पुलिस पर भरोसा नहीं, सीबीआई जांच हो

Bathinda Updated Wed, 24 Oct 2012 12:00 PM IST
फरीदकोट। बहुचर्चित छात्रा अपहरण कांड को लेकर मंगलवार के घटनाक्रम से पीड़ित परिवार निराश हो गया है। एक माह की जद्दोजहद के बाद छात्रा की घर वापसी की उम्मीद में बैठे सभी पक्षों के सामने एक बड़ा सवाल खड़ा हुआ है कि आखिरकार छात्रा ने अदालत के सामने दिए बयान से क्यों पलट गई?
अभिभावकों का कहना है कि उनकी बेटी पहले मुख्य आरोपी निशान सिंह के दबाव में थी और अब वह पुलिस के आला अधिकारियों के दबाव में है। सुनवाई के दौरान अदालत परिसर में हाजिर रहे छात्रा के पिता और माता ने बताया कि घर जाने की सहमति वाला बयान होने के बाद कागजी कार्यवाही के नाम पर उन्हें अदालत से बाहर बैठा दिया गया। बाद में उन्हें बेटी के बयान पलटने की सूचना मिली। उन्होंने कहा कि छात्रा ने इतना जरूर कहा कि यदि वह उनके साथ जाएगी तो निशान सिंह के साथी पूरे परिवार को खत्म कर देंगे। पिछले एक माह से ही पुलिस के आला अधिकारी उन्हें हर हाल में बेटी सौंपने का वादा करते रहे, लेकिन उसके बरामद होने के बाद उससे पांच मिनट भी मिलने नहीं दिया गया। अभिभावकों ने एक बार फिर मामले की जांच सीबीआई से करवाने की मांग रखी और कहा कि इस मांग के लिए वह जल्द ही उच्च न्यायालय में याचिका भी दायर करेंगे।
इस मामले को आंदोलन का रूप देने वाली गुंडागर्दी विरोधी एक्शन कमेटी ने भी मंगलवार की कार्यवाही को लेकर पुलिस प्रशासन और राज्य सरकार को कटघरे में खड़ा किया। एक्शन कमेटी के प्रमुख सदस्यों एसएस संधू, अशोक कौशल, सतीश वधवा, रूलदू सिंह, भूपिंदर संगतपुरा, कुलदीप शर्मा और शील मनचंदा का कहना है कि इस मामले में शुरू से ही पुलिस की भूमिका ठीक नहीं रही। छोटे अधिकारी से लेकर डीजीपी तक ने अपहरण की घटना को दूसरी रंगत देने का प्रयास किया। उन्होंने कहा कि जब छात्रा ने अभिभावकों के साथ जाने का बयान दे दिया था तो एकाएक उसके बयान बदलने की पीछे के असल कारणों का पुलिस को ही जवाब देना पड़ेगा। एक्शन कमेटी ने अब इस मामले में राज्य स्तरीय आंदोलन शुरू करने का ऐलान किया है।
फिरोजपुर रेंज का अतिरिक्त कार्यभार देख रहे डीआईजी प्रमोद भान ने कहा कि पुलिस चाहती थी कि छात्रा अभिभावकों को सौंप दी जाए और इसके लिए पुलिस ने सरकारी वकील के माध्यम से अदालत को आग्रह भी किया था, लेकिन इस का निर्णय अदालत को ही लेना था। छात्रा को नारी निकेतन भेजे जाने के बाद डीसी रवि भगत और एसएसपी गुरप्रीत सिंह तूर पीड़ित अभिभावकों से मिलने उनके घर पहुंचे और बेटी को उन्हें सौंपने का वादा पूरा करने में मिली विफलता पर अफसोस जताया।

भारी सुरक्षा के साथ जालंधर नारी निकेतन पहुंचाया
जालंधर। फरीदकोट से अगवा नाबालिग लड़की को अदालत के आदेशों पर जालंधर स्थित पुष्पा गुजराल नारी निकेतन लाया गया। जहां पर उसको रखा गया है। लड़की की सुरक्षा के लिए एक इंस्पेक्टर सहित एक दर्जन मुलाजिमों को तैनात किया गया है। लड़की को जालंधर स्थित नारी निकेतन में तीन गाड़ियों के काफिले में लाया गया। फरीदकोट पुलिस के अधिकारियों ने लड़की को नारी निकेतन के प्रबंधकों को सपुर्द किया तो पहले उन्होंने आनाकानी की क्योंकि नारी निकेतन में काफी लड़कियां रहती हैं, जिससे वर्दीधारियों की उपस्िथिति उनमें दहशत पैदा कर सकती थी। ऐसे तथ्य देकर प्रबंधकों ने आनाकानी की। इसके बाद जालंधर के एडीसीपी स्थानीय नवजोत माहल, एसीपी सेंट्रल नरेश डोगरा, एसीपी वेस्ट रविंदरपाल संधू पहुंचे। अधिकारियों ने प्रबंधकों को बताया कि जालंधर की पुलिस नारी निकेतन की सुरक्षा मजबूत रहेगी और वर्दीधारी मुलाजिम कोई भी दखलंदाजी नहीं करेंगे, इस आश्वासन के बाद लड़की को नारी निकेतन में रख लिया गया है।
छावनी बना अस्पताल
फरीदकोट। अपहृत छात्रा की अदालत में पेशी के बाद संभावित मेडिकल को लेकर पुलिस प्रशासन ने मंगलवार को सिविल अस्पताल में भी भारी पुलिस बल तैनात कर रखा है। मेडिकल के लिए गुरु गोबिंद सिंह मेडिकल कालेज अस्पताल और सिविल अस्पताल की पांच महिला डाक्टरों पर आधारित बोर्ड भी गठित हो चुका था, लेकिन छात्रा को नारी निकेतन भेजे जाने के बाद अस्पताल से पुलिस बल हटा लिया गया।

Spotlight

Most Read

National

इलाहाबाद HC का निर्देश- CBI जांच में सहयोग करे लोक सेवा आयोग

कोर्ट ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को जवाब दाखिल करने के लिए छह फरवरी तक की मोहलत दी है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

GST काउंसिल की 25वीं मीटिंग, देखिए ये चीजें हुईं सस्ती

गुरुवार को दिल्ली में जीएसटी काउंसिल की 25वीं बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा हुई। इस मीटिंग में आम जनता के लिए जीएसटी को और भी ज्यादा सरल करने के मुद्दे पर बात हुई।

18 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper