बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

सुषमा स्वराज के नाम पर ठगी

Updated Sat, 03 Jun 2017 08:07 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
सभी केंद्रों के ध्यानार्थ................
विज्ञापन


सुषमा स्वराज का करीबी बता ठगे 56 लाख
- फेज-10 की एक इमीग्रेशन कंपनी ने विदेश भेजने के नाम पर की लाखों की ठगी
- नेपाल, हरियाणा और पंजाब के लोगों को बनाया शिकार
-कई इंस्टीट्यूट मालिकों को भी कंपनी की तरफ से ठगा गया
अमर उजाला ब्यूरो
मोहाली।
कनाडा, आस्ट्रेलिया और सिंगापुर का वर्क परमिट व स्टडी वीजा पर भेजने के नाम फेज-10 की एक नामी इमीग्रेशन कंपनी द्वारा 58 लाख रुपये से अधिक की ठगी करने का मामला सामने आया है। कंपनी ने नेपाल, हरियाणा और पंजाब के कई जिलों के लोगों को ठगा है। ठगी का खुलासा होने पर लोगों ने कंपनी वालों से अपने पैसे मांगे तो आरोपियों की दलील होती थी केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से उनके अच्छे संबंध हैं। इस संबंध में गो सेवा दल पंजाब के प्रधान संजीव बबला ने एसएसपी को शिकायत दी है। साथ ही कंपनी के प्रबंधकों के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की है।
फेज-4 स्थित मोहाली प्रेस क्लब में प्रेस कांफ्रेंस के दौरान गो सेवा दल के प्रधान ने बताया कि कंपनी पति-पत्नी द्वारा चलाई जाती है। जबकि आरोपियों ने आफिस में दो लड़कियों की ड्यूटी लगा रखी थी। इस कंपनी ने दो साल पहले पंजाब के विभिन्न हिस्सों में सेशन करके लोगों को विदेश जाने के सपने दिखाए थे। इतना ही नहीं कई इंस्टीट्यूट के लोग भी इनके चक्कर में आ गए थे। इसके बाद उन्होंने लोगों से पेमेंट व उनके पासपोर्ट आदि ले लिए थे। आरोप है कि कंपनी ने न तो उनके पैसे वापस किए और न ही दस्तावेज लौटाए। पीड़ित जब अपने रुपये लेने आए तो उन पर झूठे केस दर्ज करवाने की फेज-11 के थाने में डीडीआर दर्ज करवा दी थी। साथ ही लोगों को धमकियां देकर कहा था कि अगर उनके यहां पैसे लेने आए तो उन्हें जेल की हवा खानी पड़ेगी। उन्हें ऐसे अपराधों में फंसाया जाएगा, जिसके बारे में वह सोच भी नहीं सकते हैं। संजीव ने बताया कि इस संबंध में एसएसपी ने उन्हें सोमवार को बुलाया है।


दिल्ली में करवाए मेडिकल
आरोपियों की धोखाधड़ी पर किसी को संदेह न हो इसका भी उन्होंने पूरा ध्यान रखा। लोगों के मेडिकल दिल्ली में करवाए गए। मेडिकल के लिए उनसे छह हजार रुपये अलग से लिए गए। इसके बाद आगे की कार्रवाई की गई।

फर्जी लगाए वीजा, चेक करवाए तो खुली पोल
आरोपियों ने लोगों के फर्जी ही विदेश के वीजा लगवा दिए। इतना ही नहीं उन्हें विदेश की उन कंपनियों के दस्तावेज भेज दिए थे, जिनमें उन लोगों को काम करना था। लेकिन यह सब फर्जी थे। लोगों ने जब इसकी जांच करवाई गई तो मामले की पोल खुल गई।

जमीन बेचकर व कर्ज पर लिए थे पैसे
अमरजीत कौर ने बताया कि जिन लोगों ने विदेश जाने की तैयारी की थी उन्होंने पैसे किसी से ब्याज पर लिए थे तो किसी ने जमीन बेचकर पैसे जुटाए थे। नेपाल वाले लोगों का कहना है कि इसके लिए उन्होंने अपनी जमीन तक बेच दी थी। उन्हें उम्मीद थी कि अब उनकी दुनिया बदल जाएगी, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है। उन्होंने बताया कि अब मजबूरी में लोगों को मजदूरी करनी पड़ रही है। यहां तक कई लोगों के परिवार तो बर्तन तक साफ कर रहा है।

ये लोग हुए ठगी के शिकार
गज्जन सिंह कुरुक्षेत्र 3.65 लाख
परगट सिंह पटियाला 3.25 लाख
लखवीर सिंह मलेरकोटला 3.25 लाख
अर्शदीप सिंह मलेरकोटला 3.25 लाख
ओंकार सिंह मलेरकोटला 3.25 लाख
हरदेव सिंह पातड़ा 3.25 लाख
विशाल, राजकुमार और वशनीय नेपाल 5.20 लाख
दीप कुमार चीका 3.25 लाख
बलजिंदर सिंह अमृतसर 5 लाख
अजिंदर सिंह जालंधर 5 लाख
राकुमार सैनी लाडवा 17 लाख

सुषमा स्वराज से सोमवार को करेंगे मुलाकात
गो सेवा दल के प्रधान ने बताया कि उन्होंने इस मामले में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मिलने का समय ले लिया है। मीटिंग सोमवार सुबह साढ़े 11 बजे दिल्ली में होगी। साथ ही इस संबंध में उन्हें पूरी जानकारी दी जाएगी।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us