बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
TRY NOW

नन्हीं छां के मुकाबले सुबेरा का गठन

Bathinda Updated Wed, 15 Aug 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
बठिंडा। अकाली दल सांसद हरसिमरत कौर बादल की ‘नन्हीं छां’ के मुकाबले पीपुल्स पार्टी आफ पंजाब ने अर्जुन बादल के नेतृत्व में ‘सुबेरा’ संस्था लांच की है। यह संस्था युवाओं की भलाई के लिए बनाई गई है। संस्था का शुभारंभ मंगलवार को यहां टीचर्स होम में आयोजित समारोह के दौरान किया गया। हालांकि अर्जुन बादल ने कहा कि यह गैर राजनीतिक संस्था है।
विज्ञापन

गौरतलब है कि अर्जुन बादल पीपीपी प्रमुख मनप्रीत बादल के पुत्र हैं। इसलिए इसे राजनीति से जोड़कर देखा जा रहा है। इस मौके पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए मनप्रीत सिंह बादल ने बताया कि सुबेरा तीन मुख्य लक्ष्य हैं। उन्होंने कहा कि युवा कौम की रीढ़ की हड्डी होते हैं। जिस समाज के युवा मजबूत हैं वह अपने आप मजबूत हो जाता है। उन्होंने युवाओं से अपील की कि वह सुबेरा से जुड़कर युवा वर्ग की भलाई में योगदान दें। उन्होंने सफाई दी कि नन्हीं छंा के मुकाबले सुबेरा का गठन नहीं किया गया है। इसका लक्ष्य भी नन्हीं छां से अलग है।

इस मौके पर समारोह क ो पार्टी के यूथ विंग के अध्यक्ष भगवंत मान, जिला अध्यक्ष सुखदेव सिंह चहल व अन्य नेताओं ने संबोधित किया।
सतलुज, रावी और ब्यास से शब्द लेकर बना सुबेरा
‘सुबेरा’ के अध्यक्ष अर्जुन बादल व महासचिव आजम जौहल ने कहा कि संस्था का नाम पंजाब के तीनों दरियाओं सतलुज, ब्यास व रावी से शब्द लेकर बनाया गया है। जिसका मकसद पंजाब के युवाओं को नशे की दलदल से निकालकर एक स्वच्छ समाज का सृजन करना है। इसके तहत युवाओं को नशे के दुष्प्रभावों के प्रति जागरूक किया जाएगा और उनके पुनर्वास के प्रबंध भी किए जाएंगे।
बराबरी वाला समाज बनाने का प्रयास होगा
दोनों पदाधिकारियों ने बताया कि ‘बच्चा, बच्चों के लिए’ कार्यक्रम तैयार किया गया है। जिसके तहत एक संपन्न परिवार व एक जरूरतमंद परिवार के बच्चों का मिलन करवाकर बराबरी वाला समाज बनाने का प्रयास किया जाएगा।
क्लबों और युवा केंद्रों का गठन करेंगे
संस्था की ओर से अधिक से अधिक क्लबों व युवा केंद्रों का गठन किया जाएगा। ये क्लब समाज भलाई विशेषकर युवाओं की भलाई के लिए ही काम करेंगे।
सुबेरा का लक्ष्य
पहला- युवाओं को नशे के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूक कर उन्हें नशामुक्त करना। दूसरा- जरूरतमंद बच्चों की शिक्षा का प्रबंध करना।
तीसरा- युवाओं की भलाई के लिए क्लबों का गठन करना।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X