भाई ने ही भाई को मौत के घाट उतारा

Ludhiana Updated Sun, 14 Oct 2012 12:00 PM IST
मुल्लापुर दाखा (लुधियाना)। थाना दाखा पुलिस ने छह घंटे में ही हत्या का मामला सुझला दिया और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। एसएसपी देहात आशीष चौधरी ने पत्रकार वार्ता के दौरान बताया कि गांव कैलपुर निवासी मोहन सिंह ने पंचायत को सूचित किया कि उसके भाई परमिंदर सिंह की अज्ञात व्यक्तियों ने हत्या कर दी है, शव उनके घर पड़ा है। जिसपर पंचायत ने पुलिस को सूचित किया और मामले की जांच की।
एसआई जसमेर सिंह ने पुलिस पार्टी के साथ मौके पर पहुंचे और मामले की जांच आरंभ की। घटना की जानकारी मिलते ही डीसीपी दाखा नवरीत सिंह विर्क, एसपीडी हरजीत सिंह पन्नू और एसएसपी आशीष चौधरी मौके पर गए। जांच के दौरान शक मोहन सिंह पर गया और उससे पूछताछ की गई। मोहन सिंह ने अपना जुर्म कबूल कर लिया। उसने बताया कि उसका भाई परमिंदर सिंह नशे का आदी था और रोजाना उसका किसी न किसी से झगड़ा होता था। वह उसकी गलत आदतों से काफी परेशान था। शुक्रवार रात 8.30 बजे उसका भाई परमिंदर सिंह शराब के नशे में घर आया। उसने अपनी भाभी से रोटी मांगी। रोटी खाने के बाद परमिंदर सिंह मेरे से जमीन का हिस्सा बेचने पर बहस करने लगा, जब जमीन का हिस्सा बेचने पर रजामंदी नहीं हुई तो उसने नशे की हालत में ईंट उठाकर उसको मारने की कोशिश की। मोहन सिंह ने बताया कि हम दोनों की बीच लड़ाई हो गई और मैने गुस्से में पास पड़ी नलके की हत्थी उठाकर उसके मुंह पर वार किया वह नीचे गिर गया और उसकी मौत हो गई।
एसएसपी चौधरी ने बताया कि आरोपी ने परमिंदर की मौत के बाद मृतक का खून रोकने के लिए उसके सिर पर कपड़ा बांध दिया और रजाई से शव ढक दिया। अपने बचाव के लिए नल की हत्थी को बाथरूम की छत पर फेंक दिया। सुबह मृतक का खून गली के बाहर फेंक दिया और एक कहानी बना कर सबको सुना दी। एसएसपी चौधरी ने बताया कि दोषी ने पुलिस को गुमराह करने के लिए लगातार अपने बयान बदले, जिससे उसपर शक हुआ। दोषी को गिरफ्तार कर लिया गया।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

सरकारी बेरुखी ने बनाया इस गोल्ड मेडेलिस्ट को मजदूर

स्पेशल ओलिंपिक्स वर्ल्ड समर गेम्स-2015 में 2 स्वर्ण पदक विजेता 17 साल के चैंपियन साइक्लिस्ट राजबीर सिंह आजकल बदहाली में जी रहे हैं। राजबीर की ये बदहाली सरकार के खेलों को बढ़ावा देने के दावों की कलई खोल रही है।

27 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper