क्रिकेट वर्ल्ड कप की जीत का जश्न

Bathinda Updated Mon, 27 Aug 2012 12:00 PM IST
फरीदकोट। ऑस्ट्रेलिया में अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप पर कब्जा जमाने वाली भारतीय टीम के सदस्य व ओपनर बल्लेबाज प्रशांत चोपड़ा के फरीदकोट स्थित पैतृक घर में रविवार को बधाई देने वालों का तांता लगा रहा। फाइनल में कोई खास योगदान न देने के कारण पहले निराश हुए प्रशांत के पारिवारिक सदस्यों के चेहरों पर जीत के बाद रौनक लौट आई ।
भारत की जीत के साथ ही शहर के क्रिकेट प्रेमियों और पारिवारिक मित्रों ने मोहल्ला तेल्लीयां स्थित प्रशांत के पैतृक घर पहुंच कर उसके ताया गुलजारी लाल चोपड़ा व चाचा वेद चोपड़ा को बधाई दी। फरीदकोट के इतिहास में पहली बार किसी क्रिकेट खिलाड़ी ने इंटरनेशनल स्तर पर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। प्रशांत के ताया गुलजारी लाल चोपड़ा ने बताया कि उसके दो भाईयों शिव चोपड़ा व राम चोपड़ा को भी बचपन से ही क्रिकेट के साथ खास लगाव रहा और दोनों ही बतौर क्रिकेट कोच चंडीगढ़ में सेवाएं दे रहे है। प्रशांत को इंटरनेशनल स्तर का खिलाड़ी बनाने में उसके पिता शिव चोपड़ा का अहम योगदान है। उन्होंने कहा कि फाइनल मैच में लक्ष्य को भेदने के लिए मैदान में उतरे प्रशांत चोपड़ा के बिना किसी स्कोर के आउट हो जाने से पूरा परिवार को निराशा हुई थी और सभी की आंखें नम हो गई थी लेकिन मैच की जीत ने उनकी इस निराशा को दूर कर दिया। इससे पहले सेमीफाइनल के 52 रनों समेत अन्य मैचों में प्रशांत का बेहतरीन योगदान किसी से पिछा नहीं है। डिप्टी कमिशनर रवि भगत ने चोपड़ा परिवार को बधाई देते हुए कहा कि प्रशांत चोपड़ा ने अपनी प्रतिभा की बदौलत जिले का नाम रोशन किया है। जिला कांग्रेस कमेटी के प्रधान सुरिन्द्र कुमार गुप्ता,महासचिव साजन शर्मा ने भी प्रशांत के घर पहुंच कर उसके परिवारिक सदस्यों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि प्रशांत की क्रिकेट के प्रति समर्पित भावना के चलते पूरे देश को उसके क्रिकेट के क्षेत्र में उच्च मुकाम पर पहुंचने की उम्मीद है।

मैच को लेकर गुरेन्द्र में गांव में भी उत्साह

फरीदकोट। अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप के फाइनल मैच को लेकर रविवार को ऑस्ट्रेलियन टीम के गेंदबाज गुरेन्द्र संधू के पैतृक गांव हरदयालेआना में भी कापी उत्साह देखने को मिला । विदेशी टीम के माध्यम से अपने गांव के बेटे के इंटरनेशनल मैच में प्रदर्शन को देखने के लिए गांव के लोगों ने खासी दिलचस्पी दिखाई। फाइनल मैच में गुरेन्द्र संधू ने अपनी टीम को अहम योगदान दिया और उसने 10 ओवरों में मात्र 43 रन देकर भारतीय टीम के सेमीफाइनल में मैन आफ द मैच रहे बाबा अपराजित का विकेट झटका। ताया सुखदेव सिंह ने बताया कि उनके छोटे भाई इकबाल संधू के बड़े बेटे गुरेंदर संधू के खेलते हुए देख कर उनके परिवार को ही नहीं बल्कि पूरे गांव के लोगों ने खुशी का अहसास किया।

Spotlight

Most Read

Hapur

अब जिले में नहीं कटेंगे बूढ़े हो चुके फलदार वृक्ष

अब जिले में नहीं कटेंगे बूढ़े हो चुके फलदार वृक्ष

22 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: चंडीगढ़ का ये चेहरा देख चौंक उठेंगे आप!

‘द ग्रीन सिटी ऑफ इंडिया’ के नाम से मशहूर चंडीगढ़ में आकर्षक और खूबसूरत जगहों की कोई कमी नहीं है। ये शहर आधुनिक भारत का पहला योजनाबद्ध शहर है। लेकिन इस शहर को खूबसूरत बनाये रखने वाले मजदूर कैसे रहते हैं यह देख आप हैरान हो जायेंगे।

22 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper