फिर जिंदा हुए सरहद पार रिश्ते

Pathankot Updated Wed, 19 Sep 2012 12:00 PM IST
कादियां (गुरदासपुर)। कहते हैं रिश्ते कभी नहीं मरते, अगर आदमी में उन्हें जिंदा रखने की हिम्मत हो। देर-सवेर मिल ही जाते हैं। उम्मीद का चिराग हौसला बंधाता है कि कहीं सूरज की किरण है और वह जरूर आएगी। कुछ ऐसा ही हुआ कादियां के एक परिवार के साथ।
भारत-पाक विभाजन के समय कई परिवार पाकिस्तान जा बसे और कई इधर आ गए। कादियां मुसलमानों का गढ़ कहा जाता था। यहां से पूरा शहर ही पाकिस्तान जा बसा, लेकिन 313 दरवेश हिफाजते मरकज के लिये यहां पर आ गये। यहां जमायते अहमदिया के संस्थापक हजरत मिर्जा गुलाम अहमद कादियां मसीहे माऊद अलैहस्सलाम की मजार मुबारक के अतिरिक्त अन्य पवित्र स्थल हैं। उनकी रक्षा की जिम्मेवारी दरवेशान कादियां ने उठाई। जो दरवेश पाक से कादियां आ गये थे, उन्हें अपने रिश्तेदारों को मिले हुए 15-15 वर्ष गुजर गए थे।
उनमें से ही एक परिवार मुहम्मद इस्माइल नंगली का था जो बजाये पाकिस्तान जाने के पाकिस्तान से भारत आ गए तथा कादियां जोकि अहमदिया मुस्लिम जमात का मुख्य केन्द्र है, इसमें आकर बस गया। जबकि उसके सभी रिश्तेदार पाकिस्तान में चले गये। कई वर्षों तक उनका अपने रिश्तेदारों के साथ कोई भी संपर्क नहीं रहा। दाऊद अहमद नंगली ने बताया कि उनके एक रिश्तेदार ने बताया कि उनके पूर्वजों की नस्ल में से अनवर अहमद नाम का युवक जोकि इस समय जर्मनी में रह रहा है। उन्होंने बाद में उसका रिश्ता बेटी फायजा के साथ तय किया। उनके होने वाले दमाद ने अपनी पत्नी फायजा के जर्मनी वीजे के लिये आवेदन किया तो जर्मनी दूतावास ने यह कहकर वीजा देनेे से इंकार कर दिया कि वे अपनी शादी रजिस्टर्ड करवाएं। इसके लिये लड़के का भारती होना जरूरी था। लगभग एक वर्ष पहले अनवर ने अपनी माता के साथ भारत के वीजे के लिये अप्लाई किया, लेकिन इनको एक वर्ष गुजरने के बावजूद भारत का वीजा नहीं मिला है। जब दाऊद अहमद ने भागदौड़ की तो वीजा मिल गया। वीजा मिलने के बाद मंगलवार रात दोनों बिछुड़े परिवारों का मिलन फायजा तथा अनवर के विवाह के साथ हो गया।
फायजा का कहना है था कि उन्हें काफी परेशानी से गुजरना पड़ा। अनवर अहमद ने कहा कि उन्हें खुशी है कि जो परिवार 65 वर्ष पूर्व भारत पाक विभाजन के कारण दूर रहे आज उनकी शादी के साथ आपस में एक बार फिर मिले हैं। उनकी शादी में जमायते अहमदिया भारत के कार्यकारी प्रधान जलालुद्दीन नय्यर ने दुआ करवाई इस शादी में भारी संख्या में लोग उपस्थित थे।

Spotlight

Most Read

Rohtak

जीएसटी विभाग ने ई-वे बिल को लेकर जांच किया अवेयरनेस कैंपेन

जीएसटी विभाग ने ई-वे बिल को लेकर जांच किया अवेयरनेस कैंपेन

19 जनवरी 2018

Related Videos

GST काउंसिल की 25वीं मीटिंग, देखिए ये चीजें हुईं सस्ती

गुरुवार को दिल्ली में जीएसटी काउंसिल की 25वीं बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। इस मीटिंग में आम जनता के लिए जीएसटी को और भी ज्यादा सरल करने के मुद्दे पर बात हुई।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper