मनोरंजन की खबरें
सुन सिनेमा

मनोरंजन दिनभर: बरामद हुआ बांग्लादेशी अभिनेत्री राइमा का शव, सुनिए हर बड़ी खबर

19 January 2022

Play
2:32
बॉलीवुड एक्टर फरदीन खान कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं। इसी साल 3 अप्रैल को लास वेगास के एमजीएम ग्रैंड गार्डन एरीना में ग्रैमी अवार्ड्स का आयोजन होने जा रहा है। बांग्लादेशी अभिनेत्री राइमा इस्लाम शिमू का शव  बोरे में मिला है, पिछले दिनों कथित तौर पर इनके लापता होने की आईं थीं। 

मनोरंजन दिनभर: बरामद हुआ बांग्लादेशी अभिनेत्री राइमा का शव, सुनिए हर बड़ी खबर

1.0x
  • 1.5x
  • 1.25x
  • 1.0x
10
10
X

सभी 320 एपिसोड

आज बात होगी मखमली आवाज से नवाजे गए सदाबहार गायक मोहम्मद रफी और नैसर्गिक प्रतिभा के धनी गायक किशोर कुमार की। हमेशा इस बात पर बहस होती है कि दोनों गायकों में बेहतर कौन था और दोनों एकदूसरे को अंदरखाने पसंद नहीं करते थे। क्या सच में ऐसा था..

आज हम बात करेंगे अल्लू अर्जुन की हालिया सुपरहिट फिल्म पुष्पा की. बताएंगे कि कैसे महामारी के दौर में इसे बनाया गया और अल्लू अर्जुन से पहले पुष्पा का किरदार किस अभिनेता को दिया गया था. और सिर्फ एक गाने के लिए सामंथा अक्किनेनी ने उतनी फीस ले ली जितनी बॉलीवुड अभिनेत्रियों को पूरी फिल्म के लिए मिलती है...तो चलिए शुरू करते हैं। 17 दिसंबर 2021 को रिलीज हुई फिल्म पुष्पा-द राइज ने भारतीय सिनेमा में जो इतिहास रचा वो हमेशा के लिए याद किया जाता रहेगा। पुष्पा को लिखा और निर्देशित किया है सुकुमार ने और मुख्य भूमिकाओं में नजर आए हैं अल्लू अर्जुन, रश्मिका मंदाना, फहद फाजिल आदि...यह फिल्म अल्लू अर्जुन-सुकुमार की जोड़ी की तीसरी फिल्म है। इस जोड़ी ने दो सुपरहिट फिल्में आर्य और आर्य 2 दी हैं, दोनों म्यूजिकल हिट थीं और आर्य तो ब्लॉकबस्टर बनी थी. शुरुआत में निर्देशक सुकुमार पुष्पा पर वेबसीरीज बनाना चाहते थे लेकिन बाद में उन्होंने अपना विचार बदल दिया और फिल्म को 2 भागों में बनाने का फैसला किया।

आज बात करेंगे 12 मार्च 1971 में आई फिल्म आनंद की. इस ड्रामा फिल्म के निर्देशक थे ऋषिकेश मुखर्जी और इसकी कहानी और संवाद गुलजार ने लिखे थे. आनंद में मुख्य भूमिकाओं में थे राजेश खन्ना, अमिताभ बच्चन, सुमिता सान्याल, रमेश देव और सीमा देव...गीत लिखे थे योगेश और गुलजार ने और संगीत दिया था सलिल चौधरी ने...ये अमिताभ बच्चन के करियर की पहली हिट फिल्म भी थी. फिल्म के निर्देशक ऋषिकेश मुखर्जी ने अपने जिगरी दोस्त राज कपूर को ध्यान में रखते हुए 1954 में आनंद की कहानी लिखनी शुरू की थी। यह फिल्म राज कपूर के साथ उनकी दोस्ती पर आधारित है। फिल्म का मशहूर डायलॉग बाबू मोशाय तो आपको याद ही होगा. बाबू मोशाई शब्द का अर्थ है महान सज्जन. राज कपूर अक्सर इस शब्द से ऋषिकेश मुखर्जी को प्यार से संबोधित करते थे और इन्हीं शब्दों को मुखर्जी ने फिल्म में राजेश खन्ना का तकिया कलाम बना दिया...

2007 में आई फिल्म भूल भुलैया का निर्देशन किया था प्रियदर्शन ने। ये वो दौर था जम कॉमेडी फिल्में में प्रियदर्शन की तूती बोल रही थी. दरअसल फिल्म भूल भुलैया 1993 में आई मलयालम फिल्म मणिचित्रथजु की हिंदी रीमेक थी, जिसमें मोहन कुमार और शोभना मुख्य किरदारों में थे और शोभना ने इस फिल्म में अपने अभिनय के लिए राष्ट्रीय पुरस्कार भी जीता था. इस फिल्म को बनाया था मलयालम फिल्मों के प्रसिद्ध निर्देशक फाजिल ने. फाजिल मलयालय फिल्मों के मशहूर अभिनेता फहद फाजिल के पिता है और फहद फाजिल को तो आप फिल्म पुष्पा में एसपी भंवर सिंह शेखावत के रोल में देख ही चुके होंगे। खैर निर्देशक प्रियदर्शन ने मूल फिल्म मणिचित्रथजु में सहायक निर्देशक के रूप में काम किया...फिल्म की सफलता को देखते हुए प्रियदर्शन ने इसका हिंदी रीमेक का फैसला किया। मुख्य किरदार में अक्षय कुमार उनकी पहली पसंद थे क्योंकि अक्षय कुमार उनके साथ पहले भी तीन फिल्में कर चुके थे।

16 अक्टूबर 1998 को रिलीज हुई करण जौहर द्वारा निर्देशित फिल्म कुछ-कुछ होता है ने हिंदी फिल्मों को एक नया आयाम दिया. फिल्म में मुख्य भूमिकाएं निभाई थीं शाहरुख खान, काजोल, रानी मुखर्जी और सलमान खान ने. फिल्म में संगीत दिया था जतिन-ललित ने जो आज भी खूब गुनगुनाया जाता है..कुछ कुछ होता है पहली बॉलीवुड फिल्म बनी, जिसने प्रमुख अभिनय श्रेणियों के लिए सभी फिल्मफेयर पुरस्कार जीते थे. तो चलिए बताते हैं इस फिल्म से जुड़ी दिलचस्प बातें...

11 नवंबर 2011 को रिलीज हुई इम्तियाज अली निर्देशित फिल्म रॉकस्टार में रणबीर कपूर और नरगिस फाकरी मुख्य भूमिकाओं में थे। फिल्म में संगीत दिया था ए आर रहमान ने और गीत लिखे थे इरशाद कामिल ने. तो चलिए आपको बताते हैं फिल्म रॉकस्टार से जुड़ी दिलचस्प बातें. इम्तियाज अली ने 2007 में जब वी मेट के बाद रॉकस्टार और लव आजकल की पटकथा लिखनी शुरू की थी, और मूल रूप से रॉकस्टार के मुख्य किरदार जॉर्डन की भूमिका के लिए ऋतिक रोशन उनके दिमाग में थे, हालांकि ऋतिक रोशन ने मना कर दिया, क्योंकि उन्हें यह पसंद नहीं था कि फिल्म में जॉर्डन की मौत हो जाए. रितिक का ये भी मानना था कि स्क्रिप्ट जॉर्डन और हीर के बीच के प्यार पर कम और एक संगीतकार के बनने और बिगड़ने पर ज्यादा केंद्रित है। फिर अली ने रॉकस्टार की कहानी सैफ अली खान को सुनाई. सैफ के सामने दो फिल्मों रॉकस्टार और लव आजकल की कहानियां थीं. सैफ को भी रॉकस्टार पसंद नहीं आई और उन्होंने लव आजकल चुनी. इसके बाद इम्तियाज अली लव आजकल बनाने में जुट गए लेकिन उनके दिमाग से रॉकस्टार की कहानी नहीं गई.

आज हम बात करेंगे अपने जमाने के मशहूर हास्य अभिनेता देवेन वर्मा की. आज भले ही वो हमारे बीच नहीं हैं लेकिन उनकी दमदार एक्टिंग का लोहा लोग आज भी मानते हैं। देवेन वर्मा ने 42 साल तक बॉलीवुड में काम किया और बाद में एक्टिंग से खुद ही अपने आप को अलग कर लिया। एक इंटरव्यू के दौरान देवेन ने एक्टिंग से किनारा करने की वजह बदलती तहजीब को बताया था। देवेन ने एक्टिंग से तो किनारा कर लिया था लेकिन फिल्मों से अपना जुड़ाव कम नहीं कर पाए थे। इसी वजह से देवेन ने डायरेक्टर और प्रोड्यूसर के तौर पर भी फिल्म इंडस्ट्री में योगदान दिया।
 

आज की कहानी है हिंदी सिनेमा की पहली महिला हास्य अभिनेत्री की...दिमाग लगाइए और बताइए वो कौन हो सकती हैं...जाने अनजाने में हम आज भी उनका नाम किसी को चिढ़ाने के लिहाज से जबान पर ले ही आते हैं...आज की पीढ़ी भले ही उन्हें न जानती हो लेकिन टुनटुन नाम से वो वाकिफ जरूर होगी...जी हां हम बात कर रहे हैं अपने जमाने की मशहूर अदाकारा टुनटुन की...

दोस्तों आज बात होगी हिंदी सिनेमा की कल्ट फिल्मों में शुमार फिल्म जाने भी दो यारों की। फिल्म में मुख्य भूमिकाओं में थे नसीरुद्दीन शाह, रवि बासवानी, ओम पुरी, पंकज कपूर और सतीश शाह...कुंदन शाह द्वारा निर्देशित और एनएफडीसी द्वारा निर्मित 1983 में रिलीज हुई जाने भी दो यारों एक सटायर फिल्म है, जो भारतीय राजनीति, नौकरशाही, समाचार मीडिया और व्यापार में व्याप्त भ्रष्टाचार पर चोट करती है। रिलीज होने पर यह फिल्म फ्लॉप हो गई थी क्योंकि इसमें अमिताभ और धर्मेंद्र से बड़े कलाकार नहीं थे लेकिन समय के साथ ये फिल्म कल्ट बन गई। तो चलिए सुनाते हैं इस फिल्म से जुड़ीं कुछ अनसुनी बातें

 जब वी मेट बॉलीवुड की सबसे लोकप्रिय रोमांटिक फिल्मों में से एक है। 25 अक्तूबर 2007 को रिलीज हुई इस फिल्म ने शाहिद कपूर और करीना कपूर को एक अलग पहचान दिलाई थी, करीना कपूर का किरदार, गीत ढिल्लों बॉलीवुड के लोकप्रिय किरदारों में शुमार हुआ लेकिन क्या आप जानते हैं कि इस किरदार के लिए निर्देशक इम्तियाज अली की पहली पसंद करीना नहीं थीं और न ही शाहिद कपूर फिल्म का हिस्सा था..तो चलिए बताते हैं जब वी मेट से जुड़ीं कुछ दिलचस्प बातें... 

आवाज

  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00