विज्ञापन

कोटकपूरा गोलीकांड-पूर्व विधायक मनतार बराड़ ने दायर की अग्रिम जमानत याचिका

Panchkula bureauPanchkula bureau Updated Wed, 13 Mar 2019 10:35 PM IST
ख़बर सुनें
सभी केंद्र
विज्ञापन
विज्ञापन
कोटकपूरा कांड-पूर्व विधायक मनतार बराड़ ने दायर की अग्रिम जमानत याचिका
जिला अदालत का सरकार को नोटिस, सुनवाई के लिए 19 मार्च की तारीख तय
अमर उजाला ब्यूरो
फरीदकोट।
बरगाड़ी बेअदबी मामले से सम्बंधित कोटकपूरा गोलीकांड की घटना में नामजद कोटकपूरा के पूर्व विधायक व शिअद जिलाध्यक्ष मनतार सिंह बराड़ ने बुधवार को यहां की जिला अदालत में अग्रिम जमानत याचिका दायर कर दी। इस याचिका के आधार जिला व सेशन जज हरपाल सिंह की अदालत ने पंजाब सरकार को नोटिस जारी कर दिया है और सुनवाई के लिए 19 मार्च 2019 की तारीख तय की है।
जानकारी के अनुसार बरगाड़ी बेअदबी मामले से संबंधित गोलीकांड की घटनाओं की जांच कर रही एसआईटी ने कोटकपूरा की घटना में पूर्व विधायक मनतार सिंह बराड़ को नामजद किया है और इस बात की जानकारी एसआईटी ने 6 मार्च 2019 को जिला अदालत में पूर्व विधायक की ब्लैंकेट बेल याचिका की सुनवाई के दौरान दी थी। केस में नामजद करने से पहले एसआईटी उनसे दो बार पूछताछ कर चुकी थी और अपनी गिरफ्तारी होने की आशंका के चलते मनतार बराड़ ने जिला अदालत में ब्लैंकेट बेल याचिका भी दायर की थी। केस में नामजद किए जाने के चलते अब मनतार सिंह बराड़ ने जिला अदालत के पास अग्रिम जमानत याचिका दायर की है।

मनतार सिंह बराड़ के दबाब में थी पुलिस: एसआईटी
उधर, एसआईटी द्वारा पूर्व विधायक की ब्लैंकेट बेल याचिका की सुनवाई के दौरान 5 मार्च 2019 को जिला अदालत में दायर स्टेटस रिपोर्ट में हुए खुलासे से मनतार सिंह बराड़ घिर गए हैं। रिपोर्ट के अनुसार गोलीकांड की घटनाओं से पहले और बाद में पूर्व विधायक मनतार सिंह बराड़, एसएचओ से लेकर डीजीपी स्तर के अधिकारियों के साथ फोन पर संपर्क में थे और उनके दबाव के चलते ही ना तो घायलों का ईलाज करवाया गया और ना ही उनकी एमएलआर पर कानूनी कार्रवाई की गई। गोलीकांड की घटना से एक दिन 13 अक्टूबर 2015 को शाम 5 बजे से लेकर गोलीकांड वाले दिन 14 अक्टूबर 2015 को दोपहर 1 बजे तक मनतार सिंह बराड़ ने कुल 157 फोन कॉल्स किए थे जिसमें से 102 कॉल्स को 13 अक्टूबर की रात 8 बजे से 14 अक्टूबर को सुबह 11 बजे तक की गई। उन्होंने घटनाओं के दोनों थाना क्षेत्रों के प्रभारियों से भी दो दो बार बात की थी। इसके अलावा उनके द्वारा तत्कालीन मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के स्पेशल प्रिंसिपल सचिव गगनदीप सिंह बराड़ से एक बार, उनके ओएसडी गुरचरण सिंह से पांच बार, डीजीपी से तीन बार बात की गई। वह डीएसपी कोटकपूरा, एसएसपी व डीसी फरीदकोट समेत तत्कालीन कैबिनेट मंत्री दलजीत सिंह चीमा के साथ साथ उप मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल के ओएसडी हैप्पी के साथ भी संपर्क में थे। एसआईटी के अनुसार कोटकपूरा गोलीकांड के मुख्य गवाह अजीत सिंह का 45 दिन तक डीएमसी लुधियाना में ईलाज हुआ और थाना सिटी कोटकपूरा के एएसआई बलवंत सिंह व थाना प्रभारी एसआई गुरदीप सिंह द्वारा उसके बयान भी लिखे थे, लेकिन दबाव के चलते पुलिस ने कार्रवाई करना जरूरी नहीं समझा। हालांकि मनतार बराड़ घटना वाले मुख्यमंत्री से बात होने की बात से इंकार करते रहे हैं, लेकिन एसआईटी के पास तत्कालीन एसडीएम फरीदकोट वीके सियाल ने मनतार बराड़ की मुख्यमंत्री से बात होने का दावा किया था और वह अपने इस बयान को सीआरपीसी की धारा 164 के तहत अदालत के पास भी दर्ज करा चुके हैं। उधर, अपनी स्टेटस रिपोर्ट लीक होने को लेकर एसआईटी सकते में है। चूंकि एसआईटी ने सीलबंद रिपोर्ट जिला अदालत को सौंपी थी, लेकिन अब यह रिपोर्ट हर आम खास के पास पहुंच चुकी है।

Recommended

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से
ज्योतिष समाधान

क्या आप अपने करियर को लेकर उलझन में हैं ? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से
ज्योतिष समाधान

जानें क्यों होता है बार-बार आर्थिक नुकसान? समाधान पायें हमारे अनुभवी ज्योतिषिचर्या से

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News App अपने मोबाइल पे|
Get all crime news in Hindi. Stay updated with us for all breaking hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Chandigarh

पंजाब में गरमाई सियासत, स्टिंग मामले में अकाली-भाजपा नेताओं ने डीसी दफ्तर पर किया हंगामा

सांसद चौधरी संतोख सिंह के खिलाफ एक निजी चैनल पर स्टिंग को भाजपा अकाली दल ने मुद्दा बनाते हुए जिला चुनाव अधिकारी को ज्ञापन सौंपा है।

21 मार्च 2019

विज्ञापन

118 साल की इस महिला की हुई हाई-हार्ट सर्जरी, पांच पीढ़ियां देख चुकी है महिला

118 साल की उम्र में हाई-हार्ट सर्जरी करके सही सलामत रहना किसी अचंभे से कम नहीं है। लेकिन ऐसा हुआ है। ये कारनामा लुधियाना के एक निजि अस्पताल में देखने को मिला।

8 मार्च 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree