धर के गांवों में कांग्रेस की मजबूती बनी चौधरी की जीत का आधार

Panchkula bureau पंचकुला ब्‍यूरो
Updated Fri, 24 May 2019 10:31 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

विज्ञापन
जालंधर के गांवों में कांग्रेस की मजबूती बनी चौधरी की जीत का आधार
सांसद बनने के बाद चौधरी की कोठी में उत्सव का माहौल, सेल्फी के साथ चला मिठाई का दौर
अमर उजाला ब्यूरो
जालंधर। 2014 व 2019 में लगातार दो बार सांसद बनकर चौधरी संतोख सिंह ने कांग्रेस की सीट पर कब्जा बरकरार रखा है। चौधरी संतोख सिंह की जीत में ग्रामीण क्षेत्रों का खासा योगदान रहा, जिसमें फिल्लौर से 9 हजार व शाहकोट से 19 हजार की लीड अकाली दल तोड़ नहीं पाया और चुनाव हार गया। शुक्रवार को चौधरी संतोख सिंह की कोठी में उत्सव का माहौल था। उनको बधाई देने के लिए दूर दराज से लोग सुबह सात बजे से ही पहुंचने शुरू हो गए थे। कोठी में सेल्फी विद मिठाई का दौर चल रहा था। हर कोई मिठाई का डिब्बा लेकर चौधरी संतोख सिंह, उसकी पत्नी डॉ. कर्मजीत कौर का मुंह मिठा करवा रहा था और फोटो खींच रहे थे।
यह है जीत की वजह
- महिला सशक्तिकरण के लिए कार्य करने वाली सिरमत संधू का कहना है कि चौधरी संतोख सिंह जनता के बीच रहे हैं और कांग्रेस को गांवों से अच्छा रिस्पांस मिला है। चौधरी संतोख सिंह सांसद रहते हुए स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के लिए दिन रात एक करते रहे हैं। यही कारण है कि शहर के दो बड़े विधानसभा हलकों में उनको लीड मिली है।

- प्रापर्टी कारोबारी नरेश ढल्ल का कहना है कि सूबे में कांग्रेस की सरकार है और इसका फायदा तो मिलेगा ही। जालंधर सिटी व ग्रामीण इलाकों में छह विधायक कांग्रेस के हैं, जिसका पूरा फायदा चौधरी संतोख सिंह को मिला है।
जालंधर के लिए काफी कुछ करना है: चौधरी
जालंधर से दूसरी बार लगातार सांसद बने चौधरी संतोख सिंह ने कहा कि उनकी प्राथमिकता जालंधर के अधूरे कार्य को पूरा करना होगा। जिसके लिए स्मार्ट सिटी, सालिड वेस्ट मैनेजमेंट प्रोजेक्ट को पूरा किया जाएगा। जालंधर में केंद्र सरकार से एक बड़ा प्रोजेक्ट लाने की कोशिश की जाएगी।

चौधरी के लिए फायदेमंद
1- प्रदेश में कांग्रेस की सरकार
2- रविदासिया समाज से हैं चौधरी संतोख
3- ग्रामीण इलाकों में नहीं चली मोदी की हवा

जालंधर ने अथाह प्यार दिया है, नहीं भूल पाऊंगा
अकाली-भाजपा प्रत्याशी चरणजीत सिंह अटवाल का कहना है कि उनको जालंधर के लोगों ने बहुत प्यार दिया है, गठबंधन को 3,66,221 मत मिले हैं। जालंधर के लोगों का दिल से धन्यवाद है। मेरी सेवा जालंधर के लिए जारी रहेगी।

हारे प्रत्याशी अटवाल की कमजोरी
1- बाहरी प्रत्याशी थे चरणजीत सिंह अटवाल
2- वाल्मीकि भाईचारे से हैं अटवाल, जिनके वोट रविदासिया समाज से कम है
3- अकाली दल की अंदरूनी गुटबाजी

1.5 फीसदी से 20.1 फीसदी तक पहुंचे, आगे जंग जारी रहेगी: बलविंदर
बसपा प्रत्याशी बलविंदर कुमार का कहना है कि बसपा का वोट बैंक 1.5 फीसदी तक गिर गया था, जो अब चुनावों में 20.1 फीसदी तक आ गया है। नौ में से तीन विधानसभा हलकों में बसपा ने शानदार प्रदर्शन किया है। बसपा ने अकाली दल की आदमपुर सीट पर बहुत जबरदस्त प्रदर्शन किया है और वहां पर बसपा नंबर एक पर रही है, इस सीट पर 9376 मतों से अकाली दल से आगे रहे वहीं कांग्रेस तीसरे नंबर पर आई। बसपा ने करतारपुर में 31047 मत हासिल किए जबकि बसपा को आज तक इस इलाके में इतने मत कभी नहीं मिले हैं। तीसरा हलका फिल्लौर रहा, जहां बसपा अकाली दल से आगे रहा। यहां बसपा को 43 हजार 916 मत मिले, जबकि अकाली दल को 35 हजार 818 मत मिले हैं।

हारे प्रत्याशी बसपा के बलविंदर की कमजोरी
1- बसपा का गिरा हुआ 1.5 फीसदी वोट बैंक
2- प्रदेश में कांग्रेस की सरकार
3- कोई स्टार प्रचारक बसपा की रैली में नहीं आया

नोटा को मिले मत 12 हजार 324
17 प्रत्याशी की जमानत हुई जब्त, जिसमें आम आदमी पार्टी के जस्टिस जोरा सिंह भी हैं, जिनको 25 हजार 467 मत मिले।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X