चुनाव से घटेंगे संस्थानों में लड़ाई-झगड़े

Ludhiana Updated Thu, 30 Aug 2012 12:00 PM IST
लुधियाना। पंजाब के विश्वविद्यालयों में छात्र संघ चुनाव पर लगी रोक आपसी रंजिश को बढ़ावा दे रही है। इसलिए चुनाव करवाने का अधिकार पंजाब के कालेजों को भी मिलना चाहिए, ताकि शांति पूर्वक माहौल पैदा हो सके। वोट का अधिकार होने से विद्यार्थी अपने हक की रक्षा खुद कर सकते हैं और ऐसे प्रतिनिधि को आगे ला सकते हैं, जो उनकी हर समस्या का समाधान निकलवा सके।
पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी में स्टूडेंट यूनियन का गठन तो किया जाता है, लेकिन सर्वसम्मति से प्रतिनिधि को चुनकर। ज्यादातर सीनियर्स को इस यूनियन में प्रतिनिधित्व का हक मिलता है। हालांकि सभी की सहमति और पीएयू प्रशासन के नजरों के सामने पूरी गतिविधियां होती है, लेकिन न तो इसके लिए कोई प्रचार होता है और न ही दूसरा कोई प्रतिनिधि इसका विरोध करता है। वहीं स्टूडेंट चाहते हैं कि चुनाव हो और वोट के आधार पर प्रतिनिधि चुने जाएं। 1984 से चुनाव पर लगी रोक के बाद आज तक पंजाब के शिक्षण संस्थानों को चुनाव का हक नहीं मिला, जिससे विद्यार्थी अपने हक से वंचित हो रहे हैं।


यूनियन को नहीं मिलती मान्यता

पीएयू स्टूडेंट एसोसिएशन का गठन होने के बाद भी सरकारी स्तर पर उसको मान्यता नहीं मिलती। वहीं शहर के कई कालेजों में राजनीतिक हस्तक्षेप के चलते नेशनल स्टूडेंट यूनियन आफ इंडिया (एनएसयूआई) और स्टूडेंट आर्गेनाइजेशन आफ इंडिया (एसओआई) की ओर से कालेजों में अवैध रूप में स्टूडेंट यूनियन का गठन किया जाता है, जिसके चलते प्रधानगी को लेकर आए दिन झगड़े होते हैं।

चुनाव के लिए उठानी होगी आवाज
पंजाब एग्रीकल्चर यूनिवर्सिटी (पीएयू) स्टूडेंट यूनियन के प्रधान परमिंदर सिंह मानते हैं कि छात्र संघ चुनाव को लेकर सभी को आवाज उठानी होगी। हालांकि पीएयू में सर्वसम्मति से एसोसिएशन का गठन होता है, लेकिन उसे रजिस्टर्ड नहीं किया जाता। इसके चलते यूनिवर्सिटी के अंदर तो वह विद्यार्थियों की समस्याएं सुलझाने की कोशिश करते हैं, लेकिन उन्हें सरकारी सहायता नहीं मिल पाती। उन्होंने कहा कि जब युवा अपने जिले, शहर का प्रतिनिधि चुन सकते हैं तो शिक्षण संस्थान में उनको इस हक से क्यों वंचित किया जाता है।
यूनियन के प्रवक्ता जसप्रीत भुट्टर कहते है कि वोटिंग का अधिकार तो मिले, लेकिन चुनाव पूरे नियमों के तहत ही हो। जब विधानसभा, नगर निगम, लोकसभा के चुनाव होते हैं तो कालेजों में छात्र संघ चुनाव क्यों नहीं करवाए जा सकते। जरनल सेक्रेटरी जगदीप कौर कहती है कि चुनाव करवाने से पहले यह निश्चित किया जाना चाहिए कि किसी संस्थान का माहौल खराब न हो।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

सरकारी बेरुखी ने बनाया इस गोल्ड मेडेलिस्ट को मजदूर

स्पेशल ओलिंपिक्स वर्ल्ड समर गेम्स-2015 में 2 स्वर्ण पदक विजेता 17 साल के चैंपियन साइक्लिस्ट राजबीर सिंह आजकल बदहाली में जी रहे हैं। राजबीर की ये बदहाली सरकार के खेलों को बढ़ावा देने के दावों की कलई खोल रही है।

27 दिसंबर 2017