भारत-पाक के मध्य मजबूत सांझ समय की जरूरत : राणा खान

Amritsar Updated Fri, 28 Dec 2012 05:30 AM IST
अमृतसर। एशिया में अमन और शांति कायम रखने के लिए भारत-पाकिस्तान के बीच मजबूत सांझ समय की जरूरत है। हमें पिछली गलतियों से सबक लेते हुए एक दूसरे के खिलाफ नफरत को खत्म करके दोस्ती का हाथ बढ़ाना चाहिए। यह विचार पाकिस्तानी पंजाब की विधानसभा के स्पीकर राणा मुहम्मद इकबाल खान ने वीरवार को अटारी-वाघा सड़क सीमा के रास्ते भारत पहुंचने पर व्यक्त किए। अटारी सीमा पर कैबिनेट मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया ने राणा खान का स्वागत किया । राणा खान अपने दोस्त के लड़के की शादी में शामिल होने के लिए भारत आए है। अटारी सीमा पर पंजाब पुलिस के जवानों की ओर से राणा खान को गार्ड आफ आनर भी पेश किया।
खान ने कहा कि दोनों देशों का भविष्य में इसी में है कि हम एक दूसरे की सहायता करें और दोनों देशों के मध्य कृषि, व्यापार, और संस्कृति भाईचारे को मजबूत करें। उन्होंने कहा कि हमें अपनी वीजा शर्तों को नरम करना चाहिए ताकि दोनो देशों के लोग एक दूसरे देश में आसानी से आ जा सकें। उन्होंने आशा प्रगट की है कि जल्दी ही बुजुर्ग लोगों के लिए एक दूसरे देश में आने जाने के लिए नई वीजा नीति लागू हो जाएगी।
राणा खान ने कहा कि भारत और पाक दोनों ही देशों के लोग बहुत मेहनती और माहिर है। हमे सिर्फ जरूरत आपसी सहयोग को बढ़ाने की है। ताकि हम एक दूसरे के तुर्जबे सांझे कर सकें। इस मौके पर केबिनेट मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया ने कहा कि दोनों देशों का आपस में बहुत गहरा रिश्ता है। आज जरूरत है कि दोनों देशों की सरकारों को आपसी सहयोग और व्यापार को बढ़ाया जाए। अगर भारत और पाक के मध्य व्यापार बढ़ता है तो इस से सब से अधिक फायदा पंजाब को होगा। इस दौरान डीसी रजत अग्रवाल, एसी जसदीप सिंह, पूर्व विधायक वीर सिह लोपोके, तहसीलदार मुकेश शर्मा आदि भी मौजूद थे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाले के तीसरे केस में लालू यादव दोषी करार, दोपहर 2 बजे बाद होगा सजा का ऐलान

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

इन बच्चियों ने समझाए 'लोहड़ी' के असल मायने

वैसे तो लोहड़ी का त्योहार देश के कई इलाकों में मनाया जाता है लेकिन पंजाब में लोहड़ी की एक अलग ही छटा दिखाई देती है।

13 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls