पुलिस जिप्सियों के लिए सरकारी डीजल बंद

Ludhiana Updated Thu, 29 Nov 2012 12:00 PM IST
मोगा। थानों में तैनात पुलिस वालों को गश्त या किसी अन्य काम के लिए सरकारी जिप्सी पर चढ़ने से पहले अपनी जेब ढीली करनी पड़ रही है। विभाग की ओर से फंडों की कमी केे कारण थानों में चलती सरकारी जिप्सियों के लिए डीजल बंद किया हुआ है। पुलिस लाइन स्थित विभाग के एमटीओ कमलजीत सिंह ने कहा कि फंडों की कमी कारण समस्या आ रही है। अगले महीने से डीजल देना शुरू कर दिया जाएगा
पंजाब सरकार ने तकरीबन दो साल पहले थाना मुखियों के लिए नई गाड़ियां खरीदी थी। थानों में चलती सरकारी गाड़ी को महीने में सिर्फ 260 लीटर डीजल दिया जाता है। लेकिन पिछले चार महीनों से यह डीजल भी नहीं मिल रहा। जिला पुलिस अधीक्षक दफ्तर की अकाउंट ब्रांच इंचार्ज हीरा सिंह ने कहा कि करीब 40 लाख रुपये के फंड आ गए हैं और अगले माह से निश्चित डीजल का कोटा सभी थाना प्रभारियों को देना शुरू कर दिया जाएगा।
एक थानेदार ने नाम न प्रकाशित करने की शर्त पर बताया कि थानों की गाड़ियों को डीजल नहीं मिल रहा। अगर किसी थानेदार या हवलदार ने सरकारी गाड़ी चलानी है तो पहले उसको अपनी जेब में से डीजल डलवाना पड़ता है। पुलिस मुलाजिमों का कहना है कि कोई भी पेट्रोल पंप मालिक उधार डीजल नहीं दे रहा।

Spotlight

Most Read

Lucknow

रायबरेली: गुंडों से दो बहनों की सुरक्षा के लिए सिपाही तैनात, सीएम-पीएम को लिखा था पत्र

शोहदों के आतंक से परेशान होकर कॉलेज छोड़ने वाली दोनों बहनों की सुरक्षा के लिए दो सिपाही तैनात कर दिए गए हैं। वहीं एसपी ने इस मामले में ठोस कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।

24 जनवरी 2018

Related Videos

सरकारी बेरुखी ने बनाया इस गोल्ड मेडेलिस्ट को मजदूर

स्पेशल ओलिंपिक्स वर्ल्ड समर गेम्स-2015 में 2 स्वर्ण पदक विजेता 17 साल के चैंपियन साइक्लिस्ट राजबीर सिंह आजकल बदहाली में जी रहे हैं। राजबीर की ये बदहाली सरकार के खेलों को बढ़ावा देने के दावों की कलई खोल रही है।

27 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper