लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Chandigarh ›   Mohali ›   Vigilance caught constable and inspector with ten thousand bribe

विजिलेंस ने दस हजार रिश्वत लेते हवलदार और थानेदार को रंगे हाथों दबोचा

Mohali Bureau मोहाली ब्‍यूरो
Updated Thu, 04 Feb 2021 01:53 AM IST
Vigilance caught constable and inspector with ten thousand bribe
विज्ञापन
ख़बर सुनें
मोहाली। विजिलेंस ब्यूरो की टीम ने इंडस्ट्रियल एरिया फेज-8 की पुलिस चौकी में तैनात थानेदार और हवलदार को दस हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों दबोचा है। इस मामले में एक निजी कंपनी के मालिक करण सिंह, निवासी गांव नाहन, जिला कांगड़ा, हिमाचल प्रदेश, हाल निवासी फेज-3बी1 मोहाली ने विजिलेंस को शिकायत दी थी। करण सिंह ने बताया कि उनके खिलाफ किसी व्यक्ति ने कोई शिकायत दी थी। इस शिकायत के निपटारे के लिए उक्त थानेदार और हवलदार दोनों पैसे मांग रहे थे। इसके साथ ही धमकियां दे रहे थे कि अगर पैसे नहीं दिए तो उस पर झूठा केस दर्ज कर दिया जाएगा। दोनों आरोपियों की पहचान थानेदार कृष्ण कुमार और हवलदार अजय गिल के रूप में हुई है। जबकि एक और अज्ञात थानेदार की पहचान के बारे में विजिलेंस जांच कर रही है। इस मामले में डीएसपी हरविंदर पाल सिंह ने कहा कि भ्रष्टाचार रोको अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत केस दर्ज कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।

वहीं, विजिलेंस को करण सिंह ने बताया कि उसका लोगों को बैंक से लोन दिलाने का काम है। उसने कई मुलाजिम भी रखे हुए हैं। लेकिन इनमें से एक-दो मुलाजिम किसी कारण नौकरी छोड़ गए थे। इस पर उन मुलाजिमों ने पुलिस चौकी इंडस्ट्रियल एरिया फेज-8 के हवलदार को बताया कि यह कंपनी फ्रॉड है। इसके बाद हवलदार अजय गिल 27 जनवरी को उसके दफ्तर से लैपटॉप और अन्य सामान ले गए। इसके बाद उसे पुलिस चौकी बुलाया गया। यहां पर उसके साथ इस केस का निपटारा करने के लिए 20 हजार रुपये रिश्वत की मांग की गई। इस पर करण ने आरोपियों को मौके पर ही आठ हजार रुपये दिए गए और बाकी पैसे नहीं दिए। इसके बाद 2 फरवरी को उसे दोबारा पुलिस चौकी बुलाया गया। इसके साथ ही थानेदार कृष्ण कुमार ने कहा कि उसका पूरा सामान उसके पास है और उसके बदले 25 हजार रुपये की मांग रखी गई। इस पर करण ने मौके पर ही 15 हजार रुपये दे दिए। जबकि 10 हजार रुपये 3 फरवरी को देने की बात कही गई। इसके बाद उसने इस मामले की शिकायत विजिलेंस को दे दी।

इसके बाद विजिलेंस ने योजना बनाकर 10 हजार रुपये की रिश्वत लेते दोनों आरोपियों को रंगे हाथों मौके पर ही दबोच लिया। विजिलेंस ने दोनों आरोपियों के ट्रंक से 15 हजार रुपये बरामद किए हैं। विजिलेंस के मुताबिक हवलदार अजय गिल को इसलिए गिरफ्तार किया गया है, क्योंकि उसके पास से शिकायतकर्ता का लैपटॉप और एक चेक भी बरामद किया गया है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00