पांच सिंह साहिबान की बैठक आज

Amritsar Updated Fri, 23 Nov 2012 12:00 PM IST
अमृतसर। श्री अकाल तख्त साहिब पर शुक्रवार को होने वाली पांच सिंह साहिबान की बैठक इस बार अहम होने की संभावना है। इस में कई ऐसे महत्वपूर्ण मामलों पर विचार किये जाने की संभावना है जो इस समय सिख कौम में चर्चा और विवाद का विषय बने हुए हैं।
पांच सिंह साहिबान की बैठक शुक्रवार श्री अकाल तख्त साहिब के सचिवालय में सुबह करीब 11 बजे शुरू होगी। इस बैठक में यहां सिख धार्मिक लिटरेचर छापने वाले प्रकाशकों के संबंध में कोई फैसला लिया जा सकता है। वहीं प्रकाशकाें को बुलाकर उनका पक्ष भी सुना जाएगा। बैठक में श्री हरमंदिर साहिब के तत्कालीन मुख्यग्रंथी ज्ञानी जसविंदर सिंह की ओर से रहरास साहिब का गलत पाठ किए जाने का मामला भी गंभीरता से और विशेष रूप में विचारा जा रहा है। वहीं राजस्थान के एक कालेज के मामले पर भी बैठक में विचार की जा रही है।
श्री अकाल तख्त साहिब के सचिवालय में चर्चा के अनुसार दिल्ली के गुरुद्वारा रकाबगंज में गोलियां चलने व पगड़िया उतारे जाने की घटना के संबंध में बनाई गई तीन सदस्यों वाली कमेटी की जांच रिपोर्ट भी पांच सिंह साहिबान की ओर से विचार किया जाना था। परंतु कमेटी ने अपनी जांच मुकम्मल करने और रिपोर्ट पेश करने के लिए पांच दिसंबर तक का समय मांग लिया है जिस कारण अब इस मुद्दे पर शुक्रवार को शायद कोई विचार नहीं होगा। जबकि घटना वाले दिन श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी गुरबचन सिंह ने ऐलान किया था कि गुरुद्वारा रकाब गंज में हुई हिंसक झड़प की घटना के संबंध में विचार 23 नवंबर को होने वाली पांच सिंह साहिबान की बैठक में किया जाएगा।
बैठक में धार्मिक लिटरेचर प्रकाशित करने वाले प्रकाशकों संबंधी भी मर्यादा पर विचार होगा कि धार्मिक लिट्रेचर को किन नियमों के अनुसार देश विदेश में भेजा जा सके। इस संबंध में पहले भी कई बार नई नई नीतियां बन चुकी है। क्यों कि श्री गुरु ग्रंथ साहिब सतिकार कमेटी हमेशा ही लिट्रेचर भेजने वालों की कार्यप्रणाली पर प्रशभन लगाती रही है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

इन बच्चियों ने समझाए 'लोहड़ी' के असल मायने

वैसे तो लोहड़ी का त्योहार देश के कई इलाकों में मनाया जाता है लेकिन पंजाब में लोहड़ी की एक अलग ही छटा दिखाई देती है।

13 जनवरी 2018