने बताया जान का खतरा, मांगी सुरक्षा

आसाराम व इसके पुत्र नारायण साईं के खिलाफ चल रहे केसों में अहम गवाह पानीपत के गांव सनौली निवासी महेंद्र चावला ने एक बार फिर दोनों से अपनी व अपने परिवार की जान को खतरा बताया है।

25 अप्रैल 2018

Related Videos

अमानवीय : दिल-दहला देगा सड़क हादसे का ये वीडियो

पंजाब के मोहाली में एक रोड एक्सीडेंट हुआ और उसके बाद जो हुआ वो दिल दहला देने वाला था। दरअसल एक्सीडेंट के बाद गाड़ी उस शख्स को तकरीबन एक किलोमीटर तक घसीटकर ले गई।

25 सितंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls

अमर उजाला ऐप चुनें

सबसे तेज अनुभव के लिए

क्लिक करें Add to Home Screen