चकाई

Amreesh KumarAmreesh Kumar Updated Tue, 13 Oct 2015 03:22 PM IST
विज्ञापन
Chakai Vidhan Sabha

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
जमुई जिले की चकाई सीट पर एक बार फिर त्रिकोणीय मुकाबला है। पिछली बार की तरह ही इस बार भी वही तीन चेहरे मैदान में हैं। बस फर्क इतना है कि कुछ के दल बदल गए हैं। जैसे पिछली बार भाजपा के टिकट पर लड़े फाल्गुनी प्रसाद की मौत के बाद उनकी पत्नी सावित्री देवी राजद का दामन थाम कर चुनावी मैदान में हैं तो पिछली बार झारखंड मुक्ति मोर्चा के टिकट पर जीते सुमित कुमार इस बार निर्दलीय ही मैदान में हैं। जबकि पिछली बार बहुत मामूली अंतर से हार का मुंह देखने वाले लोक जनशक्ति पार्टी के विजय सिंह इस बार फिर मैदान में हैं। इस सीट पर इसलिए भी सबकी निगाहें रहेंगी क्योंकि भाजपा ने यहां से अपने दिग्गज नेता फाल्गुनी प्रसाद की बीवी को टिकट नहीं दिया तो उन्होंने बागी होकर लालू यादव के राजद का दामन थाम लिया। लालू ने भी मौके की नजाकत को भांपते हुए उन्हें टिकट भी दे दिया। 
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X
  • Downloads

Follow Us