चंडीगढ़ की जंग का मैदान फिर बना मोहाली

Mohali Updated Thu, 21 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
मोहाली। चंडीगढ़ के गुटों की रंजिश और जंग का मैदान एक बार फिर मोहाली बना। मंगलवार रात सेक्टर 69 में दो गुटों के बीच हुई फायरिंग में थाना फेज आठ पुलिस ने मामला दर्ज कर एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। जबकि, बाकी सभी फरार हैं। फायरिंग में जख्मी दोनों युवकों को फोर्टिस में दाखिल कराया गया है, उनकी हालत खतरे से बाहर है। सूत्रों के मुताबिक मोहाली में टकराए दोनों गुटों में से एक एनएसयूआई और दूसरा पूसू से संबंधित है। इससे पहले भी मोहाली में कई बार चंडीगढ़ के छात्र गुटों के बीच टकराव हो चुका है।
विज्ञापन

सूत्रों के मुताबिक गुरदीप सिंह विक्की निवासी खन्ना और रजिंदर सिंह मिंटू निवासी फतेहगढ़ साहिब एक जमाने में अच्छे दोस्त थे। बाद में उनका पैसों को लेकर विवाद हो गया। दोनों के अपने-अपने गुट हैं। प्रॉपर्टी के विवाद और चार लाख रुपये के लेन देने के लिए दोनों के बीच तल्खी बढ़ गई थी, जोकि मिंटू ने विक्की से लेने थे। इसी बीच मिंटू ने विक्की की मां से शिकायत कर दी। मां ने विक्की को फोन कर ऐतराज जताया तो विक्की ने मिंटू को चंडीगढ़ में मिलने के लिए कहा। मंगलवार रात दोनों गुट पूरी तैयारी से थे। विक्की गुट करीब 15 कारों में पहले इंडियन बिजनेस स्कूल के पास इकट्ठा हुआ, जहां से सोहाना पुलिस ने उन्हें हटा दिया। उसके बाद उनमें से कुछ लोग सेक्टर 69 की कोठी नंबर 2645 में आ गए।
गुरदीप सिंह विक्की ने पुलिस को दिए बयान में कहा है कि वह सेक्टर-69 की कोठी में थे। तभी रात साढ़े नौ बजे रजिंदर सिंह मिंटू, उसका भाई बलजिंदर सिंह स्किंटू, पूसू का चेयरमैन जीवनजोत उर्फ जुगनू, जरमन, पप्पू व दीपा वहां आए और डोर-बेल बजाई। जैसे ही गुरदीप व उसके दो साथी पंकज कपूर व जसविंदर सिंह बाहर निकले, स्किंटू ने फायर कर दिए, जिसमें पंकज और जसविंदर जख्मी हो गए। वह बाल-बाल बचे, क्योंकि गोलियां उनके सिर और गर्दन के पास से रगड़ कर निकल गईं। फायरिंग के बाद आरोपी फरार हो गए। गुरदीप के मुताबिक पैसों को लेकर शाम को पहले मिंटू गुट ने उसके साथी ज्योति को भी चंडीगढ़ सेक्टर-दस में रोक कर धमकाया था। डीएसपी सिटी-1 राजिंदर सिंह सोहल ने कहा कि आरोपियों के खिलाफ हत्या के प्रयास का मामला दर्ज कर छापेमारी की जा रही है। रजिंदर सिंह मिंटू पर पहले भी कई मामले दर्ज हैं।
-- बॉक्स
आईबीएस के पास टला था टकराव
मंगलवार रात दोनों गुट पूरी तरह से एक-दूसरे को देख लेने की तैयारी में थे। इधर, मिंटू गुट जहां गुरदीप विक्की गुट को तलाश कर रहा था। उधर, विक्की गुट भी पूरी तैयारी से था। रात साढ़े आठ बजे थाना सोहाना पुलिस को सूचना मिली कि बड़ी संख्या में युवक इंडियन बिजनेस स्कूल के पास जमा हैं। एसएचओ हरजिंदर सिंह फौरन ही मौके पर पहुंचे तो वहां करीब 15 कारों में युवक मिले। पुलिस ने सबको तितर-बितर किया तो युवक भाग गए। गुरदीप और उसके कुछ साथी सेक्टर-69 की कोठी में चले गए, जहां मौका देख कर दूसरे गुट ने हमला बोल दिया।

-- बॉक्स
पहले भी मोहाली में टकरा चुके हैं छात्र गुट
मोहाली पहले भी चंडीगढ़ के छात्र गुटों की जंग का मैदान बन चुका है। कई बार यहां सरे-बाजार टकराव हो चुके हैं। 12 अगस्त-10 को मोहाली-बुड़ैल जेल रोड पर एक गुट ने दूसरे पर फायरिंग की थी। 25 अक्तूबर-10 को छात्रों ने नंगी तलवारें लेकर फेज-सात मार्केट में तांडव किया था। दो मई-11 को लांडरां के पास हुए टकराव में तंगोरी कॉलेज का छात्र गंभीर जख्मी हुआ था। फेज सात मार्केट में दो छात्र यूनियनों से जुड़े गुटों के बीच तलवारें और गोलियां चली थीं। पुलिस के मुताबिक मंगलवार की फायरिंग में नामजद दो युवकों जीवनजोत उर्फ जुगनू और जरमन पर पहले भी मोहाली में परचे दर्ज हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us