नकोदर के गांव में डेढ़ घंटे रोकी ट्रेन

Jalandhar Updated Wed, 05 Dec 2012 05:30 AM IST
नकोदर। नकोदर-लुधियाना रेल मार्ग पर गांव माहुवाल पर मानवरहित रेलवे क्रासिंग से अस्थायी व्यवस्था हटाने से नाराज लोगों ने सुबह दिन निकलते ही ट्रैक पर धरना लगाकर रेल यातायात अवरुद्ध कर दिया। उन्होंने लुधियाना से फिरोजपुर जा रही डीएमयू को रोककर प्रदर्शन किया। करीब डेढ़ घंटा तक लोगों ने प्रदर्शन कर ट्रेन को रोके रखा।
गांव निवासियों का कहना था कि 2011 में इसी मानवरहित क्रासिंग पर स्कूली बच्चों की वैन चपेट में आई, जिससे कई बच्चे मौत का ग्रास बने। 2012 में कार सवार लोग भी इसी मानवरहित फाटक पर दुर्घटना का शिकार हुए, जिसमें एक लड़की की मौत हो गई थी। इसके बाद लोगों के आग्रह पर रेलवे ने एक अस्थायी जंजीर वाला फाटक लगा दिया था, जो अचानक सोमवार को हटा लिया गया।
घटना की सूचना मिलने पर अधिकारी मौके पर पहुंचे और बताया कि रेलवे की इस क्रासिंग पर पक्का फाटक लगाने के लिए डीआरएम कार्यालय की तरफ से हेडक्वार्टर सिफारिश भेजी जा चुकी है। इसकी मंजूरी मिलते ही पक्का फाटक लगा दिया जाएगा। इस धरने में कामरेड दर्शन नाहर, मंगत राम, कृष्ण गोपाल, गुरमीत चंद, देसराज, मक्खन सिंह, मोहन सिंह थापर समेत भारी संख्या में लोग थे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

लेडी खली कविता ने खोला राज, बताया कैसे पहुंची WWE तक

WWE में पहुंचनेवाली पहली भारतीय महिला कविता देवी ने अपने इंटरव्यू में की कई अहम मुद्दों पर खुलकर बात। कविता ने बताया कि उन्हें द ग्रेट खली से कितना सपोर्ट मिला और उन्हें ट्रेनिंग के कितने कड़े शेड्यूल से होकर गुजरना पड़ा।

21 अक्टूबर 2017