इंडस्ट्री को लगा बिजली का झटका

Mohali Updated Wed, 18 Jul 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
मोहाली। बुनियादी सहूलियतों की कमी, पॉवर कट जैसी समस्याओं से जूझ रही इंडस्ट्री को बिजली दरों में बढ़ोतरी से जबरदस्त झटका लगा है। मोहाली इंडस्ट्रीज एसोसिएशन ने सरकार से मांग की है कि बढ़ोतरी फौरन वापस ली जाए।
विज्ञापन

एमआईए प्रेसिडेंट अनुराग अग्रवाल ने कहा कि इंडस्ट्री अपने वर्करों को न्यूतनतम मेहनताना देती है। वैट भी जमा कराती है। अब उस पर बिजली दरें बढ़ा कर जबरदस्त बोझ डाला गया है। इससे इंडस्ट्री को इतना नुकसान होगा, जिसकी भरपाई वह अपने ग्राहकों से भी नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि मोहाली की एमएसएमई पहले ही पॉवर कट की समस्या से जूझ रही हैं, उन पर साप्ताहिक कट थोपा गया है। अब एक और बोझ डाल दिया गया, जिसके बाद उद्यमियों के पास सड़कों पर उतर कर आंदोलन करने के अलावा कोई चारा नहीं है। सरकार बार-बार इंडस्ट्री को बेहतर सुविधाएं देने के दावे करती है, पर हालात बदतर होते जा रहे हैं।
एमआईए महासचिव आरपी सिंह ने कहा कि पहले ही इंडस्ट्री वैश्विक मंदी के साये में नुकसान झेल रही है। उद्योगों को ज्यादा कारोबार नहीं मिल रहा है। जो थोड़े बहुत ऑर्डर मिल भी रहे हैं, अब उनमें भी मुनाफा बहुत कम हो जाएगा। क्योंकि बिजली दरों में बढ़ोतरी से इंडस्ट्री का खर्च और बढ़ेगा। एमआईए ने सरकार से मांग की कि बिजली दरों में बढ़ोतरी का फैसला वापस लेकर इंडस्ट्री को कुछ ऑक्सीजन दी जाए।
बिजली दरों में बढ़ोतरी से उपभोक्ता नाराज
कंज्यूमर प्रोटेक्शन फेडरेशन और सिटीजन वेलफेयर डेवलपमेंट फोरम ने की निंदा
अमर उजाला ब्यूरो
मोहाली। पंजाब सरकार द्वारा बिजली की दरों में बढ़ोतरी से उपभोक्ता सख्त नाराज हैं। लोगों के संगठन कंज्यूमर प्रोटेक्शन फेडरेशन और सिटीजन वेलफेयर डेवलपमेंट फोरम ने इसकी निंदा की। साथ ही बढ़ोतरी वापस लेने की मांग की।
फेडरेशन के प्रधान पीएस विरदी ने कहा कि बिजली दरों में 12 फीसदी बढ़ोतरी कर सरकार ने घरेलू उपभोक्ताओं पर जबरदस्त वित्तीय बोझ डाला है। वहीं, इसे अप्रैल से लागू करने की मंजूरी देकर और बड़ा धक्का किया है। जानबूझ कर निगम चुनाव व दसूआ उपचुनाव निपटने के बाद यह बढ़ोतरी की गई है। विभाग सरकारी विभागों से करोड़ों की वसूली तो कर नहीं सका, आम आदमी पर बोझ डाल दिया गया है। मीटिंग में बढ़ोतरी वापस लेने की मांग की गई। इस मौके पर अमरनाथ शर्मा, लेफ्टिनेंट कर्नल एसएस सोही, सविंदर खोखर, सुरजीत गरेवाल, रतन दीवान, जय सिंह सैंबी, हरबिंदर सिंह भी थे।
वहीं, प्रधान अलबेल सिंह सियान की अगुवाई में हुई फोरम की मीटिंग में भी बढ़ोतरी वापस लेने की मांग की गई। सदस्यों ने कहा कि लोग पहले ही मंहगाई से दुखी हैं, उन पर और बोझ डाल दिया गया है। रेगुलेटरी कमीशन भी कभी आम लोगों की परवाह नहीं करता, वह सरकारी विभागों का पक्ष लेता है। आम आदमी कमीशन की बैठकों तक में हिस्सा नहीं ले सकता। इस मौके पर एसएस धनोआ, एचएस मंड, एचएस जटाना, करम सिंह धनोआ, बीएस मुलतानी, जगतार सिंह, हाकम सिंह भी थे।

-- बॉक्स
सरकार ने डाला आम आदमी पर बोझ: सिद्धू
मोहाली। कांग्रेस विधायक बलबीर सिद्धू ने कहा कि सरकार ने बिजली दरों में बढ़ोतरी कर आम आदमी की जेब पर भारी बोझ डाल दिया है। वहीं, पंजाब के डूब रहे उद्योगों को भारी चोट पहुंचाई है। यह सोची-समझी साजिश है। क्योंकि टैक्स लगाने के मकसद से ही सरकार ने नगर निगम चुनाव समय से पहले करा दिए। दसूआ चुनाव निपटते ही सरकार ने बिजली दरें बढ़ा कर लोगों को मंहगाई का तोहफा दिया। बिजली सप्लाई का हाल पहले ही खराब था, अब रेट बढ़ने से लोगों की कमर टूट जाएगी। उन्होंने कहा कि अगर बढ़ोतरी वापस न ली गई तो कांग्रेस संघर्ष छेड़ेगी।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us