प्रशासनिक ढांचे पर खूब गरजे युवा संगठन

Bathinda Updated Tue, 06 Nov 2012 12:00 PM IST
फरीदकोट। छात्रा अपहरण कांड को लेकर युवा संगठनों ने सोमवार को शहर में प्रदर्शन किया और छात्रा को परिवार के हवाले करने, आरोपियों के पक्षधर अधिकारियों को बर्खास्त करने की मांग करते हुए पुलिस व प्रशासनिक ढांचे पर तीखे हमले बोले।
पंजाब स्टूडेंट यूनियन, भारत नौजवान सभा और स्त्री जागृति मंच के रोष प्रदर्शन को गुंडागर्दी विरोधी एक्शन कमेटी समेत करीब एक दर्जन से भी अधिक संगठनों का समर्थन मिला। मिनी सचिवालय और अदालत परिसर को जाते मुख्य मार्ग पर दिए गए रोष धरने को संबोधित करते हुए पंजाब स्टूडेंट यूनियन के प्रांतीय महासचिव राजिंदर सिंह ने कहा कि इस घटना में भूमिका को लेकर पंजाब पुलिस के अधिकारियों से लेकर मुख्यमंत्री कार्यालय तक के कई चेहरे बेनकाब हो चुके हैं। अदालत में भी छात्रा के दो दो बार बयान दर्ज किए जा रहे हैं। ऐसे हालात साफ संकेत दे रहे है कि वर्तमान प्रशासनिक ढांचा आम आदमी को इंसाफ दिलाने में विफल है। उन्होंने घटना के आरोपियों के साथ देने वाले लोगों का सामाजिक बहिष्कार करने का आह्वान किया। स्त्री जागृति मंच की अमनदीप दियोल, भारत नौजवान सभा के गुरप्रीत किशनपुरा, पीएसयू के कर्मजीत कोटकपूरा, सुखविंदर सिंह सरीहंवाला, इंकलाबी केंद्र पंजाब के कंवलजीत खन्ना, तेजा सिंह बरगाड़ी, क्रांतिकारी भट्ठा मजदूर यूनियन के पूर्ण सिंह, इंडिया क्रांतिकारी लहर के हारुन जोईया, सोहन सिंह बरगाड़ी, निरभै सिंह ढुड़ीके, डीटीएफ के गुरदयाल भट्टी, पंजाब खेत मजदूर यूनियन के बूटा सिंह, पेंडू खेत मजदूर यूनियन के मेघा सिंह मोगा, औरत मुक्ति मंच की मुख्तियार कौर, किसान नेता सरमुख सिंह, अजित गिल, मास्टर गुरेदव सिंह, टीएसयू के हलदेव सिंह, जसविंदर सिंह झबेलवाली, एआईई अध्यापक यूनियन के नवदीप सिंह, एक्शन कमेटी के सदस्य कामरेड दलीप सिंह, स्वर्ण सिंह, सुखविंदर सुक्खी और अशोक कौशल ने कहा कि घटना वाले दिन से शुरू हुए आंदोलन की वजह से ही पुलिस ने सभी आरोपी पकड़े हैं। इस मौके पर छात्रा को परिवार के हवाले करने ,आरोपियों का पक्ष लेने वाले अधिकारियों को बर्खास्त करने की मांग की गई। रोष प्रदर्शन से पहले इन संगठनों ने नेहरू स्टेडियम में रैली का भी आयोजन किया। वहां से सरकार व पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करते हुए शहर से रोष मार्च के रूप में धरना स्थल पहुंचे।
निशान की मां 7 तक रिमांड पर
छात्रा अपहरण कांड में रविवार को चंडीगढ़ से गिरफ्तार मुख्य आरोपी निशान सिंह की मां नवजोत कौर, उनके करीबी डिंपी समरा और मोगा निवासी पंकज गौतम को सोमवार को सीजेएम डा. रजनीश की अदालत में पेश किया गया। पुलिस के आग्रह पर अदालत ने तीनों को 7 नवंबर तक पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। नवजोत कौर और डिंपी समरा ने चंडीगढ़ के सेक्टर 49 स्थित पंकज गौतम के फ्लैट में शरण ली हुई थी। पुलिस ने दोनों समेत इनकी मदद करने के आरोप में पंकज गौतम को भी गिरफ्तार किया है।
दो याचिकाओं पर सुनवाई आज
छात्रा अपहरण कांड से संबंधित दो महत्वपूर्ण याचिकाओं पर मंगलवार को सीजेएम की अदालत में सुनवाई होगी। एक याचिका में पुलिस ने मुख्य आरोपी निशान सिंह का डीएनए टेस्ट करवाने की मांग रखी हुई है जबकि दूसरी याचिका में पीड़ित छात्रा को सुरक्षित हाथों को सौंपे जाने का आग्रह किया गया है। मंगलवार को ही पुलिस रिमांड पर चल रहे मुख्य आरोपी निशान सिंह व उसके एक करीबी चंडीगढ़ निवासी विक्रम सिंह को भी अदालत में पेश किया जाएगा।


Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी पुलिस भर्ती को लेकर युवाओं में जोश, पहले ही दिन रिकॉर्ड रजिस्ट्रेशन

यूपी पुलिस में 22 जनवरी से शुरू हुआ फॉर्म भरने का सिलसिला पहले दिन रिकॉर्ड नंबरों तक पहुंच गया।

23 जनवरी 2018

Related Videos

योगी कैबिनेट ने लिए 10 बड़े फैसले, गांवों में मांस बेचने पर लगी रोक

यूपी की योगी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए गांवों में मांस की बिक्री पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है।

24 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper