विज्ञापन

अब हरियाणा पुलिस करेगी भ्रूण जांच मामले की जांच

Panchkula bureau Updated Wed, 12 Sep 2018 10:30 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
रोहतक, अंबाला
विज्ञापन
अब हरियाणा पुलिस करेगी भ्रूण जांच मामले की जांच
भोगपुर के प्राइवेट अस्पताल में भ्रूण जांच का मामला, भोगपुर का बाघा अस्पताल सील
जांच टीम के आरोपों के बाद जालंधर सिविल सर्जन कार्यालय आया सवालों के घेरे में
अमर उजाला ब्यूरो
जालंधर। एक प्राइवेट अस्पताल की ओर से एक प्रेग्नेंट महिला को उसके पेट में कन्या भ्रूण के बारे में बताने का मामला अब हरियाणा पुलिस के पास चला गया है। मामले में अंबाला की जांच टीम ने बलदेव नगर थाने में महिला दलाल हरजीत कौर के खिलाफ मामला दर्ज किया है। अंबाला पुलिस इस दलाल महिला के जरिये ही डाक्टर व बाकी दलालों पर शिकंजा कस, इनके खिलाफ केस दर्ज करेगी। फिलहाल भोगपुर के बाघा अस्पताल को सील कर दिया गया है और अस्पताल के डॉक्टर हरजीत सिंह कंग पर शिकंजा कसने की कोशिश जारी है। हालांकि बाघा अस्पताल के डाक्टर हरजीत सिंह का कहना है कि उन्होंने भ्रूण लिंग जांच नहीं की है।

अंबाला सिविल सर्जन आफिस के ट्रैप में फंसी दलाल
दरअसल मंगलवार को शाम अंबाला के सिविल सर्जन आफिस को जानकारी मिली थी कि अस्पताल में लिंग जांच कार्य रुपये लेकर होता है। सिविल सर्जन आफिस ने मामले से जुड़े लोगों को बेनकाब करने के लिए ट्रैप लगाया, जिसमें भोगपुर के बाघा अस्पताल के डाक्टर व दलाल फंस गए। इस ट्रैप के तहत अंबाला सिविल सर्जन दफ्तर की टीम ने एक गर्भवती महिला को दलाल के पास भेजा। वह दलाल महिला को भोगपुर के बाघा अस्पताल में ले आई, जहां अंबाला की सिविल सर्जन टीम ने डाक्टर को भ्रूण की जानकारी देने के आरोप में रंगे हाथ पकड़ लिया।

अंबाला टीम ने लगाए सिविल सर्जन पर लापरवाही के आरोप
बाघा अस्पताल के मामले में अंबाला पुलिस ने जालंधर सिविल सर्जन पर लापरवाही के आरोप लगाए हैं। टीम का कहना है कि मामले के बारे में सिविल सर्जन को सूचना देने के बाद भी ढाई घंटे बाद टीम भेजी गई, तब तक डाक्टर फरार हो चुका था। सिविल सर्जन आफिस की लापरवाही पर हरियाणा से आई टीम ने नाराजगी जताई थी।

दलाल ने डा. पुरी को दिए 10 हजार व डा. कंग को मिले 2 हजार रुपये
इस मामले में अंबाला की दलाल हरजीत कौर ने माना था कि उसने दसूहा की बीएएमएस डा. निरोत्तमा पुरी को 10 हजार रुपये दिए थे। परतें खुलती देखकर डा. निरोत्तमा पुरी ने भी गुनाह कबूल करने में देरी नहीं लगाई। उन्होंने माना कि 10 हजार रुपयों में से 2 हजार डॉ. कंग को दिए थे व बाकी के 8 हजार रुपये उसके पर्स में हैं।

सिविल सर्जन आफिस भी सवालों के घेरे में
इस मामले में जालंधर का सिविल सर्जन आफिस भी सवालों के घेरे में आ गया है। इसका मुख्य कारण यह है कि डिप्टी सिविल सर्जन अंबाला डॉ. संजीव सिंगला ने सिविल सर्जन आफिस पर आरोप लगाए हैं कि डॉ. हरप्रीत सिंह कंग के खिलाफ पुख्ता सबूत होने के बाद हमने सिविल सर्जन डॉ. जसप्रीत को कॉल कर टीम भेजने को कहा था। उन्होंने टीम भेजने में देर कर दी। सिविल सर्जन दफ्तर ने सहयोग नहीं किया व न ही एफआईआर दर्ज कराने के लिए पुलिस को शिकायत दी।

24 घंटे बाद जाकर करेंगे जांच: सिविल सर्जन
सिविल सर्जन डॉ. जसप्रीत ने बताया कि वह पक्के तौर पर नहीं कह सकते कि डा. कंग लिंग निर्धारण टेस्ट कर रहे थे। सेंटर सील कर दिया है व 24 घंटे बाद फिर वहां जाकर जांच करेंगे। अंबाला की टीम को सहयोग न करने के सवाल पर वह बोलीं, ऐसा नहीं है, उन्होंने पूरा सहयोग किया है। मामले में जिला परिवार कल्याण अधिकारी डॉ. गुरमीत कौर दुग्गल का कहना है कि इस मामले में उन्होंने जब डॉ. कंग को फोन किया तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। बाद में उन्होंने बताया था कि वह जरूरी काम से कहीं गए हैं। आ नहीं सकते।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन

Most Read

Chandigarh

जालंधरः नहर के किनारे झाड़ियों में रोती बिलखती मिली दो दिन की नवजात, एक कपड़ा नहीं था

मॉर्निंग वॉक करने निकले शख्स की आंखें भर आईं, जब उसने नहर के किनारे झाड़ियों में पड़ी नवजात बच्ची को देखा। वो भूख के मारे रो-रोकर बेहाल हो रखी थी।

23 सितंबर 2018

विज्ञापन

Related Videos

लेडी खली कविता ने खोला राज, बताया कैसे पहुंची WWE तक

WWE में पहुंचनेवाली पहली भारतीय महिला कविता देवी ने अपने इंटरव्यू में की कई अहम मुद्दों पर खुलकर बात। कविता ने बताया कि उन्हें द ग्रेट खली से कितना सपोर्ट मिला और उन्हें ट्रेनिंग के कितने कड़े शेड्यूल से होकर गुजरना पड़ा।

21 अक्टूबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree