कृषि वस्तुओं के व्यापार से होगा फायदा : खान

Ludhiana Updated Sat, 22 Dec 2012 05:31 AM IST
लुधियाना। पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में चल रही एलुमनी मीट के दूसरे दिन हिंद-पाक व्यापार: वर्तमान और भविष्य की संभावनाएं विषय पर विचार चर्चा करवाई गई। इस मौके पर कृषि यूनिवर्सिटी फैसलाबाद (पाकिस्तान) के वीसी डा. इकरार अहमद खान ने कहा कि भारत पाक के बीच कृषि वस्तुओं का ज्यादा व्यापार फायदेमंद साबित हो सकता है। इससे उद्योग को तो बढ़ावा मिलेगा, साथ ही दोनों देशों के बीच मोहब्बत का गांठ मजबूत होगी।
डा. खान ने कहा कि सात समुंदर पार हमें आम, किन्नू और अन्य वस्तुओं को भेजना महंगा पड़ता है, लेकिन अगर इसे पड़ोसी देश में बेचा जाए तो खर्च कम होने के साथ-साथ आमदनी में बढ़ोतरी भी होगी। उन्होंने कहा कि आम और किन्नू के पकने के समय भारतीय मौसम के मुताबिक काफी पीछे है, जिससे दोनों देशों की फसल में टकराव नहीं हो सकता। लेकिन इस के लिए सहीं योजना और सहीं सर्वे करने के बाद फैसला लेना पड़ेगा।
पंजाब अर्थशास्त्री और पंजाब किसान कमीशन के आर्थिक सलाहकार डा. करम सिंह ने भारत पाक खेती व्यापार की संभावनाओं के बारे में अपनी राय दी। सेंट्रल यूनिवर्सिटी आफ पंजाब बठिंडा के चांसलर डा. सरदारा सिंह जौहल ने कहा कि भारत पाकिस्तान वैज्ञानिकों के संयुक्त अर्थ शास्त्रियों की कमेटी बना कर भविष्य मुखी व्यापार संभावनाओं का पता लगाया जा सकता है। पंजाब सरकार के कृषि सलाहकार और मिल्कफैड के एमडी डा. बलविंदर सिंह सिद्धू ने कहा कि संयुक्त व्यापार से दोनों देशों के किसानों को सही लागत मिलने में सहायता मिल सकती है। पाकिस्तान से आए वैज्ञानिक डा. राय नियाज अहमद ने भारत के पंजाब में कृषि मशिनरी बहुत अच्छी है, इसलिए उन्हें भारत के सहयोग की बहुत जरूरत है।
पीएयू के वीसी डा. बलदेव सिंह ढिल्लों ने यूनिवर्सिटी के निर्देशक खोज और अर्थ शास्त्रीय विभाग को आदेश जारी किए कि वह नजदीक भविष्य में ऐसे सर्वे करवाए जिसमें हिंद-पाक व्यापार की संभावनाओं के बारे में स्पष्ट स्थिति सामने आ सके। पाकिस्तान पंजाब के कृषि मंत्री मलिक अहमद अली औलख ने कहा कि दोनों देशों के व्यापार पर हुई चर्चा के अच्छे नतीजे निकलेंगे।
यूनिवर्सिटी के सबसे पुराने विद्यार्थी डा. देव राज भुंबला ने कहा कि उन्होंने 1944 में लायलपुर से ग्रेजुएशन की थी और उस समय एलुमनी मीट तीन दिन तक पुराने विद्यार्थियों को मिलने का मौका मिलता था। इस मौके पर फिरोजपुर डिवीजन के कमिश्नर रामिंदर सिंह, हिमाचल प्रदेश बागबानी यूनिवर्सिटी सोलन के पूर्व वीसी डा. जगमोहन सिंह, पीएयू प्रबंधकीय बोर्ड के पूर्व सदस्य डा. बलदेव सिंह बोपाराय, डा. मनजीत सिंह, डा. जीत राम शर्मा, डा. सुरजन सिंह, डा. एके मेहता, सतपाल करकारा, डा. सविता सिंगल, डा. एसके सौंधी, कुलदीप कुमार धीर, बाल मुकंद शर्मा, डा. डीएल शर्मा के अतिरिक्त पुराने विद्यार्थियों को सम्मानित किया गया।
पाकिस्तान से आए डेलीगेट ने कृषि मशीनरी, अजायब घर, प्लांट ब्रीडिंग विभाग की प्रदर्शनी और ग्रामीण वस्तुओं के अजायब घर का भी दौरा किया। पाकिस्तान के कृषि मंत्री औलख ने ग्रामीण वस्तुओं के अजायब घर की तर्ज पर फैसलाबाद या लाहौर में ऐसा ग्रामीण वस्तुओं का अजायब घर बनाने की इच्छा जाहिर की।

Spotlight

Most Read

Delhi NCR

दिल्ली-एनसीआर में दोपहर में हुआ अंधेरा, हल्की बार‌िश से गिरा पारा

पहले धुंध, उसके बाद उमस भरे मौसम और फिर हुई हल्की बारिश ने दिल्ली में हो रहे गणतंत्र दिवस के फुल ड्रेस रिहर्सल में विलेन की भूमिका निभाई।

23 जनवरी 2018

Related Videos

सरकारी बेरुखी ने बनाया इस गोल्ड मेडेलिस्ट को मजदूर

स्पेशल ओलिंपिक्स वर्ल्ड समर गेम्स-2015 में 2 स्वर्ण पदक विजेता 17 साल के चैंपियन साइक्लिस्ट राजबीर सिंह आजकल बदहाली में जी रहे हैं। राजबीर की ये बदहाली सरकार के खेलों को बढ़ावा देने के दावों की कलई खोल रही है।

27 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper