बरसात में पार्कों की बदहाली से लोग परेशान, रेन वाटर से जलस्तर बचा रहा निगम

Panchkula bureauपंचकुला ब्‍यूरो Updated Fri, 10 Jul 2020 02:12 AM IST
विज्ञापन
बारिश के बाद सेक्टर 70 के पार्क में खड़ा गंदा पानी।
बारिश के बाद सेक्टर 70 के पार्क में खड़ा गंदा पानी। - फोटो : MOHALI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
मोहाली। मानसून के दौरान पिछले कई दिनों से हुई भारी बारिश के साथ ही वीआईपी सिटी के पार्क बदहाल नजर आने लगे हैं। पार्कों की इस बदहाली का ठीकरा लोग नगर निगम के सिर पर फोड़ रहे हैं। समाज सेवी संस्थाएं भी पार्कों की बदहाली के लिए निगम को जिम्मेदार ठहरा रही हैं।
विज्ञापन

वहीं, निगम पैक की स्टडी रिपोर्ट का हवाला देते हुए पार्कों की जमीन का लेवल ऊपर करने को खारिज कर रहा है। इसके पीछे गिरते जलस्तर और पर्यावरण संरक्षण की बात कही जा रही है। वीआईपी सिटी के पार्कों में लेवलिंग की समस्या काफी पुरानी है। इसके अलावा पार्कों की मेंटेनेंस को लेकर भी सवाल उठते रहे हैं। शहर के पार्कों की मेंटेनेंस का काम अब प्राइवेट कंपनियों से वापस लेकर नगर निगम ने खुद संभाल लिया है। लोगों का कहना है कि जब से निगम ने पार्कों की मेंटेनेंस का काम अपने हाथ में लिया है, तब से पार्कों की हालत और भी ज्यादा खराब हो गई है।
लंबे समय तक कोरोना लॉकडाउन के बाद शुरू हुए अनलॉकिंग के दौर में लोग पार्कों में निकले तो उन्होंने राहत महसूस की, लेकिन बरसात शुरू होने के साथ ही लोगों के लिए पार्कों में जाना दूभर हो गया है। वीआईपी सिटी के पार्कों की जमीन के नीचे लेवल होने की समस्या दो दशक से भी ज्यादा समय से चली आ रही है। सांसद रहते हुए प्रो. प्रेम सिंह चंदूमाजरा ने गमाडा और निगम अधिकारियों के साथ इस मुद्दे को उठाया था। अधिकारियों को निर्देश भी दिए गए थे, लेकिन कोई भी प्रोजेक्ट आज तक शुरू ही
पैक रिपोर्ट में लेवल ऊंचा न करने की सलाह
वीआईपी सिटी के पार्कों की दशा सुधारने और बरसात में जलभराव को लेकर वर्ष 2016-17 में पैक ने पार्कों की ग्राउंड स्टडी की थी। जिसके आधार पर एक विस्तृत रिपोर्ट तैयार कर पैक ने प्रशासन, नगर निगम और गमाडा को सौंपी थी। निगम कमिश्नर कमल गर्ग कहते हैं कि पैक ने अपनी रिपोर्ट में पार्कों की जमीन का लेवल ऊंचा नहीं करने की सलाह दी है। जिसके पीछे मोहाली के गिरते जलस्तर को कारण बताते हुए बरसाती पानी को पौधों के लिए भी लाभदायक बताया गया है। निगम कमिश्नर का कहना है कि बरसात के कारण जो पानी पार्कों में जमा होता है, उसे 12 से 24 घंटों के भीतर जमीन सोख लेती है। निगम का तर्क है कि लेवलिंग ऊंची करने से पार्कों से बरसाती पानी सड़कों पर आएगा, जिससे लोगों को ज्यादा परेशानी होगी।
निगम नहीं कर सकता पार्कों की देखभाल तो इनमें लगवा दें धान
मोहाली विकास मंच के प्रधान विनीत वर्मा पार्कों में जलभराव और मेंटेनेंस के अभाव के लिए निगम को जिम्मेदार ठहराते हैं। उनका कहना है कि शहर में बुजुर्गों सहित अन्य नागरिक सामान्य तौर पर पार्कों में नियमित रूप से सैर के लिए आते हैं। बच्चे खेलने के लिए पार्कों पर ही निर्भर हैं। पार्क शहर की आम दिनचर्या का हिस्सा हैं। जब से पार्कों की मेंटेनेंस का काम निगम ने अपने हाथ में लिया है तब से इनकी हालत और भी बदतर हो गई है। बरसात के दिनों में पार्क तालाब बन जाते हैं। विनीत वर्मा ने कहा कि निगम अगर पार्कों को नहीं संभल सकता तो इसमें धान ही लगवा दें, पार्कों की जमीन फसल उगाने के काम तो आएगी।
सेक्टर-70 का म्यूजिकल फाउंटेन पार्क भी बदहाल
सेक्टर-70 का म्यूजिकल फाउंटेन पार्क भी लंबे समय से बदहाली का शिकार है। म्यूजिकल फाउंटेन ड्रेनिंग, रेन वॉटर स्टोरेज प्रोजेक्ट, पंप, ट्रैक, ट्यूबवेल के पास के क्षेत्र को समतल करने के साथ लैंड स्केपिंग के प्रोजेक्ट यहां लंबित चल रहे हैं। स्थानीय लोगों सहित समाज सेवी संस्थाएं भी इसे लेकर आवाज उठाती रही हैं। बंद पड़े म्यूजिकल फाउंटेन के पूल में बरसात का पानी भर गया है। वीरवार को गर्मी दूर करने के लिए बच्चे इस गंदे बरसाती पानी में नहाते नजर आए। कोविड-19 के बीच सोशल डिस्टेंसिंग को दरकिनार कर बच्चे काफी संख्या में यहां जमा हुए। इन्हें रोकने के लिए यहां कोई नहीं था। स्थानीय निवासी और समाज सेवी केएनएस सोढ़ी का कहना है कि निगम की लापरवाही के चलते पहले से ही करोड़ों की लागत से बना पार्क बदहाल पड़ा है। ऐसे में कोविड-19 के बीच बच्चों का सोशल डिस्टेंसिंग को दरकिनार कर गंदे पानी में नहाना उनके लिए ही बड़ा खतरा साबित हो सकता है। उन्होंने बताया कि पार्क की देखभाल के लिए कोई कर्मचारी तक यहां मौजूद नहीं रहता। उधर, निगम कमिश्नर कमल कुमार गर्ग ने बताया कि पूल में जमा हुए बरसाती पानी को पंप से निकाला जा रहा है और ड्रेनेज सिस्टम को भी जल्द ही ठीक करवा दिया जाएगा।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us