विज्ञापन

अतिक्रमण और गंदगी में घुट रहा जीरकपुर निवासियों का दम

Panchkula bureauपंचकुला ब्‍यूरो Updated Mon, 17 Feb 2020 02:12 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
जीरकपुर। अतिक्रमण, जाम और आवारा पशुओं के साथ गंदगी से भरी सड़कें और बदबू से जीरकपुर के निवासियों का दम घुटने लगा है। अमर उजाला द्वारा नगर काउंसिल के कांफ्रेंस हाल में आयोजित अमर उजाला संवाद कार्यक्रम के दौरान यह बातें सामने आईं। जीरकपुर के निवासियों में से ज्यादातर ने जीरकपुर में जाम और अतिक्रमण के साथ गंदगी को प्रमुख समस्या बताया।
विज्ञापन
खुद ही करवाता हूं काम
जीरकपुर में कई समस्याएं हैं। इन समस्याओं को देखते हुए मैंने अपनी कॉलोनी में खुद काम करवाना शुरू कर दिया है। मुझे जहां मालूम पड़ता है मैं काम करवाता हूं पर हरेक जगह पर ऐसा नहीं है। यहां पानी की कई प्रकार की समस्याएं हैं। लोकल ट्रांसपोर्ट की कमी है। ट्रैफिक की समस्या सबसे ज्यादा है। जो कामर्शियल पार्किंग बनाई गईं हैं उनमें अतिक्रमण ही इतना ज्यादा है कि लोग अपने वाहन पार्क नहीं कर सकते। नगर काउंसिल को इसके लिए काम करना चाहिए। -पवन नेहरू शिवालिक विहार
आवारा जानवर बने परेशानी
जीरकपुर में आवारा कुत्तों और जानवरों की समस्या विकराल होती जा रही है। चाहे वीआईपी रोड हो, ढकोली यह पीरमुछल्ला आवारा कुत्तों पर न तो रोक लगाई जाती है न ही इस संबंधी कार्रवाई की जाती है। हमने इस संबंध में चार बार नगर काउंसिल को लिखकर भी दिया पर नगर काउंसिल इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं कर रही। -अनिल कुमार धीमान निर्मल टावर, पीरमुछल्ला।
बिजली की समस्या विकराल
मैं पीर मुछल्ला में रहती हूं। यहां पहले कुछ स्ट्रीट लाइटें लगाई गईं थीं पर अब कोई स्ट्रीट लाइट नहीं जलती है। कुछ बिल्डरों ने अपना काम करने के लिए स्ट्रीट लाइट को तोड़ डाला। शाम ढलते ही यहां से निकलना खतरे से खाली नहीं होता। कई दुर्घटनाएं हो चुकी हैं। हम लोगों ने इस संबंध में नगर काउंसिल को जानकारी भी दी पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। -ममता ब्लिज फ्लोर, पीरमुछल्ला।
कब तक रहेगा जाम
जीरकपुर में पटियाला रोड, ढकोली व सिंहपुरा में जाम की जो स्थिति में 10 साल से देख रहा हूं वही हाल अभी भी है। इसमें कोई बदलाव नहीं आया है न ही नगर काउंसिल इस संबंध में कुछ करता है। सिंहपुरा से जो यू टर्न बनाया गया है वहां यदि कोई एंबुलेंस फंस जाती है तो उसको निकलने में काफी समय लग जाता है। इसी तरह यदि पटियाला रोड पर एंबुलेंस फंसती है तो हालात यही हो जाते हैं। -महेश अग्रवाल निर्मल टावर, पीरमुछल्ला
न सफाई न सफाई कर्मचारी
जीरकपुर में सबसे बड़ी समस्या है यहां की झुग्गियां। यह झुग्गियां भी इसी इलाके के एक पावरफुल व्यक्ति की देन हैं। इन झुग्गियों की वजह से पानी जमा हो जाता है। यहां गंदगी की हद है। यहां न तो सफाई होती और न ही यहां सफाई कर्मचारी दिखाई देते हैं। झुग्गियों के कारण एक तो अतिक्रमण हो रहा है और दूसरा गंदगी भी तेजी के साथ फैल रही है। यहां मुझको सफाई कर्मचारी तक नहीं दिखाई देते हैं। -गिरीश सैमुअल स्वामी एनक्लेव, ढकोली
क्या कहते हैं लोग
जीरकपुर के निवासी स्वास्थ्य, शिक्षा और बिजली के साथ पार्किंग की समस्याओं से घिरे हैं। यहां बिजली का रेट ज्यादा है, लेकिन इतने ज्यादा रेट होने के बावजूद यहां बिजली पूरे समय नहीं मिलती है। यह बड़ी विंडबना है कि यहां के अधिकारी ट्राइसिटी के इस महत्वपूर्ण हब को अनदेखा कर रहे हैं। एक ओर तो यहां ऊंची-ऊंची बिल्डिगों का अंबार लगता जा रहा है वहीं, दूसरी ओर जरूरी सुविधाएं गायब होती जा रही हैं। -चंद्रमा मिश्रा ढकोली
जीरकपुर के बाहर की सड़कें तो ठीक की गईं हैं पर जीरकपुर की भीतरी सड़कों का हाल एकदम बेहाल है। यहां सड़कों की समस्या काफी ज्यादा है। आप चाहे वीआईपी रोड को ले लें या फिर बलटाना, हरमिलाप नगर और ढकोली की सड़कों को ले लें। यहां कई रेजीडेंशियल इलाकों के मुख्य प्रवेश द्वार पर सड़कों का हाल एकदम खराब है। इसमें न तो नगर काउंसिल द्वारा मरम्मत करवाई जाती है न ही उसकी ओेर कोई ध्यान दिया जाता है। -जितेंदर यादव एकेएस कालोनी जीरकपुर।
मैं काफी समय से वीआईपी रोड पर रहता हूं। पिछले कई साल से देख रहा हूं कि मेट्रो से लेकर ट्रिपल सी तक सड़कें बनाई जाती हैं और उसके बाद यह सड़कें एकदम से टूट जाती हैं। ऐसा ही हाल बलटाना की ओर जाने पर मिलता है। इसके साथ ही यदि देखें तो वीआईपी रोड काफी चौड़ी है पर उसमें अतिक्रमण की वजह से जाम लग जाता है। इतना ही नहीं, कुछ समय में रेहड़ियां हटवाई जाती हैं तो दोबारा से वह यहीं लग जाती हैं। -कर्ण बेदी, वीआईपी रोड, आरकेएम सोसायटी।
मुझको जीरकपुर में रहते हुए 20 साल से ज्यादा हो गया है। मेरी अपनी एंबुलेंस भी है। जीरकपुर की बात करें तो यदि यहां से किसी मरीज को ले जाना हो तो जीरकपुर के जाम से निकलने में ही लंबा समय लग जाता है। जीरकपुर में कोई ढंग का अस्पताल नहीं है। जो थोड़े अच्छे अस्पताल हैं वे प्राइवेट हैं। वास्तव में जीरकपुर का जाम सबसे बड़ी विकराल समस्या बनकर उभरा है। -सोनू सेठी, सेठी ढाबा
यहां कोठियां बाई गई हैं और पीजी रखे गए हैं। पीजी में हंगामा होता रहता है। आम आदमी का निकलना मुश्किल हो गया है। जीरकपुर में तो अब कानून व्यवस्था तक नहीं है। रेहड़ी-फड़ी के अतिक्रमण का मुद्दा हो, नशा हो या चोरियों का मामला। नशे के चक्कर ने यहां चोरियों को बढ़ावा दिया है। किसी को पुलिस का डर नहीं रह गया है। अब जरूरी है कि इसको रोका जाए। -गुरचरण सिंह शिवालिक विहार।
जीरकपुर के जाम की बात करें तो उसकी अहम वजह है गलत ढंग से रोड पर खड़े होने वाले वाहन। पटियाला चौक पर सरकारी, निजी बस और टैंपो सड़क पर ही खड़े किए जाते हैं जिसकी वजह से जाम लग जाता है। यही हाल सिंहपुरा का भी है, यहां यू टर्न इतना लंबा बनाया गया है कि जाम से निजात मिलने की संभावना तक नजर नहीं आती है। -संदीप सिंह
अतिक्रमण की वजह से पब्लिक ट्रांसपोर्ट पूरी तरह से प्रभावित है। नगर काउंसिल वाले आते हैं और दुकानें हटा जाते हैं। पंरतु वहीं दोबारा दुकानें सजा दी जाती हैं। इस मामले को हमने एमसी की बैठक में रखा था। सिर्फ इतना ही नहीं, जीरकपुर एक शापिंग हब की तरह विकसित हो रहा है पर यहां जनसुविधाओं के अंतर्गत शौचालय तक नहीं है। -प्रताप सिंह राणा, प्रेसीडेंट ज्वाइंट एक्शन कमेटी फॉर वेलफेयर ऑफ बलटाना रेजीडेंट्स
बलटाना में रेलवे ब्रिज के नीचे हमेशा जाम रहता है। बिजली के तारों का हाल एकदम खराब है। इनकी वजह से यहां आए दिन आग लगने की घटना होती रहती हैं। यहां पर ट्रांसफार्मर भी नहीं है। अब गर्मियां आ रही हैं और गर्मियों में अक्सर बिजली के तारों में आग लग जाती है। जीरकपुर की दूसरी समस्या यहां पर कोई शमशान घाट न होना है। -प्रकाश चंद कटोच, सैनी विहार फेज-4
जब चुनाव का माहौल होता है तो नेता आते हैं और तमाम प्रकार के वादे करते हैं पर हकीकत में कुछ नहीं करते। अब चुनाव के पहले कजौली वाटर वर्क्स से पानी लाने की बात की जा रही थी पर अब तक पानी नहीं आया। जीरकपुर के लिए यह सबसे अहम मुद्दा था लेकिन अब न तो नेताजी आते हैं और न ही पानी। -विजय कुमार गुप्ता सैनी विहार फेज-4, बलटाना
जीरकपुर की विकास तभी संभव है जब यहां सभी की जवाबदेही तय की जाए। ढकोली में नाले की समस्या है और इसमें हमने ईओ को विजिट करवाया। परंतु इसका कुछ फायदा नहीं हुआ। ढकोली की सब्जी मंडी के एकदम नजदीक डंपिंग ग्राउंड है। कई नेताओं ने चुनाव के पहले इसको देखा और समस्या का हल निकालने की बात कही पर अब सभी गायब हैं। -हर्ष रावत जनरल सेक्रेटरी राम विहार बलटाना
बलटाना के फाटक के पास रोजाना लंबी लाइन लगती है। यदि किसी को अस्पताल जाना हो तो उसका यहां से निकलना मुश्किल है। यह मुद्दा हमारे लिए सबसे ज्यादा अहम है। इसके साथ ही जीरकपुर की बीमारी बन चुकी यहां की झुग्गियां भी सबसे बड़ी परेशानी बन चुकी हैं। हां, एक बात और कि सेग्रिगेशन के लिए लोगों को हरे और नीले कूड़ेदान तो दे दिए गए पर उसे कौन लेकर जाएगा यह तय नहीं हुआ। -केआर शर्मा प्रेसीजेंट, यूनीफाइड रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन
यहां पर आवारा पशुओं की समस्या सबसे ज्यादा है। हमसे जब काउ सेस लिया जाता है तो कम से कम आवारा पशुओं से हमको निजात दिलाया जाए। -जीएस वर्मा ब्लिंगटन स्टेट ढकोली
यहां पर नाले की सबसे बड़ी समस्या है। इसमें खूब कचरा जमा रहता है जिसकी वजह से कई बीमारियां होती हैं। -एसके शर्मा प्रेसीडेंट, गुरुनानक नगर ढकोली
जीरकपुर में नगर काउंसिल द्वारा प्रापर्टी टैक्स लिया जाता है। हमको सुविधाएं नहीं मिलती है। हमको सुविधाएं दी जाएं। -बलबीर सिंह सोलिटेयर डिवाइन ढकोली
जीरकपुर की सारी समस्याओं का समाधान होना चाहिए। जब तक प्रशासन हमारी समस्याओं को नहीं सुनेगा हमारे लिए मुसीबतें बढ़ती रहेंगी। -कौशल सब्बरवाल प्रेसीजेंट सालिटेयर डिवाइन ढकोली
11 साल से मैं हरमिलाप नगर में रहता हूं। यहां पाइप लाइन पड़ी है पर सीवरेज की समस्या का हल नहीं हुआ। पाइप में लीकेज की वजह से सीवरेज का पानी भी आ जाता है। -कैलाश सैमुअल हरमिलाप नगर फेज-2
हमारे यहां फाटक की वजह से कई समस्याएं हैं। हम सुबह आफिस के लिए निकलते हैं तो आधा घंटा हमको अपनी रोड से निकलने में ही लग जाता है। -राजकुमार शर्मा
जीरकपुर में कूड़े की समस्या यहां के कुछ ठेकेदारों की वजह से है। वह अपनी मर्जी से काम करते हैं और इसी वजह से हमको काफी नुकसान होता है। -राजेश कंबोज
ट्रैफिक पुलिस चाहे तो जाम से निजात आसानी से मिल सकती है। जीरकपुर में असल समस्या ट्रैफिक की है। इससे काफी कुछ प्रभावित हो रहा है। -दलबीर सिंह नाभा
मैं जब सेक्टर-20 पंचकूला की ओर से आता हूं तो वहां प्रकाश टावर के साथ अतिक्रमण इतना ज्यादा है कि हमारे लिए कई समस्याएं हो जाती हैं। -राकेश गर्ग, निवासी प्रकाश टावर
मेरा मानना है कि जीरकपुर में स्ट्रीट लाइट की समस्या सबसे ज्यादा है। इस समस्या को जल्द से जल्द खत्म किया जाना चाहिए। राहुल शर्मा
स्वामी एनक्लेव ढकोली में पानी की सप्लाई की समस्या ज्यादा है। इसमें हमको कई बार पानी में गंदगी भी मिलती है। इससे निजात नहीं मिलती है। -आरके सक्सेना
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us