लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Punjab ›   Industries of Mandi Gobindgarh are going on two-day strike to protest against increasing price of PNG

PNG Price Hike: मंडी गोबिंदगढ़ के उद्यमी करेंगे दो दिन की हड़ताल, कहा-कैसे करें पड़ोसी राज्यों से मुकाबला

संवाद न्यूज एजेंसी, मंडी गोबिंदगढ़ Published by: निवेदिता वर्मा Updated Fri, 02 Sep 2022 02:56 PM IST
सार

उद्योगपति जगमोहन डाटा ने कहा कि सरकार और प्रदूषण बोर्ड ने औद्योगिक इकाइयों में कोयले की खपत को बंद किया था। इसके बावजूद एयर क्वालिटी इंडेक्स पहले जितना ही है। इससे साफ है कि फैक्ट्रियों से प्रदूषण नहीं हो रहा है।
 

मंडी गोबिंदगढ़ में उद्यमी करेंगे दो दिन की हड़ताल।
मंडी गोबिंदगढ़ में उद्यमी करेंगे दो दिन की हड़ताल। - फोटो : संवाद न्यूज एजेंसी।
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

पंजाब के औद्योगिक शहर मंडी गोबिंदगढ़ में करीब 150 बड़ी इकाइयां पीएनजी के लगातार बढ़ते दाम के विरोध में दो दिन की हड़ताल पर जा रही हैं। यह निर्णय ऑल इंडिया स्टील री रोलर्स एसोसिएशन और स्मॉल स्केल स्टील री रोलर्स एसोसिएशन मंडी गोबिंदगढ़ द्वारा लिया गया है। आईसरा के अध्यक्ष विनोद वशिष्ठ ने कहा कि 7 व 8 सितंबर को पीएनजी दरों में वृद्धि के विरोध में सभी सदस्यों की दो दिन की सांकेतिक हड़ताल की जाएगी। सभी से अनुरोध किया गया है कि अपनी औद्योगिक इकाइयां बंद रखें। इसके अलावा पीएनजी आधारित मिलों ने गैस कंपनी को हड़ताल की जानकारी दी है। 



विनोद वशिष्ठ ने कहा कि गैस की लगातार बढ़ती कीमतों के कारण वह पड़ोसी राज्यों से मुकाबला करने में असमर्थ हो गए हैं। इस बारे में एक ज्ञापन प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड पंजाब और स्थानीय विधायक गुरिंदर सिंह गैरी बारिंग को दिया जाएगा। उनकी मांग है कि गैस की बढ़ती कीमतों को कम किया जाए, नहीं तो आने वाले दिनों में उद्योग पूरी तरह से बंद हो जाएगा। गैस के दाम बढ़ने से उन्हें लाखों रुपये अतिरिक्त चुकाने पड़ रहे हैं।  


उन्होंने सरकार को सुझाव दिया कि बड़ी औद्योगिक इकाइयों को कार्बन क्रेडिट योजना दी जानी चाहिए ताकि वे पीएनजी के कारण होने वाले अतिरिक्त खर्च की वसूली कर सकें। इसके अलावा आईसरा के एक सदस्य उद्योगपति जगमोहन डाटा ने कहा कि सरकार और प्रदूषण बोर्ड ने औद्योगिक इकाइयों में कोयले की खपत को बंद किया था। इसके बावजूद एयर क्वालिटी इंडेक्स पहले जितना ही है। इससे साफ है कि फैक्ट्रियों से प्रदूषण नहीं हो रहा है। जब पीएनजी नहीं थी, हमारे कारखाने कोयले पर चलते थे और हमारी पहुंच में थे। पिछले छह महीने से लगातार बढ़ रही गैस की कीमतों ने उद्योगपतियों को आर्थिक रूप से कमजोर कर दिया है। निकट भविष्य में उद्योग प्रतिस्पर्धा के कारण पड़ोसी राज्यों से पिछड़ जाएंगे। सरकार को बिना देर किए पीएनजी के दाम कम करने चाहिए।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00