दिवंगत नामधारी प्रमुख की अस्थियां विसर्जित

Ludhiana Updated Sun, 16 Dec 2012 05:30 AM IST
लुधियाना। नामधारी समुदाय के धर्मगुरु जगजीत सिंह की अस्थियां शनिवार को नीलों नहर में विसर्जित की गईं। इस अवसर पर बड़ी संख्या में उनके अनुयायी मौजूद रहे। नीलों नहर से तीन किलोमीटर पूर्व की ओर धर्मगुरु जगजीत सिंह द्वारा नहर के किनारे पांच एकड़ जगह में एक पार्क बनाया हुआ है। यहां पर हर तरह के फलों और आम के पौधे लगाए गए हैं। धर्मगुरु गर्मियों में इसी स्थान पर दोपहर को संगतों के साथ नाम सिमरन करते थे। नहर पर संगतों के साथ तैराकी भी करते थे। धर्मगुरु की निजी किश्ती पर बैठकर उनके दोहते जय सिंह, संत बलदेव सिंह काकू, सेवक रछपाल सिंह ने उनकी अस्थियों को जल प्रवाह किया।
इस अवसर पर धर्मगुरु की धर्मपत्नी माता चंद कौर, नामधारी डेरा प्रमुख ठाकुर उदय सिंह, बीबी साहिब कौर, संत जगतार सिंह, काका उत्तम सिंह और बीबी गुरशरण कौर ने अस्थियों वाले कलश किश्ती तक पहुंचाए। अस्थियों वाली गाड़ी को डेरा प्रमुख खुद चला रहे थे। नामधारी दरबार के प्रधान एचएस हंसपाल और वरिष्ठ उपाध्यक्ष सुरिंदर सिंह नामधारी ने कहा कि धर्मगुरु की अंतिम अरदास और पाठ का भोग 23 दिसंबर को दोपहर एक बजे डाला जाएगा। इस अवसर पर बलविंदर सिंह, मानवजीत गिल, जगीर सिंह, रछपाल सिंह, कश्मीर सिंह, लखबीर सिंह, जगदीश सिंह, सतनाम सिंह समेत कई लोग मौजूद रहे।


Spotlight

Most Read

Delhi NCR

फुल ड्रेस रिहर्सल आज, यातायात में होगी दिक्कत, कई जगह मिल सकता है जाम

सुबह 10:30 से दोपहर 12 बजे तक ट्रेनों का संचालन नहीं किया जाएगा। कई ट्रेनें मार्ग में रोककर चलाई जाएंगी तो कई आंशिक रूप से निरस्त रहेंगी।

23 जनवरी 2018

Related Videos

सरकारी बेरुखी ने बनाया इस गोल्ड मेडेलिस्ट को मजदूर

स्पेशल ओलिंपिक्स वर्ल्ड समर गेम्स-2015 में 2 स्वर्ण पदक विजेता 17 साल के चैंपियन साइक्लिस्ट राजबीर सिंह आजकल बदहाली में जी रहे हैं। राजबीर की ये बदहाली सरकार के खेलों को बढ़ावा देने के दावों की कलई खोल रही है।

27 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper